Homeअन्य ख़बरेंशिक्षाAICTE ने हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग की पढ़ाई...

AICTE ने हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने की अनुमति दे दी है

AICTE ने हिंदी के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने की अनुमति दे दी है

इंजीनियरिंग अब हिंदी समेत अन्य सभी भारतीय भाषाओं में पढ़ाई जाएगी। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने फिलहाल नए शैक्षणिक सत्र से इसे हिंदी समेत आठ भारतीय भाषाओं में पढ़ाने की मंजूरी दे दी है।

नई दिल्ली इंजीनियरिंग (Engineering) अब हिंदी समेत अन्य सभी भारतीय भाषाओं में पढ़ाई जाएगी। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) ने फिलहाल नए शैक्षणिक सत्र से इसे हिंदी समेत आठ भारतीय भाषाओं में पढ़ाने की मंजूरी दे दी है। आने वाले दिनों में एआईसीटीई ने इसे लगभग 11 भारतीय भाषाओं में पढ़ाने की योजना बनाई है। इस बीच, जिन अन्य सात भारतीय भाषाओं को हिंदी के साथ पढ़ाने की मंजूरी दी गई है, उनमें मराठी, बंगाली, तेलुगु, तमिल, गुजराती, कन्नड़ और मलयालम शामिल हैं।

यह भी पढ़े:- WhatsApp Privacy: WhatsApp में अब दिखेगा रेड टिक, मैसेज पढ़ेगी सरकार, जानिए वायरल मैसेज की सच्चाई

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भाषा पर भी जोर

एआईसीटीई (AICTE) ने यह पहल ऐसे समय में की है जब जर्मनी, रूस, फ्रांस, जापान और चीन समेत दर्जनों देशों में स्थानीय भाषाओं में शिक्षा दी जा रही है। हाल ही में देश में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भारतीय भाषाओं के अध्ययन पर जोर दिया गया है।

ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को होगा फायदा

सरकार का मानना ​​है कि स्थानीय भाषाओं में पढ़ने से बच्चे सभी विषयों को बेहतर तरीके से आसानी से सीख सकते हैं। अंग्रेजी या किसी अन्य भाषा में पढ़ते समय उन्हें परेशानी होती है। इस पहल से ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों के बच्चों को सबसे ज्यादा फायदा होगा, क्योंकि वर्तमान समय में ये पाठ्यक्रम अंग्रेजी भाषा में होने के कारण पढ़ाई से पीछे हट जाते हैं।

स्थानीय भाषाओं में भी 11 कोर्स

एआईसीटीई (AICTE) के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल सहस्रबुद्धे के अनुसार नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सिफारिशों को आगे बढ़ाते हुए इस पहल को आगे बढ़ाया गया है। फिलहाल इसे हिंदी समेत केवल आठ स्थानीय भारतीय भाषाओं में पढ़ाने की अनुमति दी गई है। आने वाले दिनों में 11 स्थानीय भाषाओं में भी इंजीनियरिंग कोर्स की पढ़ाई की सुविधा होगी।

यह भी पढ़े:- मैसेज Forward करना डाल सकता है मुश्किल में, जानिए क्या है WhatsApp Traceability 7 Points में

14 इंजीनियरिंग कॉलेजों ने मांगी अनुमति

प्रोफेसर सहस्रबुद्धे के मुताबिक अब तक 14 इंजीनियरिंग कॉलेजों ने हिंदी समेत पांच स्थानीय भाषाओं में पढ़ाने की अनुमति मांगी है, जहां से हम इसे शुरू करने जा रहे हैं. इन सभी भाषाओं में पाठ्यक्रम तैयार करने का काम शुरू कर दिया गया है। प्रथम वर्ष का पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कुछ संस्थानों में पिछले कई सालों से इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में की जा रही है. अब इसका विस्तार कर दिया गया है।

यह भी पढ़े:- ये भूल WhatsApp पर कभी ना करें , थोड़ी सी नादानी की मिल सकती है बड़ी सज़ा

सॉफ्टवेयर की मदद से तैयार किया जा रहा कोर्स

हिंदी समेत आठ स्थानीय भारतीय भाषाओं में इंजीनियरिंग (Engineering) कोर्स शुरू करने की अनुमति से एआईसीटीई ने इन सभी भाषाओं में कोर्स की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा रहा है, जो 22 भारतीय भाषाओं में अनुवाद करने में सक्षम है। इसकी मदद से वह तेजी से पाठ्यक्रम का अंग्रेजी में अनुवाद कर सकता है। एआईसीटीई ने हाल ही में अपनी तरह का यह नया सॉफ्टवेयर विकसित किया है।

यह भी पढ़े:- Whatsapp में आया कमाल का फीचर, एक फोन से दूसरे में ट्रांसफर करें चैट

इस आर्टिकल को शेयर करें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments