Homeअन्य ख़बरेंकारोबारदेश के किसी भी कोने में राशन ले सकेंगे, 17 राज्यों ने...

देश के किसी भी कोने में राशन ले सकेंगे, 17 राज्यों ने लागू किया ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) सिस्टम

  • देश के किसी भी कोने में राशन ले सकेंगे, 17 राज्यों ने लागू किया ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) सिस्टम
  • उत्तराखंड ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) सुधार को लागू करने वाला 11 वां राज्य बन गया है।

वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने गुरुवार को कहा कि 17 राज्यों ने ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) प्रणाली लागू की है। उत्तराखंड इस योजना में शामिल होने वाले राज्यों में नवीनतम नाम है।

राज्य GSDP के 0.25 प्रतिशत के अतिरिक्त ऋण के पात्र बन जाते हैं

जिन राज्यों ने ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ प्रणाली जैसे महत्वपूर्ण सुधार किए हैं, वे अपने सकल राज्य घरेलू उत्पाद (Gross State Domestic Product) के 0.25 प्रतिशत तक के अतिरिक्त ऋण के पात्र बन जाते हैं। इस प्रणाली के तहत, राशन कार्ड धारक देश के किसी भी राशन दुकान से राशन का अपना हिस्सा ले सकते हैं।

ये भी पढ़े:- बैंक जाने की समस्या खत्म हो गई है, आपका बैंक SBI की इस सेवा के साथ घर पहुंच जाएगा

राज्यों को 37,600 करोड़ रुपये का अतिरिक्त ऋण लेने की अनुमति मिली

मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, तदनुसार, इन राज्यों को अभियान विभाग द्वारा 37,600 करोड़ रुपये का अतिरिक्त ऋण लेने की अनुमति दी गई है। वन नेशन-वन राशन कार्ड प्रणाली के कार्यान्वयन के साथ, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (National Food Security Act) और अन्य कल्याणकारी योजनाएं, विशेष रूप से प्रवासी श्रमिकों और उनके परिवारों के लिए, देश में कहीं भी उचित मूल्य की दुकान (Fair Price Shop) पर लाभार्थियों को राशन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाती है।

ये सुधार विशेष रूप से प्रवासी आबादी को अधिकांशतः मजदूरों, दैनिक भत्ता श्रमिकों, कचरा हटाने, सड़क पर काम करने वालों, संगठित और असंगठित क्षेत्रों में अस्थायी श्रमिकों, घरेलू श्रमिकों आदि को खाद्य सुरक्षा के मामले में सशक्त करते हैं।

ये भी पढ़े:- EPFO से जुड़ी हर समस्या का अब होगा फटाफट समाधान, इन व्हाट्सएप नंबरों पर करें तुरंत शिकायत

17 मई 2020 को भारत सरकार ने कोविद -19 महामारी के बाद पैदा हुई कई चुनौतियों को पूरा करने के लिए संसाधन की आवश्यकता को देखते हुए राज्यों की उधार सीमा को अपने जीएसडीपी के दो प्रतिशत तक बढ़ा दिया। इस विशेष वितरण का आधा (जीएसडीपी का एक प्रतिशत) राज्यों द्वारा नागरिक-केंद्रित सुधारों से जुड़ा था।

अभियान विभाग द्वारा पहचाने जाने वाले सुधारों के लिए चार नागरिक केंद्रित क्षेत्र थे – वन नेशन-वन राशन कार्ड प्रणाली का कार्यान्वयन, व्यापार सुधार करने में आसानी, शहरी स्थानीय निकाय और उपयोगिता सुधार और बिजली क्षेत्र में सुधार।

ये भी पढ़े:- अब SBI आपकी शादी में मदद करेगा, आपको आसानी से पैसा मिलेगा, इस योजना के बारे में सबकुछ जानिए

ये भी पढ़े:-15 अप्रैल तक किसान क्रेडिट कार्ड बनेगा, केसीसी (KCC) बनाने के लिए ये दस्तावेज जरूरी हैं

Talkaaj: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Talkaaj ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Talkaaj टेलीग्राम पेज लाइक करें

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Talkaaj फेसबुक पेज लाइक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments