Homeटेक ज्ञानWhatsApp पर गलती से भी यह काम न करें, अब सरकार एक...

WhatsApp पर गलती से भी यह काम न करें, अब सरकार एक New System बना रही है

WhatsApp पर गलती से भी यह काम न करें, अब सरकार एक New System बना रही है

देश में अधिकांश मोबाइल फोन उपयोगकर्ता केवल मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप (WhatsApp) का उपयोग कर रहे हैं। यह भी सच है कि अधिकांश उपयोगकर्ता गोपनीयता नीति (Privacy Policy) के बारे में व्हाट्सएप (WhatsApp) से नाराज हैं। हालांकि व्हाट्सएप का दावा है कि आपके संदेश एन्क्रिप्टेड हैं। लेकिन इस बीच, केंद्र सरकार एक नया कानून लाने जा रही है। एक बार अवश्य पढ़ें वरना आपकी लापरवाही एक समस्या बन सकती है।

झूठ और अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं

टेक साइट टेलीकॉमटॉक (telecomtalk) के अनुसार, केंद्र सरकार देश में अफवाहों और झूठ के प्रसार को नियंत्रित करना चाहती है। इसके लिए भारत सरकार ने अब एक नया मसौदा तैयार किया है जिसकी मदद से व्हाट्सएप (WhatsApp) पर अफवाह फैलाने वालों को तुरंत पकड़ा जाएगा।

ये भी पढ़े:- Fake news के लिए पुलिस WhatsApp Group Admin और सेंडर को करेगी गिरफ्तार

Alpha-Numeric Hash सिस्टम का उपयोग किया जाएगा

जानकारी के अनुसार, केंद्र सरकार ने व्हाट्सएप को अल्फा-न्यूमेरिक हैश असाइनिंग सिस्टम (WhatsApp से Alpha-Numeric Hash Assigning System) लागू करने के लिए कहा है। इस प्रणाली के लागू होने के बाद, अफवाह फैलाने वाले लोगों की तुरंत पहचान की जाएगी।

अफवाह फैलाने वालों को कैसे पकड़ें

दरअसल अल्फा-न्यूमेरिक हैश असाइनिंग सिस्टम (Alpha-Numeric Hash Assigning System) के तहत हर मैसेज के साथ एक यूनिक नंबर जनरेट होगा। इस प्रणाली से, संदेश भेजने वालों को ट्रैक किया जा सकता है। सरकार का मानना ​​है कि इससे प्राइवेसी पर असर पड़ेगा।

ये भी पढ़े:-अगर आधार कार्ड (Aadhaar Card) में फोटो पसंद नहीं आ रही है, तो इसे इस तरह बदलें, स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस को जानें

WhatsApp के मौजूदा प्राइवेसी पॉलिसी का नहीं होगा उल्लंघन

विशेषज्ञों का कहना है कि व्हाट्सएप (WhatsApp) वर्तमान में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन (end-to-end encryption) तकनीक का उपयोग करता है। जिसके कारण केवल प्रेषक और रिसीवर संदेश देख सकते हैं। सरकार का कहना है कि नई व्यवस्था के लागू होने से निजता प्रणाली का उल्लंघन नहीं होगा।

व्हाट्सएप (WhatsApp) और सरकार के बीच विवाद

व्हाट्सएप (WhatsApp) केंद्र सरकार के इस नए प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करना चाहता है। कंपनी का कहना है कि यह ऐप की गोपनीयता नीति का उल्लंघन करता है। जबकि भारत सरकार इस नए प्रस्ताव को देश की कानून व्यवस्था (Law and Order) से जोड़कर देख रही है।

ये भी पढ़े:- Big News : अक्टूबर से पहले अपनी 15 साल पुरानी कार और बाइक बेच दें, अन्यथा रजिस्ट्रेशन रिन्यू कराने के लिए लगेगा 8 गुना ज्यादा चार्ज

ये भी पढ़े:- नई Car-Bike खरीदारों के लिए खुशखबरी, 1 अप्रैल से लागू होगी रि-कॉल प्रणाली, ऐसे होगा फायदा

ये भी पढ़े:- देश के किसी भी कोने में राशन ले सकेंगे, 17 राज्यों ने लागू किया ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ (One Nation One Ration Card) सिस्टम

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments