Home अन्य ख़बरें कारोबार बड़ी खबर- अब सरकार IRCTC में OFS के माध्यम से हिस्सेदारी बेचेगी,...

बड़ी खबर- अब सरकार IRCTC में OFS के माध्यम से हिस्सेदारी बेचेगी, विनिवेश विभाग

बड़ी खबर- अब सरकार IRCTC में OFS के माध्यम से हिस्सेदारी बेचेगी, विनिवेश विभाग

Talkaaj News Desk:- केंद्र सरकार अब IRCTC (इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड) Indian Railway Catering And Tourism Corporation Limited के शेयरों को OFS (ऑफर फॉर सेल) Offer For Sale के जरिए बेच रही है। इसके लिए विनिवेश विभाग ने बोली लगाने का आह्वान किया है।

सरकार इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (IRCTC) में अपनी हिस्सेदारी बेचने जा रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार CNBC Awaaz में IRCTC में हिस्सेदारी OFS के माध्यम से बेची जाएगी। इसके लिए विनिवेश विभाग ने मर्चेंट बैंकरों की नियुक्ति के लिए बोलियां मंगवाई हैं।

3. सितंबर को एक प्री-बिड मीटिंग आयोजित की जाएगी। वर्तमान में, सरकार की IRCTC में 80 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी है। आपको बता दें कि यह रेलवे की सहायक कंपनी है। इसके जरिए हर कोई घर बैठे ट्रेन टिकट बुक करता है। इसके अलावा, IRCTC निजी ट्रेनें भी चलाता है।

ये भी पढ़िये:- सुप्रीम कोर्ट का फैसला-Sushant Singh Rajput मामले की जांच करेगी CBIIRCTC

शेयर बाजार में IRCTC की एंट्री अक्टूबर 2019 में हुई। स्टॉक 320 रुपये के इश्यू प्राइस के मुकाबले 626 रुपये पर लिस्ट हुआ। स्टॉक बुधवार को 1363 रुपये पर बंद हुआ।

IRCTC रेलवे में खानपान सेवाएं प्रदान करता है। इसके साथ ही ऑनलाइन टिकट बुकिंग और पैकेज्ड ड्रिंक्स पानी बेचते हैं। आईआरसीटीसी एशिया-प्रशांत की सबसे व्यस्त वेबसाइट में शामिल है। इसके जरिए हर महीने 2.5-2.8 करोड़ टिकट बिकते हैं। इसकी वेबसाइट पर हर दिन 7 करोड़ लॉगिन होते हैं।

ये भी पढ़िये:- चिंता की बात: पृथ्वी (Earth)के सुरक्षात्मक खोल में बढ़ती दरारें, शायद हो सकते हैं दो टुकड़े

क्या होता है OFS – OFS को ऑफर फॉर सेल कहा जाता है। शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों के प्रमोटर अपनी हिस्सेदारी कम करने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। सेबी के नियमों के अनुसार, जो भी कंपनी ओएफएस जारी करना चाहती है, उसे सेबी के साथ-साथ एनएसई और बीएसई को भी इस मुद्दे से दो दिन पहले सूचित करना होगा।

IRCTC
File Photo PTI IRCTC

इसके बाद, निवेशक एक्सचेंज को जानकारी देकर इस प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं। निवेशकों को यह जानकारी देनी होगी कि वे किस कीमत पर शेयर खरीदना चाहते हैं।

निवेशक अपनी बोली लगाता है। उसके बाद, कुल बोलियों के प्रस्तावों की गणना की जाती है और इससे पता चलता है कि इस मुद्दे को कितनी सदस्यता दी गई है। इसके बाद, जब प्रक्रिया पूरी हो जाती है, तो स्टॉक का आवंटन होता है।

ये भी पढ़िये:- Nitin Gadkari ने लॉन्च किया Swadesh Bazzar (स्वदेश बज़ार), बोले- Amazon से टक्कर

ये भी पढ़िये:- MP: सरकारी नौकरियों में 100% आरक्षण पर बोले विशेषज्ञ-यह राज्य का अधिकार नहीं

Most Popular

Recent Comments