HomeदेशBig News : दो से ज्यादा बच्चे हुए तो सरकारी योजनाओं का...

Big News : दो से ज्यादा बच्चे हुए तो सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा

Big News : दो से ज्यादा बच्चे हुए तो सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा, CM हेमंत बिस्वा सरमा ने किया ऐलान

असम की भाजपा सरकार ने दो बच्चों की नीति की सरकारी योजनाओं को आगे बढ़ाने का फैसला किया है। इस बात की जानकारी खुद सीएम हेमंत बिस्वा सरमा (CM Hemant Biswa Sarma) ने दी है।

मुख्य बातें

  • असम के सीएम का बयान- दो से ज्यादा बच्चे हैं तो सरकारी योजनाओं का नहीं है फायदा!
  • कुछ विशेष सरकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए दो संतान नीति लागू करेगी सरकार- सरमा
  • उत्तर प्रदेश सरकार भी इसी तरह का नियम लागू करने की दिशा में आगे बढ़ रही है.

गुवाहाटी: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (CM Hemant Biswa Sarma) ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने शनिवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि राज्य में दो से अधिक बच्चों के माता-पिता सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित हो सकते हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि सरकार ‘two child policy’ को चरणबद्ध तरीके से लागू करेगी और इसे राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ उठाने के लिए लागू किया जाएगा। उनके इस फैसले की विपक्ष ने आलोचना की है।

यह भी पढ़िए:- इन 8 Dangerous Apps को अपने Phone से तुरंत करें Delete, नहीं तो चुरा लेगा सारा 

नीति इन पर लागू नहीं होगी

हेमंत बिस्वा सरमा (CM Hemant Biswa Sarma) ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए हम धीरे-धीरे टू चाइल्ड पॉलिसी को अपनाएंगे। आप इसे एक घोषणा मान सकते हैं। कर्जमाफी हो या अन्य सरकारी योजनाएं, जनसंख्या मानदंडों को ध्यान में रखा जाएगा। यह चाय बागान श्रमिकों/एससी-एसटी समुदाय पर लागू नहीं होगा। भविष्य में, जनसंख्या मानदंडों को सरकारी लाभों के लिए पात्रता के रूप में शामिल किया जाएगा। जनसंख्या नीति शुरू हो गई है। इसे स्कूलों और कॉलेजों में मुफ्त नामांकन या प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान उपलब्ध कराने के लिए आवेदन नहीं किया जा सकता है।

यह भी पढ़िए:- अब आप आसानी से Online Fraud की शिकायत कर सकते हैं, गृह मंत्रालय ने जारी किया Helpline Number

विपक्ष की आलोचना पर CM ने दिया जवाब

मुख्यमंत्री सरमा के इस ऐलान की विपक्ष ने आलोचना की है. विपक्ष ने कहा कि सरमा पांच भाइयों के परिवार से आते हैं और यह नियम बिल्कुल गलत है. सरमा ने इसका जवाब देते हुए कहा, ‘हमारे माता-पिता या अन्य लोगों ने 1970 के दशक में जो किया उसके बारे में बात करने का कोई मतलब नहीं है। विपक्ष ऐसी अजीबोगरीब बातें कह रहा है और हमें 70 के दशक में वापस ले जा रहा है।

इस आर्टिकल को शेयर करें

ये भी पढ़े:- 

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments