क्या होती हैं जेनेरिक दवाइयां, इतनी सस्ती क्यों होती हैं, इसका जवाब आसन भाषा में समझें? | Generic Medicine In Hindi

Generic Medicine In Hindi
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

Generic Medicine In Hindi : क्या होती हैं जेनेरिक दवाइयां, इतनी सस्ती क्यों होती हैं, इसका जवाब आसन भाषा में समझें?

Branded And Generic medicine: पहले डेवलपर्स के पेटेंट की समाप्ति के बाद उनके फॉर्मूलेशन और लवण के उपयोग के लिए जेनेरिक दवाएं विकसित की जाती हैं। इसके साथ ही यह सिथी मैन्युफैक्चरिंग की जाती है. जहां पेटेंट ब्रांडेड दवाओं की कीमत कंपनियां खुद तय करती हैं, वहीं जेनेरिक दवाओं की कीमत तय करने के लिए सरकार हस्तक्षेप करती है।

Difference in Generic and Branded Medicines | जब भी हम बीमार होने पर डॉक्टर के पास जाते हैं तो उनके द्वारा बताई गई दवाएं सीधे मेडिकल स्टोर से खरीद लेते हैं। डॉक्टर की लिखी दवाओं पर भरोसा है और हम दवाएं लेकर आते हैं. क्या आप जानते हैं कि डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन पर जो दवा का नाम लिख रहे हैं वह जेनेरिक है या ब्रांड? ज्यादातर का जवाब ना ही होगा, क्योंकि सेहत के मामले में हम कोई खिलवाड़ नहीं करते.

डॉक्टरों द्वारा ब्रांडेड दवाएं लिखे जाने की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए यूपी के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक (Brajesh Pathak) ने मंगलवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सिर्फ जेनेरिक दवाएं लिखने के सख्त निर्देश दिए. इस संबंध में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद की ओर से शाम को शासनादेश जारी कर दिया गया।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने जारी किये आदेश

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी निर्देश में सभी सरकारी अस्पतालों को अस्पतालों में उपलब्ध दवाओं की सूची प्रदर्शित करने को कहा गया है. डॉक्टर किसी भी कीमत पर मरीजों को बाहर की दवाएं न लिखें। साथ ही निर्देश दिया कि जन औषधि केंद्रों का संचालन बेहतर तरीके से किया जाए।

ज्यादातर लोगों को यह पता ही नहीं होता कि ब्रांडेड दवाएं जेनेरिक दवाओं से कहीं ज्यादा महंगी होती हैं। और प्राइवेट डॉक्टर मुनाफा कमाने के चक्कर में ब्रांडेड दवाइयां ही लिखते हैं, जो हमारी जेब पर भारी पड़ती है। वैसे दवाइयों के ज्यादा इस्तेमाल से हम सभी के मन में एक सवाल रहता है कि ब्रांड और जेनेरिक दवाइयों में कौन सी दवाइयां ज्यादा असरदार होती हैं. ब्रांड और जेनेरिक दवाओं के बारे में जानने के लिए यहां पढ़ें…

जेनेरिक दवा क्या है?

किसी बीमारी के इलाज के लिए कई तरह के शोध और अध्ययन के बाद एक रसायन (नमक) तैयार किया जाता है, जिसे आसानी से उपलब्ध कराने के लिए दवा का रूप दिया जाता है। हर कंपनी इस नमक को अलग-अलग नाम से बेचती है। सामान्यतः सभी औषधियाँ एक प्रकार का रासायनिक नमक होती हैं। इन्हें रिसर्च के बाद अलग-अलग बीमारियों के लिए बनाया गया है। जेनेरिक दवा को उस नमक के नाम से जाना जाता है जिससे वह बनाई जाती है। उदाहरण के तौर पर यदि कोई कंपनी दर्द और बुखार में काम आने वाले पैरासिटामोल साल्ट को इसी नाम से बेचती है तो वह जेनेरिक दवा कहलाएगी। दूसरी ओर, जब इसे किसी ब्रांड (जैसे क्रोसिन) के नाम से बेचा जाता है, तो इसे उस कंपनी की ब्रांडेड दवा कहा जाता है।

ब्रांडेड दवाएं क्या हैं?

जब जेनेरिक दवाएं किसी व्यापारिक नाम या ब्रांड नाम के तहत बेची जाती हैं, तो उन्हें ब्रांडेड जेनेरिक कहा जाता है।

जेनेरिक दवाएं सस्ती क्यों हैं?

जेनेरिक दवाओं के सस्ते होने का मुख्य कारण इनका किसी बड़े ब्रांड का न होना है। जिसके कारण इन दवाइयों की मार्केटिंग पर ज्यादा पैसा खर्च नहीं होता है। दवाओं की मार्केटिंग, रिसर्च, प्रमोशन, विकास और ब्रांडिंग पर काफी पैसा खर्च किया जाता है। लेकिन, जेनेरिक दवाएं पहले डेवलपर्स की पेटेंट अवधि समाप्त होने के बाद विकसित की जाती हैं, उनके फार्मूले और लवण का उपयोग किया जाता है। इसके साथ ही यह सिथी मैन्युफैक्चरिंग की जाती है. जबकि पेटेंट ब्रांडेड दवाओं की कीमतें कंपनियां स्वयं तय करती हैं, सरकार जेनेरिक दवाओं की कीमतें तय करने के लिए हस्तक्षेप करती है।

ब्रांड और जेनेरिक दवा के बीच अंतर जानें –

कंपनियां बीमारियों के इलाज के लिए शोध करती हैं और उसके आधार पर सॉल्‍ट बनाती हैं. जिसे गोली, कैप्‍सूल या दूसरी दवाइयों के रूप में स्टोर कर लिया जाता है. एक ही सॉल्‍ट को अलग-अलग कंपनियां अलग-अलग नाम से तैयार करती हैं और अलग-अलग कीमत पर बेचती हैं. साल्ट का जेनेरिक नाम एक विशेष समिति तय करती है. पूरी दुनिया में सॉल्‍ट का जेनेरिक नाम एक ही होता है. एक ही सॉल्ट की ब्रांडेड दवा और जेनेरिक दवा की कीमत में 5 से 10 गुना का अंतर हो सकता है. कई बार तो इनकी कीमतों में 90 फीसदी तक का भी फर्क होता है.

किसी फॉर्मूला पर आधारित अलग-अलग कैमिकल मिलाकर दवाई बनाई जाती है. मान लीजिए कोई बुखार की दवाई है. अगर इसी दवाई को कोई बड़ी कंपनी बनाती है तो यह ब्रांडेड बन जाती है. हालांकि, कंपनी सिर्फ उस दवाई को एक नाम देती है. वहीं, जब कोई छोटी कंपनी इसी दवाई बनाती है तो इसे जेनेरिक दवाई कहा जाता है. हालांकि, इन दोनों के असर में कोई अंतर नहीं होता है. सिर्फ नाम और ब्रांड का अंतर होता है. विशेषज्ञों के मुताबिक, दवाइयां मॉलिक्यूल्स और सॉल्‍ट से बनती हैं. इसलिए दवा खरीदते समय उसके सॉल्‍ट पर ध्‍यान देना चाहिए, ब्रांड या कंपनी पर नहीं.

जेनेरिक दवाओं के लाभ

जेनेरिक दवाएं सीधे खरीदार के पास जाती हैं। जेनेरिक दवाएं ब्रांडेड दवाओं की तुलना में सस्ती होती हैं। इससे आप हर महीने काफी पैसे बचा सकते हैं. इन दवाइयों के प्रचार-प्रसार के लिए कुछ भी खर्च नहीं किया जाता। इसलिए ये सस्ते हैं. इन दवाओं की कीमत सरकार खुद तय करती है. एक बात समझ लें कि जेनेरिक दवाओं की तासीर, खुराक और प्रभाव ब्रांडेड दवाओं के समान ही होते हैं। इसमें कोई अंतर नहीं है.

जेनेरिक दवाएं ब्रांडेड दवाओं से सस्ती क्यों होती हैं?

जेनेरिक दवाएं ब्रांडेड दवाओं की तुलना में दस से बीस गुना सस्ती होती हैं। दरअसल, फार्मा कंपनियां रिसर्च, पेटेंट और ब्रांडेड दवाओं के विज्ञापन पर काफी पैसा खर्च करती हैं। जबकि जेनेरिक दवाओं की कीमत सरकार तय करती है और इसके प्रचार-प्रसार पर ज्यादा खर्च नहीं होता है.

जेनेरिक दवा कहाँ और कैसे मिलेगी?

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (पीएमबीजेपी) को लागू करने के लिए ब्यूरो ऑफ फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया (बीपीपीआई) जिम्मेदार है। इसमें कम कीमत पर दवाइयां उपलब्ध कराई जाती हैं। इससे जुड़े जन औषधि केंद्र पर ज्यादातर जेनेरिक दवाएं बेची जाती हैं।

अपने डॉक्टर से जेनेरिक दवाएं लिखने के लिए कहें

इसके अलावा आप अपने डॉक्टर से जेनेरिक दवा लिखने के लिए भी कह सकते हैं। इसके बाद आप मेडिकल स्टोर या केमिस्ट से ब्रांडेड की जगह अच्छी क्वालिटी की जेनेरिक दवा भी मांग सकते हैं। अगर जेनेरिक दवा वाकई जरूरी हो गई तो इससे मरीज को बजट और स्वास्थ्य दोनों लिहाज से फायदा होगा।

और पढ़िए – देश से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहां पढ़ें

joinwhatsappclick here

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

Talkaaj

आशा है आपको यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी। इस लेख को शेयर और लाइक करें, साथ ही ऐसे और लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें।
देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर फॉलो करें Talkaaj News को FacebookTelegramTwitterInstagramKoo.

Posted by Talk Aaj.com

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories