Homeटेक ज्ञानQR Code स्कैन करने वाले रहें सावधान, SBI ने जारी की यह...

QR Code स्कैन करने वाले रहें सावधान, SBI ने जारी की यह चेतावनी

QR Code स्कैन करने वाले रहें सावधान, SBI ने जारी की यह चेतावनी

न्यूज़ डेस्क :- SBI ने यूजर्स को अलर्ट किया है कि पैसे प्राप्त करने के लिए QR Code का इस्तेमाल कभी नहीं किया जाता है। इसलिए अगर कोई आपसे पैसे लेने के लिए QR Code स्कैन करने के लिए कहता है तो ऐसा करने से बचें। जानिए इससे जुड़ी अहम बातें।

आज के दौर में कॉन्टैक्टलेस पेमेंट (Contactless Payment) के चलते QR कोड का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है। क्यूआर कोड के बढ़ते इस्तेमाल के साथ इससे जुड़े खतरे भी बढ़ने लगे हैं। QR कोड ने ऑनलाइन भुगतान की प्रक्रिया को बहुत आसान बना दिया है। हालांकि कुछ लोग इसका इस्तेमाल दूसरों को ठगने के लिए कर रहे हैं। SBI ने यूजर्स को अलर्ट किया है कि पैसे प्राप्त करने के लिए QR Code का इस्तेमाल कभी नहीं किया जाता है। इसलिए अगर कोई पैसे लेने के लिए क्यूआर कोड स्कैन करने के लिए कहता है तो ऐसा करने से बचें। अगर आप QR कोड से पेमेंट करते हैं तो जान लें इससे जुड़ी अहम बातें।

इन दिनों पेट्रोल पंप पर जाते हैं, दुकान पर जाते हैं या दूध लेते हैं, भुगतान के लिए हर जगह QR कोड (क्विक रिस्पांस) का इस्तेमाल किया जाता है। एक है कॉन्टैक्टलेस पेमेंट सिस्टम, दूसरा है पेमेंट करना भी सुविधाजनक। इसलिए लोग QR कोड के जरिए भुगतान करना पसंद कर रहे हैं। साथ ही कैश ले जाने का झंझट भी बच जाता है। लेकिन इन दिनों फ्रॉड के लिए QR Code का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

यह भी पढ़िए |  Atal Pension Yojana : सिर्फ 420 रुपये देकर हर महीने पाएं 10 हजार रुपये, जानिए क्या है ये खास योजना?

SBI ने अपने यूजर्स को अलर्ट किया है कि पैसे प्राप्त करने के लिए QR Code का इस्तेमाल कभी नहीं किया जाता है। आपको बता दें कि QR Code एक तरह की स्टैटिक इमेज है, इसे हैक नहीं किया जा सकता है, लेकिन ठग इसे धोखे से बदल सकते हैं या आपको लालच देकर क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।

क्यूआर कोड स्कैन करने के बाद भी, अपना यूपीआई पिन तब तक दर्ज न करें जब तक आप पैसे नहीं भेजना चाहते। आपको बता दें कि पैसे पाने के लिए आपको अपना यूपीआई पिन डालने की जरूरत नहीं है। इसलिए आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप QR Code का इस्तेमाल सिर्फ पैसे भेजने के लिए कर सकते हैं न कि पैसे पाने के लिए। जब भी आपसे एक निश्चित राशि भेजने के लिए कहा जाए, तो Google Pay, BHIM, SBI Yono योनो आदि जैसे UPI ऐप्स का उपयोग करके QR Code को स्कैन करें और फिर लेन-देन की पुष्टि करने के लिए राशि और अपना UPI पिन दर्ज करें।

क्यूआर कोड क्या है?

QR का मतलब त्वरित प्रतिक्रिया है। क्यूआर कोड देखने में आसान लग सकता है, लेकिन यह अपने अंदर ढेर सारा डेटा स्टोर करने में सक्षम है। क्यूआर कोड के अंदर कितना भी डेटा क्यों न हो, उसे स्कैन करने के तुरंत बाद एक्सेस किया जा सकता है। इसलिए इसे Quick Response Code भी कहते हैं। QR Code एक प्रकार का Barcode होता है जिसे डिजिटल डिवाइस द्वारा आसानी से पढ़ा जा सकता है। क्यूआर कोड का उपयोग उत्पाद के बारे में जानकारी ट्रैक करने के लिए किया जाता है।

यह भी पढ़िए | Ayushman Bharat Yojana: आयुष्मान भारत योजना के तहत कई डिजिटल सेवाएं शुरू, अब तक 2.2 करोड़ लोगों को हुआ फायदा, जानिए कैसे मिलेगा मुफ्त इलाज

आजकल कई स्मार्टफोन में एक इन-बिल्ट क्यूआर रीडर होता है, जिसका इस्तेमाल अक्सर मार्केटिंग और विज्ञापन अभियानों के लिए किया जाता है। पहली QR Code प्रणाली का आविष्कार 1994 में टोयोटा की सहायक जापानी कंपनी डेंसो वेव द्वारा किया गया था। निर्माण प्रक्रिया के दौरान वाहनों और पुर्जों को ट्रैक करने के लिए उन्हें अधिक सटीक तरीके की आवश्यकता थी। इसलिए उन्होंने एक प्रकार का बारकोड विकसित किया।

Barcode और QR Code में क्या होता है फर्क?

बारकोड और क्यूआर कोड के बीच का अंतर यह है कि मानक Barcode को केवल एक दिशा में पढ़ा जा सकता है – ऊपर से नीचे तक। इसका मतलब है कि यह केवल थोड़ी मात्रा में जानकारी संग्रहीत कर सकता है। वे आमतौर पर अल्फ़ान्यूमेरिक प्रारूप में होते हैं, लेकिन क्यूआर कोड दो दिशाओं में पढ़े जाते हैं – ऊपर से नीचे और दाएं से बाएं। इसमें ढेर सारा डाटा स्टोर करने की सुविधा है। QR Code वेबसाइट URL, फोन नंबर या टेक्स्ट सहित 4,000 अक्षरों तक स्टोर कर सकते हैं।

हम क्यूआर कोड का उपयोग क्यों करते हैं?

भुगतान करने के अलावा, क्यूआर कोड का उपयोग ऐप डाउनलोड करने, ऑनलाइन खातों को प्रमाणित करने और लॉगिन विवरण सत्यापित करने के लिए भी किया जा सकता है। QR कोड विकसित करने के पीछे का उद्देश्य समय बर्बाद करना नहीं था। डेंसो वेव ने अपना QR कोड सार्वजनिक रूप से उपलब्ध कराया और घोषणा की कि वे अपने पेटेंट अधिकारों का प्रयोग नहीं करेंगे। इसका मतलब था कि कोई भी QR Code बना और इस्तेमाल कर सकता था।

यह भी पढ़िए | Amul, Post office या Aadhar की फ्रेंचाइजी (Franchise) लेकर अपना कारोबार शुरू करें हर महीने लाखों की कमाई, तरीका जानिए

क्या क्यूआर कोड सुरक्षित है?

क्यूआर कोड एक स्थिर छवि है, जिसे हैक नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसे कोई भी आसानी से बदल सकता है। क्यूआर कोड के साथ सबसे बड़ा जोखिम यह है कि जब तक आप इसे स्कैन नहीं करेंगे तब तक आपको पता नहीं चलेगा कि कोड के पीछे क्या है। आज विभिन्न प्रकार की वस्तुओं और सेवाओं के भुगतान के लिए QR Code का उपयोग किया जा रहा है, जहां उपयोगकर्ता केवल अपने बैंकिंग ऐप से QR Code को स्कैन करता है। यहां जालसाज क्यूआर कोड जनरेट कर सकता है। यदि स्कैन विश्वसनीय स्रोत नहीं दिखाता है, तो भुगतान से बचना चाहिए।

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments