Homeअन्य ख़बरेंकारोबारबड़ी राहत! अब जन्मजात बीमारियों का भी क्लेम मिलेगा, बीमा कंपनियां पॉलिसी...

बड़ी राहत! अब जन्मजात बीमारियों का भी क्लेम मिलेगा, बीमा कंपनियां पॉलिसी ( Policy ) देने से इनकार नहीं कर सकती हैं

बड़ी राहत! अब जन्मजात बीमारियों का भी क्लेम मिलेगा, बीमा कंपनियां पॉलिसी ( Policy ) देने से इनकार नहीं कर सकती हैं

Health Insurance: बीमा कंपनियाँ आने वाले समय में आपको किसी भी बीमारी के कवर से वंचित नहीं करेंगी। अब भी कई बीमा कंपनियां किसी की जन्मजात बीमारी के दावों को देने से इनकार कर देती हैं। IRDAI ने बीमा कंपनियों को इस बारे में स्पष्ट निर्देश दिए हैं।

Health Insurance: बीमा कंपनियां आने वाले समय में किसी भी बीमारी का दावा करने से इनकार नहीं कर सकेंगी। बीमा नियामक IRDAI (Insurance Regulatory and Development Authority) ने बीमा कंपनियों को स्पष्ट रूप से कहा है कि बीमा कंपनियां किसी को भी पॉलिसी देने से इनकार नहीं कर सकती हैं, भले ही बीमारी जन्मजात हो।

‘जन्मजात बीमारी होने पर मिलेगा क्लेम’

IRDAI के अध्यक्ष सुभाष चंद्र खुंटिया राष्ट्रीय बीमा अकादमी के कार्यक्रम में बोल रहे थे। जिसमें उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति को जन्म रोग या कोई बीमारी है जिसके लिए बीमा कंपनी पॉलिसी नहीं दे रही है, तो कंपनियों को उस बीमारी के लिए बीमा कवर से वंचित नहीं किया जाना चाहिए, जो उस व्यक्ति के हाथ में नहीं है। IRDAI ने कहा कि बीमा कंपनियों को इस मामले में ध्यान रखने की जरूरत है। अधिक डेटा विश्लेषण करके पॉलिसी धारकों को बीमा से दूर रखना गलत है।

ये भी पढ़े:- किसान क्रेडिट कार्ड (Kisan Credit Card) बनाना आसान हुआ, यह आपके पास 15 दिनों में आ जाएगा

बीमा कंपनियां मूल्यवर्धित सेवाएं शुरू करेंगी

कार्यक्रम में, उन्होंने बीमा कंपनियों को सलाह दी कि वे अपनी सेवाओं में सुधार के लिए मूल्य वर्धित सेवाएं शुरू करें। पॉलिसी के साथ वैल्यू एडेड सर्विसेज (Value Added Services) पाकर ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं मिलेंगी। IRDAI ने कहा कि इससे पॉलिसी के साथ बीमित या ग्राहक के अनुभव में सुधार होगा।

खुंटिया ने कहा कि जल्द ही बीमा कंपनियां बीमा उत्पाद में मूल्य वर्धित सेवा भी जोड़ देंगी ताकि पॉलिसी धारकों को बेहतर सेवा दी जा सके।

ये भी पढ़े:- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! मोबाइल पर मिला ये SMS तो फटाफट करें ये काम, अन्यथा एक बड़ा नुकसान होगा

ऐसी होंगी वैल्यू एडेड सेवाएं

यही है, बीमा कंपनियां अपनी बीमा पॉलिसियों में ग्राहकों को मूल्य वर्धित सेवाएं प्रदान करेंगी, जैसे कि डायबिटीज रोगी को कौन सा डायट प्लान अपनाना चाहिए, क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। उन्हें फिटनेस कोच उपलब्ध कराए जाएंगे, स्वास्थ्य जांच की जाएगी और परामर्शी सुविधाओं को अतिरिक्त सेवा में शामिल किया जाएगा। बीमा नियामक IRDAI का कहना है कि अब बीमा कंपनियों को रोगी को अस्पताल में इलाज कराने से अधिक इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि वह खुद को बीमारियों से कैसे बचा सकता है, कैसे फिट रह सकता है ताकि कम से कम उसे अस्पताल में आना पड़े। बीमा कंपनियों का ध्यान अपनी सेवाओं को बेहतर बनाने पर अधिक होना चाहिए।

कोविड के क्लेम

खुंटिया ने बताया कि कोविद -19 के लिए अब तक 7136.3 करोड़ रुपये के दावे दिए गए हैं। जिसमें कोरोना कवच जैसे स्की दावा 700 करोड़ का है। जबकि महामारी से संबंधित जीवन बीमा दावा 1242 करोड़ रुपये का है, जिसे चुका दिया गया है।

बीमा में बड़े पैमाने पर इनोवेशन

बीमा कंपनियों ने कोविद -19 में हजारों करोड़ के दावों का निपटान किया है। बेहतर तकनीक की मदद से जोखिम को भी कम किया जा रहा है। खबर के मुताबिक, सैंडबॉक्स नियमों के कारण बीमा में नवाचार का एक बड़ा स्तर है। इसका असर यह है कि कंपनियों ने इनोवेटिव उत्पादों में रुचि बढ़ाई है।

खासकर, स्वास्थ्य और मानक उत्पादों को अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। खबर के मुताबिक, स्टैंडर्ड प्रोडक्ट्स में भी इनोवेशन किया जा सकता है। डेटा के माध्यम से जोखिम का पता लगाया जा सकता है। इसके अलावा, बीमा कंपनियों को डेटा सुरक्षा और गोपनीयता पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़े:- चेतावनी! लीक हुए इन Popular Apps के 300 मिलियन यूजर्स का पासवर्ड, लिस्‍ट में आपका नाम भी तो नहीं

Talkaaj: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें Talkaaj ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Talkaaj फेसबुक पेज लाइक करें

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए Talkaaj टेलीग्राम पेज लाइक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments