Home टेक ज्ञान चीन को लगेगा करारा झटका! भारत में लगाएगी Samsung Mobile Display यूनिट,...

चीन को लगेगा करारा झटका! भारत में लगाएगी Samsung Mobile Display यूनिट, करेगी 4825 करोड़ रुपये का निवेश

चीन को लगेगा करारा झटका! भारत में लगाएगी Samsung Mobile Display यूनिट, करेगी 4825 करोड़ रुपये का निवेश

टेक डेस्क:- सैमसंग (Samsung) ने चीन को छोड़कर भारत में 4825 करोड़ रुपये का निवेश करने का फैसला किया है। आपको बता दें कि सैमसंग द्वारा उत्तर प्रदेश के नोएडा शहर में स्थापित इस इकाई से लगभग 1500 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा।

दक्षिण कोरियाई दिग्गज सैमसंग (Samsung) भारत में OLED मोबाइल डिस्प्ले यूनिट (Mobile and IT display production unit) लगाने जा रही है। शुक्रवार को हुई कैबिनेट की बैठक में देश में सैमसंग की OLED डिस्प्ले यूनिट लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है।

इस इकाई को स्थापित करने के लिए, सैमसंग ने भारत में 4825 करोड़ रुपये का निवेश करने का निर्णय लिया है। यह ध्यान देने योग्य है कि यह इकाई पहले चीन में स्थापित की गई थी, लेकिन कंपनी ने चीन से अपने व्यापार का विस्तार करके यूपी में निवेश करने का फैसला किया है।

ये भी पढ़े: FICCI इवेंट: PM Modi ने कहा- वह नीति और नीयत से किसानों का हित चाहते हैं, उन्हीं को होगा सुधारों का सबसे ज्यादा फायदा

UP के नोएडा शहर में बनने वाली डिस्प्ले यूनिट

इसके तहत कंपनी नोएडा, यूपी में मोबाइल और आईटी डिस्प्ले बनाने के लिए एक यूनिट स्थापित करेगी। सैमसंग को इस इकाई की स्थापना नोएडा में करने के लिए भारत सरकार की स्कीम फॉर प्रमोशन ऑफ इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स एंड सेमीकंडक्टर्स (स्पेसस) के तहत 460 करोड़ रुपये का वित्तीय प्रोत्साहन मिलेगा।

भारत दुनिया का तीसरा देश भी बन जाएगा

यही नहीं, भारत OLED तकनीक से निर्मित मोबाइल डिस्प्ले बनाने वाला दुनिया का तीसरा देश भी बन जाएगा। वियतनाम और दक्षिण कोरिया के बाद नोएडा में सैमसंग की यह तीसरी इकाई होगी। चीन में अपनी डिस्प्ले यूनिट को बंद करने के बाद, सैमसंग ने इसे भारत में लाने का फैसला किया है।

ये भी पढ़े:- Railways ने जारी की 1.4 लाख नए पदों के लिए परीक्षा की तारीख, पढ़ें डिटेल्स\

Samsung Mobile Display
File Photo PTI Samsung Mobile Display

1500 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा

उत्तर प्रदेश के निवेश मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि भारी निवेश और औद्योगिक विकास को देखते हुए, योगी सरकार ने सैमसंग की इस परियोजना को विशेष प्रोत्साहन देने का निर्णय लिया है। नोएडा में इस परियोजना के साथ, 1,510 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा।

साथ ही बड़ी संख्या में लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिलेगा। इस परियोजना के पूरा होने पर यूपी को दुनिया में एक अलग पहचान मिलेगी। सैमसंग पिछले वित्त वर्ष में 27 बिलियन डॉलर के निर्यात के साथ उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा निर्यातक है।

ये भी पढ़े:- Sukanya Samriddhi Scheme में पैसा लगाने वालों के लिए महत्वपूर्ण खबर! स्कीम में हुए ये 5 बदलाव

स्टांप शुल्क में छूट दी जाएगी

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने भी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों को रियायतें दी हैं। इस परियोजना के लिए, राज्य सरकार इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण नीति के तहत पूंजीगत सब्सिडी, स्टांप शुल्क में छूट देगी।

उत्तर प्रदेश में आने वाली परियोजना, चीन से विस्थापित होने के कारण, भारत सरकार द्वारा पूंजीगत सब्सिडी के लिए निर्धारित मानकों के अनुसार निर्धारित पूंजी निवेश में पुरानी मशीनों की लागत की भी अनुमति होगी। बता दें कि सैमसंग ग्रुप ने अगले पांच वर्षों में कुल निर्यात लक्ष्य 50 बिलियन डॉलर निर्धारित किया है।

ये भी पढ़े: 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments