Homeहटके ख़बरेंExclusive: बिहार में हॉप शूट्स की नकली खेती! हुई जांच तो कही...

Exclusive: बिहार में हॉप शूट्स की नकली खेती! हुई जांच तो कही नहीं मिला Hop shoot…अब होगी कार्रवाई

Exclusive: बिहार में हॉप शूट्स की नकली खेती! हुई जांच तो कही नहीं मिला Hop shoot…अब होगी कार्रवाई

विशेष रूप से बिहार के औरंगाबाद के एक किसान ने दुनिया की सबसे महंगी सब्जी की खेती करने का दावा किया। विभिन्न समाचार माध्यमों में यह खबर सामने आने के बाद जब हमने जमीनी पड़ताल (Ground Level Investigation) की तो एक अलग ही हकीकत सामने आई। जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे।

बिहार में होप शूट्स (Hop Shoots) की नकली खेती बिहार में ऐसी सब्जी की खेती का दावा किया गया था, जो किसी को भी हैरान कर दे। जी हां, 80 हजार से एक लाख रुपये प्रति किलो तक बिकने वाली यह सब्जी इन दिनों इंटरनेट मीडिया से लेकर विभिन्न समाचार माध्यमों में चर्चा में है। जमीनी स्तर की जांच (Ground Level Investigation) में न तो ऐसा कोई खेत मिला और न ही सब्जी। हम बात कर रहे हैं औरंगाबाद जिले के नवीनगर प्रखंड के करमडीह गांव के एक युवक अमरेश सिंह (Farmer Amresh Singh) द्वारा विश्‍व की सबसे महंगी सब्‍जी हॉप शूट्स (Hop Shoots) की कथित खेती की।

यह भी पढ़े:- Weight Loss : चर्बी कम करने के लिए रोजाना जीरा पानी पिएं, वजन तेजी से घटेगा

अमरेश का दावा है कि बीमार होने के कारण फसल सूख गई

अब अमरेश ने दावा किया है कि उन्होंने एक परीक्षण के रूप में खेती शुरू की, लेकिन बीमार पड़ने के कारण उनके साथी इसे बनाए नहीं रख सके। इसकी वजह से फसल सूख गई। अब वे फिर से खेती करेंगे। इसी समय, विभिन्न समाचार मीडिया में यह दावा किया जा रहा है कि खेती 60 प्रतिशत तक सफल रही। हां, यह जरूर है कि अमरेश ने काले चावल और काले गेहूं उगाए थे, जिनकी खेती बिहार में कई जगहों पर की जा रही है। लेकिन, हॉप शूट (Hop Shoots) कहीं नहीं दिख रहे थे।

ग्रामीणों ने खेती से किया इंकार, कृषि विभाग करेगा जांच

हालांकि, इस खबर ने कृषि विभाग को चौंका दिया। जब कृषि अधिकारी इसे देखने के लिए गाँव पहुँचे, तो वहाँ पर ऐसी कोई खेती नहीं की जा रही थी। स्थानीय लोगों ने भी इस संबंध में अनभिज्ञता व्यक्त की। सहायक उद्यान निदेशक जितेंद्र कुमार ने कहा कि जब उन्होंने जांच की, तो पाया गया कि औरंगाबाद में ऐसी कोई खेती नहीं की गई है।

मोबाइल पर बातचीत के दौरान, अमरेश ने नालंदा जिले में खेती के बारे में बात की, लेकिन जगह के बारे में नहीं बताया। नालंदा जिला भी मिला, लेकिन ऐसी कोई खेती नहीं हो सकी। पार्क के निदेशक जितेंद्र कुमार ने कहा कि अमरेश के दावे की उच्च स्तर पर जांच की जा रही है। अगर फर्जी खेती (Fake farming) का मामला सामने आता है तो कार्रवाई भी की जाएगी। जिला कृषि कार्यालय के अधिकारी इस पर एक रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं।

यह भी पढ़े:- चेतावनी! यदि बच्चों को Two Wheeler पर बैठाया गया तो, भारी चालान का भुगतान करना होगा, इस नियम को जरूर पढ़ें

वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश के अनुसार कार्रवाई की जाएगी

औरंगाबाद के जिला मजिस्ट्रेट सौरभ जोरवाल ने कहा कि कुछ अधिकारियों ने हॉप शूट (Hop Shoots) की खेती के बारे में पटना से जानकारी ली है। यहां ऐसी कोई खेती नहीं की गई है। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशानुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।

वाराणसी में तैयार नहीं हुआ बीज, यहां कोई डॉ. लाल भी नहीं

जब अमरेश से संपर्क किया, तो उसने कहा कि वह बीमार था। बताया कि उसका इलाज दिल्ली में चल रहा है। यह भी बताया गया है कि उन्होंने उत्तर प्रदेश के गेंदा में 20 एकड़ जमीन लीज पर ली है, जिसमें पांच कट्ठा होप में खेती की जा रही है। इस खेती के लिए, उन्होंने वाराणसी में डॉ लाल से प्रशिक्षण प्राप्त किया। जब भारतीय सब्जी अनुसंधान केंद्र, वाराणसी के निदेशक डॉ। जगदीश सिंह से इस संबंध में बात की गई, तो उन्‍होंने पूरी खबर को फर्जी बताते हुए कहा कि उनके यहां न कोई डॉ. लाल हैं और न ही हॉप शूट्स (Hop Shoots) नाम की दुनिया की सबसे महंगी सब्जी का बीज तैयार किया गया है।

इंटरनेट मीडिया पर वायरल तस्‍वीरें हॉप शूट्स की नहीं

जांच के क्रम में, शुक्रवार को जागरण टीम एक बार फिर अमरेश के गांव औरंगाबाद पहुंची, स्थानीय लोगों ने ऐसी किसी भी खेती के बारे में अनभिज्ञता व्यक्त की। जब परिजनों ने अमरेश से मोबाइल पर संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि वे नालंदा में खेती कर रहे हैं। वहीं, कृषि विभाग के अधिकारियों ने कहा कि जो तस्वीर इंटरनेट मीडिया पर दिख रही है, वह हॉप शूट नहीं है।

ये भी पढ़े:- एक लीटर पेट्रोल (Petrol) में बाइक जबरदस्त माइलेज देगी, बार-बार फ्यूल भरवाने की जरूरत नहीं होगी। जानें कैसे?

आखिर क्यों हॉप शूट इतना महंगा, जानिए …

सवाल उठता है कि इस सब्जी में ऐसा क्या है जो यह इतना महंगा है? दरअसल, इसके फूलों का इस्तेमाल बीयर बनाने के लिए किया जाता है। यह कैंसर सहित कई गंभीर बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली कई दवाओं को भी बनाता है। इसकी टहनियाँ खाई जाती हैं और इसका अचार भी बनाया जाता है। जर्मनी में हॉप शूट (Hop Shoots)  की खेती शुरू की गई थी। यह आमतौर पर यूरोपीय देशों में उगाया जाता है। ब्रिटेन और जर्मनी के लोग इसमें रुचि रखते हैं। इसका सबसे बड़ा खरीदार संयुक्त राज्य अमेरिका है।

एक हॉप शूट क्या है?

यह एक बारहमासी पौधा है। उत्तरी अमेरिका और यूरोप के मूल निवासी, हॉप शूटिंग को एक खरपतवार माना जाता था जब तक कि इसके गुणों को नहीं जाना जाता। वेबसाइट agrifarming.in के अनुसार, हॉप शूट (Hop Shoots)  में ‘जीवाणुरोधी प्रभाव’ होते हैं और इसका इस्तेमाल एक स्वादिष्ट बनाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता था, खासकर बीयर में। इसके साथ ही अब इसे हर्बल औषधि के रूप में और धीरे-धीरे सब्जी के रूप में भी उपयोग किया जा रहा है। माना जाता है कि ये एसिड मानव शरीर में कैंसर कोशिकाओं को मारने में प्रभावी भूमिका निभाते हैं। इसकी गुणवत्ता के कारण, यह दुनिया की सबसे महंगी सब्जी है।

ये भी पढ़े:- ड्राइविंग लाइसेंस (Driving license) बनवाना कठिन होगा! DL के लिए प्रोसेस जानिए कैसे होगी

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments