Homeदेशलड़कियों को नहीं देना चाहिए Mobile, जानिए महिला आयोग की सदस्य ने...

लड़कियों को नहीं देना चाहिए Mobile, जानिए महिला आयोग की सदस्य ने क्यों दिया ये विवादित बयान

लड़कियों को नहीं देना चाहिए Mobile, जानिए महिला आयोग की सदस्य ने क्यों दिया ये विवादित बयान

न्यूज़ डेस्क:- महिलाओं के खिलाफ दिन-प्रतिदिन अत्याचार और अपराध सबसे बड़ी समस्याओं में से एक हैं और इन चीजों को कम करने के लिए समाज में लगातार सलाह दी जाती है। लेकिन उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने अलीगढ़ में आपत्तिजनक बयान दिया. उन्होंने कहा कि महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध का कारण उनका मोबाइल फोन का इस्तेमाल है। इस बयान पर उनकी निंदा शुरू हो गई है.

मीना कुमारी ने कहा कि समाज में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के प्रति समाज को ही गंभीर होना होगा. ऐसे में मोबाइल एक बड़ी समस्या बनकर सामने आया। लड़कियां घंटों मोबाइल पर बात करती हैं और लड़कों के साथ बैठती हैं। उनके मोबाइल भी चेक नहीं किए जाते। घरवालों को पता नहीं चलता और फिर वह मोबाइल पर बात करते हुए लड़कों को लेकर भाग जाती है.

उन्होंने कहा कि लड़कियों को मोबाइल नहीं दिया जाना चाहिए और अगर उन्हें मोबाइल दिया जाता है तो उनकी पूरी निगरानी करें. लड़कियों की मां की बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है और आज अगर बेटियां बिगड़ती हैं तो उसके लिए मां जिम्मेदार होती है. वह अलीगढ़ के पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस में महिलाओं की समस्या सुनने पहुंची थीं.

यह भी पढ़िए:- Sachin Pilot के बयान से फिर गरमा गई Rajasthan की सियासत, Congress के कई नेता भी शामिल

इस बयान को लेकर कांग्रेस, सपा, बसपा की महिला पदाधिकारियों ने बयान पर हमला बोलते हुए कहा है कि आयोग के सदस्यों को अपनी सोच बदलने की जरूरत है. अगर मोबाइल से बेटियां खराब हो रही हैं तो बेटों के बिगड़ने का जिम्मेदार कौन? सामाजिक कार्यकर्ता पारुल चौधरी ने कहा कि आयोग के सदस्य के लिए यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. खुद एक महिला होने के नाते उन्होंने बेटियों और उनकी मांओं के लिए जो कहा है उसकी उतनी ही निंदा की जानी चाहिए। वह कम है।

वहीं सपा प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने कहा कि महिला आयोग क्या करेगा, मिशन शक्ति क्या करेगा, रोमियो स्क्वॉड क्या करेगा. महिलाओं की सुरक्षा से क्यों भागना चाहती है सरकार? यह उत्तर प्रदेश के लिए शर्म की बात नहीं हो सकती, सरकार के लिए यह नहीं हो सकता कि वह महिलाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी खुद से हटाकर उनके माता-पिता पर छोड़ देना चाहती है।

यह भी पढ़िए:- Rajasthan में सरपंचों के झगड़े का तोड़ मिल गया, अधिक आबादी वाला सरपंच बनेगा पालिका अध्यक्ष

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि नहीं मैडम, लड़की के हाथ में फोन रेप की वजह नहीं है. रेप का कारण ऐसी घटिया मानसिकता है जो अपराधियों का मनोबल बढ़ाती है। प्रधानमंत्री जी से अनुरोध है कि सभी महिला आयोगों को संवेदनशील बनाएं, एक दिन दिल्ली महिला आयोग की कार्यशैली देखने के लिए उन्हें भेजें, हम उन्हें सिखाते हैं!’

इस आर्टिकल को शेयर करें

यह भी पढ़े:- एक साथ 4 डिवाइस पर चल सकेगा WhatsApp, हो रही धांसू फीचर की एंट्री

यह भी पढ़े:- तुलसी-अश्वगंध-गिलोय-कालमेघ, Gehlot सरकार हर परिवार को 8 पौधे देगी ।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments