Home टेक ज्ञान केंद्र की WI-FI योजना से 2 करोड़ लोगों को मिलेगा रोजगार, जानिए...

केंद्र की WI-FI योजना से 2 करोड़ लोगों को मिलेगा रोजगार, जानिए PM-WANI के बारे में सबकुछ

केंद्र की WI-FI योजना से 2 करोड़ लोगों को मिलेगा रोजगार, जानिए PM-WANI के बारे में सबकुछ

टेक न्यूज़: देश में वाई-फाई क्रांति (Wi-fi revolution) के लिए PM Modi की अध्यक्षता में कैबिनेट द्वारा PM-Public Wi-Fi Access Network Interface (PM-WANI) योजना को मंजूरी दी गई थी। इस योजना के लागू होने के बाद आम आदमी को इंटरनेट (Internet) के लिए किसी बड़ी कंपनी की योजना की जरूरत नहीं होगी।

ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम के अध्यक्ष टीवी रामचंद्रन ने कहा कि पीएम वानी योजना से देश में 2 करोड़ नौकरियां पैदा होंगी। इसके साथ ही देश में इंटरनेट (Internet) की बेहतर कनेक्टिविटी भी बढ़ेगी। इसके साथ ही, उन्होंने सार्वजनिक वाई-फाई मॉडल पर चिंताओं पर काबू पाया और कहा कि सरकार ने कई बार अपनी प्रतिबद्धता को पूरा किया है।

ये भी पढ़े:- Big News: 1 जनवरी 2021 से इन स्मार्टफोन्स पर बंद हो जाएगा WhatsApp, देखें आपका फोन लिस्ट में ..

जिसमें सुरक्षित डेटा का उपयोग भी शामिल है। साथ ही उन्होंने मोबाइल डेटा की कीमतों में वृद्धि पर कहा, आने वाले समय में मोबाइल डेटा 30 से 40 प्रतिशत अधिक महंगा होगा। जिसके माध्यम से आम आदमी को PM WANI योजना के तहत सस्ती वाई-फाई हॉटस्पॉट की सुविधा मिलेगी। इसके साथ, ये योजनाएं आने वाले समय में सार्वजनिक संपर्क का एक किफायती साधन साबित हो सकती हैं।

क्या है PM WANI स्कीम?

PM-Public Wi-Fi Access Network Interface (PM-WANI) योजना को देश में वाई-फाई क्रांति के लिए पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने मंजूरी दी थी। इस योजना के लागू होने के बाद आम आदमी को इंटरनेट के लिए किसी बड़ी कंपनी की योजना की जरूरत नहीं होगी।

ये भी पढ़े:- Good News : ग्रेजुएट की छात्राओं को 50-50 हजार रुपये देगी सरकार, जानिए कैसे उठाएं लाभ

वहीं, तेज रफ्तार इंटरनेट वाई-फाई क्रांति के साथ देश के दूरदराज के क्षेत्रों में उपलब्ध होगा। आपको बता दें कि सरकार इस योजना में तीन स्तरों पर काम करेगी। जिसमें सार्वजनिक डेटा कार्यालय, सार्वजनिक डेटा एग्रीगेटर और ऐप प्रदाता शामिल होंगे।

सार्वजनिक डेटा कार्यालय क्या है?

आप में से कई लोगों ने पीसीओ बूथ देखे होंगे। जो चाय की दुकान, नाश्ते की दुकान या सड़क के किनारे एक छोटे से कोने में बनाया जाता था। उसी तरह, सरकार देश भर में सार्वजनिक डेटा कार्यालयों का निर्माण करने जा रही है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के मुताबिक, पब्लिक डेटा ऑफिस के लिए लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन और किसी तरह की फीस की जरूरत नहीं होगी।

उनके अनुसार, सार्वजनिक डेटा कार्यालय मोबाइल फोन पर इंटरनेट का उपयोग करने के लिए वाई-फाई सेवा प्रदान करने के लिए काम करेंगे। रविशंकर प्रसाद के अनुसार, कोई भी व्यक्ति पीडीओ कार्यालय खोल सकता है, और इसे चलाने के लिए वह किसी भी इंटरनेट सेवा कंपनी या अन्य से सुविधा ले सकता है।

ये भी पढ़े:- WhiteHat Jr, जो ऑनलाइन कोडिंग सिखाता है, भारत में एक लाख शिक्षकों को नौकरी प्रदान करेगा

सार्वजनिक डेटा एग्रीगेटर

वे इस प्रणाली में सामंजस्य बनाए रखने के लिए काम करेंगे। पब्लिक डेटा ऑफिस अकाउंट का हिसाब रखेंगे। सरकार 7 दिनों के भीतर पब्लिक डेटा एग्रीगेटर को लाइसेंस देगी। पंजीकरण को लाइसेंस माना जाएगा।

एप्लिकेशन प्रदाता

भारत को ऐप्स के इस्तेमाल के हिसाब से देखा जाना चाहिए। इसलिए हम दुनिया के सबसे बड़े बाजार हैं। इसलिए, सरकार ऐप अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए एक सप्ताह के भीतर ऐप प्रदाता को पंजीकृत करेगी। इसके साथ ही ऐप स्टोर के साथ किसी भी ऐप को वेबसाइट पर रखा जाएगा। जो पीडीओ से वाई-फाई के जरिए आसानी से आप तक पहुंच सकेगा।

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार ने दी मंजूरी, 1 जनवरी से बदल जाएगा आपका Mobile Number, ये बदलाव होंगे बड़े

सार्वजनिक डेटा कार्यालय कैसे खोलें

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के अनुसार, कोई भी कंपनी, सोसायटी, देश का एक दुकानदार सार्वजनिक वाई-फाई एक्सेस पॉइंट बना सकता है। जिसकी मदद से आप लाखों लोगों तक वाई-फाई, हॉटस्पॉट की सुविधा पहुंचा सकेंगे।

वाई-फाई क्रांति के लाभ

आज जब हम अपने आसपास देखते हैं। इसलिए हम इंटरनेट की मदद के बिना शायद ही कोई काम देखते हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य और व्यवसाय में इंटरनेट का उपयोग तेजी से बढ़ा है। ऐसे में देश में वाई-फाई क्रांति से सूचनाओं के आदान-प्रदान में तेजी आएगी। इससे देश के दूरदराज के क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

ये भी पढ़े:- 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments