Homeहटके ख़बरेंचिंता की बात: पृथ्वी (Earth)के सुरक्षात्मक खोल में बढ़ती दरारें, शायद हो...

चिंता की बात: पृथ्वी (Earth)के सुरक्षात्मक खोल में बढ़ती दरारें, शायद हो सकते हैं दो टुकड़े

चिंता की बात: पृथ्वी (Earth)के सुरक्षात्मक खोल में बढ़ती दरारें, शायद हो सकते हैं दो टुकड़े
  • अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने पुष्टि की, सूर्य की घातक किरणों से नुकसान
  • दक्षिण अमेरिका और दक्षिण अटलांटिक सागर के बीच कमजोर हो रहा कवच

Talkaaj News Desk:- ऐसी खबर जो पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय हो सकती है। दरअसल, सूर्य की घातक किरणों से हमारी रक्षा करने वाली हमारी पृथ्वी (Earth) की सुरक्षात्मक ढाल में दरारें दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं। यदि हम समय पर चेते नहीं तो वह दिन दूर नहीं जब पृथ्वी की सुरक्षा कवच (चुंबकीय क्षेत्र) इस दरार के कारण दो टुकड़ों में टूट सकता है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने इसकी पुष्टि की है। नासा के अनुसार, यह कवच लगातार कमजोर हो रहा है। यह ढाल दक्षिण अमेरिका और दक्षिण अटलांटिक सागर के बीच कमजोर पड़ रही है। खगोलविदों ने इस प्रक्रिया को दक्षिण अटलांटिक अनोमली नामक शेल में उल्लंघन के रूप में संदर्भित किया है।

खगोलविदों के अनुसार, यह दरार हर सेकंड बढ़ रही है और यह दो टुकड़ों में टूट सकती है। वैज्ञानिकों के अनुसार, यह दरार पृथ्वी के अंदर बन रही है, लेकिन इसका असर पृथ्वी की सतह पर हो रहा है।

ये भी पढ़िये:-MP: सरकारी नौकरियों में 100% आरक्षण पर बोले विशेषज्ञ-यह राज्य का अधिकार नहीं

Earth
File Photo PTI Earth

इसके कारण, पृथ्वी के वायुमंडल में एक कमजोर चुंबकीय क्षेत्र बनाया जा रहा है, जो सूरज से निकलने वाले घातक विकिरण को पृथ्वी की सतह पर जाने से रोकने में सक्षम नहीं है। 200 वर्षों में बनाई गई दरारें

वैज्ञानिकों के अनुसार, चुंबकीय क्षेत्र के कारण, कवच में दरारें बन रही हैं। यह कमजोर चुंबकीय क्षेत्र पृथ्वी के उत्तरी भाग से पूरे आर्कटिक में फैल गया है। मई में, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि चुंबकीय क्षेत्र ने पिछले 200 वर्षों में अपनी क्षमता का औसतन 9 प्रतिशत खो दिया था।

1970 के बाद से, कवच को नुकसान की प्रक्रिया तेज हो गई और 8 प्रतिशत कमजोर हो गई। हालाँकि, कवच के दो टुकड़ों में विभाजित होना सिद्ध नहीं किया जा सकता है।

ये भी पढ़िये:- MS Dhoni ने इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभाई, क्या आपको है मालूम?

सैटेलाइट मिशन से घर पर खतरा, प्रोटॉन कणों की बौछार से खराब होने की आशंका

Earth
File Photo PTI Earth

 

वैज्ञानिकों के अनुसार, पृथ्वी के भीतर होने वाली यह गड़बड़ी पृथ्वी की सतह पर प्रभावित हो रही है। इसका विशेष रूप से पृथ्वी के करीब के वातावरण पर गहरा प्रभाव पड़ेगा, जो उपग्रह मिशनों का घर है। बताया जा रहा है कि ऐसा होने पर दुनिया भर के सैटेलाइट मिशनों को एक और बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ेगा।

दरअसल, जब भी कोई उपग्रह इन प्रभावित क्षेत्रों से गुजरता है, तो उसे सूर्य से निकलने वाले उच्च ऊर्जा वाले प्रोटॉन कणों की बौछार का सामना करना पड़ सकता है। वह भी तब जब उस क्षेत्र का चुंबकीय क्षेत्र अपनी ताकत का पूरा उपयोग करने में असमर्थ हो। ऐसी स्थिति में, उपग्रह का कंप्यूटर दूषित या पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो सकता है।

ये भी पढ़िये:-Rajasthan: CM Ashok Gehlot की तबीयत बिगड़ी, Corona जांच के लिए लिया गया सैंपल

अंतरिक्ष एजेंसियां ​​उपग्रह को विशेष जुगाड़ से बचाएंगी

नासा के अनुसार, अधिकांश अंतरिक्ष एजेंसियां ​​अपने उपग्रहों की सुरक्षा के लिए विशेष जुगाड़ का उपयोग कर रही हैं। जब उपग्रह कमजोर चुंबकीय क्षेत्र वाले क्षेत्रों से गुजरते हैं, तो वे अपने उपग्रहों की शक्ति को कम कर देते हैं। ऐसा करके, वे अपने उपग्रहों को सूरज से खराब होने वाले विकिरण से बचा सकते हैं।

ये भी पढ़िये:-Nitin Gadkari ने लॉन्च किया Swadesh Bazzar (स्वदेश बज़ार), बोले- Amazon से टक्कर

ये भी पढ़िये:-4,000mAh की बैटरी के साथ Galaxy M01 हुआ सस्ता, जानिए कीमत

ये भी पढ़िये:- Sushant की मौत के बारे में सुनकर, टीवी अभिनेता Angad Hasija ने अभिनय छोड़ने की ठानी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments