HomeदेशFICCI इवेंट: PM Modi ने कहा- वह नीति और नीयत से किसानों...

FICCI इवेंट: PM Modi ने कहा- वह नीति और नीयत से किसानों का हित चाहते हैं, उन्हीं को होगा सुधारों का सबसे ज्यादा फायदा

FICCI इवेंट: PM Modi ने कहा- वह नीति और नीयत से किसानों का हित चाहते हैं, उन्हीं को होगा सुधारों का सबसे ज्यादा फायदा

न्यूज़ डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फेडरेशन ऑफ इंडियन कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) की 93 वीं वार्षिक बैठक (AGM ) में शामिल हुए। मोदी ने अपने भाषण में किसानों पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि किसानों को जितना अधिक समर्थन मिलेगा, हम जितना अधिक निवेश करेंगे, किसान और देश उतना ही मजबूत होगा। सरकार अपनी मंशा और नीति से किसानों का हित चाहती है।

मोदी के भाषण की 10 महत्वपूर्ण बातें

‘किसान समृद्ध होगा तो देश समृद्ध होगा’

आज भारत का कृषि क्षेत्र पहले की तुलना में अधिक जीवंत है। आज, किसानों के पास मंडियों के बाहर बेचने का भी विकल्प है। वे डिजिटल माध्यम पर खरीद और बिक्री भी कर सकते हैं। किसान समृद्ध होगा तो देश समृद्ध होगा।

‘अगर किसानों का समर्थन मिला, तो देश भी मजबूत बनेगा’

जितना निजी क्षेत्र को हमारे देश में कृषि में निवेश करना था, उतना नहीं हुआ। हमारे यहां कोल्ड स्टोरेज की समस्या रही है। उर्वरक की समस्या है, इसका आयात किया जाता है। इसके लिए उद्यमियों को आगे आना चाहिए। किसानों को जितना अधिक समर्थन मिलेगा, हम जितना अधिक निवेश करेंगे, किसान और देश उतना ही मजबूत होगा।

‘किसानों को मिलेगा नया बाजार, विकल्प’

कृषि क्षेत्र में सुधारों का सबसे बड़ा लाभ किसानों को होगा। कृषि क्षेत्र और उससे जुड़े क्षेत्रों के बीच दीवारें थीं, चाहे वह खाद्य प्रसंस्करण, कोल्ड चेन हो। अब बाधाओं को हटाया जा रहा है। अब किसानों को नए बाजार और नए विकल्प मिलेंगे। कृषि में अधिक निवेश होगा।

ये भी पढ़े:- Railways ने जारी की 1.4 लाख नए पदों के लिए परीक्षा की तारीख, पढ़ें डिटेल्स

‘कई कनेक्टिविटी पर जोर’

आज, हर क्षेत्र में सुधार किए गए हैं। यह खनन, रक्षा या अंतरिक्ष हो, अधिकांश क्षेत्रों ने अनगिनत अवसरों की परंपरा बनाई है। लॉजिस्टिक में मल्टीपल कनेक्टिविटी पर जोर दिया जा रहा है। यदि आप एक उद्योग और दूसरे के बीच दीवारें बनाते हैं, तो विकास रुक जाएगा। हम इन दीवारों को हटाने के लिए काम कर रहे हैं।

‘बड़ी आबादी तक पहुंची टेक्नोलॉजी’

भारत में सभी बाधाओं को दूर करके आधार प्रणाली को मजबूत किया गया। दुनिया का सबसे बड़ा ट्रांसफर सिस्टम डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर भारत में चल रहा है। कई लोग कह रहे हैं कि कई देशों को भारत के इस मॉडल से सीखना चाहिए। भारत ने बड़ी आबादी के लिए प्रौद्योगिकी ला दी है।

ये भी पढ़े:- Sukanya Samriddhi Scheme में पैसा लगाने वालों के लिए महत्वपूर्ण खबर! स्कीम में हुए ये 5 बदलाव

‘गांवों में सुविधाएं बढ़ाएं’

हर महीने 4 मिलियन करोड़ का लेनदेन UPI ​​से किया जा रहा है। छोटे दुकानदार और स्ट्रीट वेंडर भी इससे पैसे ट्रांसफर कर रहे हैं। कुछ लोगों के लिए, गांवों का मतलब उन क्षेत्रों से है जहां आवाजाही और सुविधा में असुविधा होती है। अब यहां के हालात भी बदल गए हैं। गाँव की 98% सड़कें प्रधानमंत्री सड़क योजना से जुड़ी हुई हैं। गाँव में स्कूल और बाज़ार हैं। ग्रामीणों की उम्मीदें बढ़ गई हैं।

‘इस साल स्थिति में तेजी से गिरावट, तेजी से सुधार हो रहा है’

हमने टी -20 मैचों में कई बदलाव देखे हैं। लेकिन 20-20 के इस साल ने सभी को पछाड़ दिया। दुनिया इतने उतार-चढ़ाव से गुजरी है, कुछ सालों के बाद जब हम कोरोना काल को याद करते हैं, तो मुझे विश्वास नहीं होगा। सबसे अच्छी बात यह है कि स्थिति जितनी तेजी से बिगड़ती है, उतनी ही तेजी से सुधार भी होते हैं।

ये भी पढ़े:- मोदी कैबिनेट ने PM Wi-Fi को मंजूरी दी, अब देश में 1 करोड़ डेटा सेंटर खुलेंगे

‘मौजूदासंकेतक प्रोत्साहित करते हैं’

जब महामारी शुरू हुई, तो कई अनिश्चितताएं थीं। हर किसी के मन में यही सवाल था कि आखिर सब ठीक कैसे होगा। दुनिया में हर कोई इन सवालों में शामिल था। अब स्थिति बदल गई है। अब एक जवाब और एक रोडमैप है। अब संकेतक उत्साहजनक हैं। हमने संकट के समय में जो सीखा है वह भविष्य के संदर्भों को प्रबलित करता है। इसका श्रेय उद्यमियों, किसानों, उद्यमियों और लोगों को जाता है। एक देश में जो महामारी के समय में अपने लोगों को बचाता है, उसके सिस्टम में दोगुनी ताकत के साथ पलटाव करने की शक्ति होती है।

ये भी पढ़े: Jio 5G को अगले साल लॉन्च किया जाएगा, मुकेश अंबानी ने घोषणा की

‘उद्योग और स्वतंत्र रहें’

भारत ने जो नीतियां और स्थिति बनाई हैं, उससे दुनिया चकित है। पिछले 6 वर्षों में, दुनिया का विश्वास जो हम पर बनाया गया था, पिछले महीनों में मजबूत हो गया है। विदेशी निवेशकों ने रिकॉर्ड निवेश किया है। हम स्थानीय के लिए मुखर होने के लिए काम कर रहे हैं। भारत का निजी क्षेत्र न केवल हमारी घरेलू जरूरतों को पूरा कर सकता है, बल्कि विश्व स्तर पर भी स्थापित किया जा सकता है। हम उद्योग और निर्दलीय होना चाहते हैं।

‘सबको साथ लेकर चल रहे’

बीमाधारक आसपास के लोगों को अवसर देने से डरता है। भारी जनसमर्थन से बनी सरकार का विश्वास और समर्पण। हम सबका साथ, सबका विश्वास पर काम कर रहे हैं। एक निर्णायक सरकार दूसरों की बाधाओं को दूर करती है। यह सरकार इसे अपने साथ रखने में विश्वास नहीं करती है। पहले की सरकार सब कुछ अपने पास ही रखती थी।

ये भी पढ़े: 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments