Homeअन्य ख़बरेंकारोबारKusum Yojana Registration: कुसुम योजना के तहत किसानों को सोलर पंप लगाने...

Kusum Yojana Registration: कुसुम योजना के तहत किसानों को सोलर पंप लगाने के लिए मिलती है सरकारी सहायता, ऐसे लें लाभ

Kusum Yojana Registration: कुसुम योजना के तहत किसानों को सोलर पंप लगाने के लिए मिलती है सरकारी सहायता, ऐसे लें लाभ

Kusum Yojana Registration: प्रधानमंत्री कुसुम योजना (PM Kusum Yojana) के तहत सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने के लिए किसानों को सरकारी सहायता प्रदान की जाती है। आइए जानते हैं कि कैसे इस योजना का लाभ उठाया जा सकता है।

PM Farmer Energy Security and Upliftment Maha Abhiyan:प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा और उत्थान महा अभियान (PM Kusum Yojana) वर्ष 2019 में विद्युत मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था। इस योजना के तहत, सौर ऊर्जा स्थापित करने के लिए किसानों को सरकारी सहायता प्रदान की जाती है। बिजली संयंत्रों। इस योजना के तहत सरकार किसानों को सोलर पंप लगाने के लिए बड़े पैमाने पर सब्सिडी देती है। सब्सिडी मिलने के बाद किसानों को सोलर पंप के लिए काफी कम कीमत चुकानी पड़ती है।

क्या है प्रधानमंत्री कुसुम योजना

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत प्रदेश में 75 प्रतिशत अनुदान देकर 3 एचपी से 10 एचपी क्षमता के स्टैंडअलोन सोलर पंप (standalone solar pumps)  लगाने का कार्य जारी है। इस योजना के तहत सब्सिडी राशि का 30 प्रतिशत केंद्रीय वित्तीय सहायता और 45 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है। नियम के मुताबिक किसानों को सिर्फ 25 फीसदी राशि ही देनी होगी। ये पंप किसानों द्वारा केवल सिंचाई के उद्देश्य से लगाए जाते हैं। इसमें बीमा कवर भी दिया जाता है।

यह भी पढ़िए | PM kisan: खुशखबरी! अब किसानों को हर साल 6000 के साथ 36000 रुपये मिलेंगे, ऐसे लें फायदा

ऐसे मिलेगा आपको इस योजना का लाभ

पीएम कुसुम योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं। इस योजना में किसान सोलर पावर प्लांट लगाने के लिए जमीन को लीज पर लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस योजना का लाभ केवल वही प्राप्त कर सकते हैं जो अपनी जमीन पट्टे पर देते हैं। आवेदकों के नाम आरआरसीई की आधिकारिक वेबसाइट पर दिए गए हैं। जिसके बाद आवेदक इसका लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा आवेदक को सोलर पावर प्लांट के लिए आवेदन शुल्क भी देना होगा, इस योजना की अधिक जानकारी के लिए https://mnre.gov.in/ पर जा सकते हैं।

कुसुम योजना आवेदन शुल्क

इस योजना के तहत सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदन करने के लिए आवेदक को ₹5000 प्रति मेगावाट की दर से आवेदन शुल्क और जीएसटी का भुगतान करना होगा। यह भुगतान प्रबंध निदेशक, राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के नाम डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जाएगा। आवेदन करने के लिए 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट तक की आवेदन फीस इस प्रकार है।

कुसुम योजना 2022 का उद्देश्य

जैसा कि आप जानते हैं कि भारत में कई राज्य ऐसे हैं जहां सूखा पड़ता है। और वहां खेती करने वाले किसानों को सूखे के कारण नुकसान उठाना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने पीएम कुसुम योजना 2022 शुरू की है, इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के किसानों को मुफ्त बिजली पहुंचाना है. इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा प्रदान करना ताकि वे अपने खेतों की अच्छी तरह से सिंचाई कर सकें। इस कुसुम योजना 2022 से किसान को दोगुना लाभ होगा और उसकी आय में भी वृद्धि होगी। दूसरा, अगर किसान ज्यादा बिजली पैदा करें और उसे ग्रिड को भेजें। तो उसकी भी कीमत उन्हें मिल जाएगी।

यह भी पढ़िए| PM Free Silai Machine Yojana : PM की इस योजना के तहत पाएं मुफ्त सिलाई मशीन, एक रुपया भी खर्च नहीं करना पड़ेगा

कुसुम योजना के कॉम्पोनेंट्स

कुसुम योजना के चार कॉम्पोनेंट है जो कि कुछ इस प्रकार हैं।

सौर पंप वितरण: कुसुम योजना के प्रथम चरण के दौरान केंद्र सरकार के विभागों के साथ मिलकर बिजली विभाग, सौर ऊर्जा संचालित पंप के सफल वितरण करेगी।

सौर ऊर्जा कारखाने का निर्माण: सौर ऊर्जा कारखानों का निर्माण किया जाएगा जोकि पर्याप्त मात्रा में बिजली का उत्पादन करने की क्षमता रखते हैं।

ट्यूबवेल की स्थापना: सरकार द्वारा ट्यूबवेल की स्थापना की जाएगी जो कि कुछ निश्चित मात्रा में बिजली उत्पादन करेंगे।

वर्तमान पंपों का आधुनिकरण: वर्तमान पंपों का आधुनिकरण भी किया जाएगा कथा पुराने पंपों को नए सौर पंपो से बदला जाएगा।

कुसुम योजना के पहले ड्राफ्ट के अंतर्गत यह प्लांट्स बांझ क्षेत्रों में लगाए जाएंगे जोकि 28000 मेगावाट बिजली उत्पादन में सक्षम है। प्रथम चरण में सरकार द्वारा 17.5 लाख सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप किसानों को उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके अलावा बैंक किसानों को लोन के रूप में कुल खर्च का 30% अतिरिक्त प्रदान करेगी। किसानों को केवल अग्रिम लागत ही खर्च करनी होगी।

कुसुम योजना से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

• कुसुम योजना की एक खास बात यह है कि इस योजना के तहत संयंत्र की कुल लागत का 30% केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा, 30% राज्य सरकार द्वारा दिया जाएगा, इसके अलावा 30% राशि दी जाएगी कृषि उपभोक्ताओं को नाबार्ड या अन्य बल्लेबाजी संस्थान द्वारा ऋण के रूप में। वित्त किया जाएगा।
• इसका मतलब है कि किसानों को राशि का केवल 10% ही भुगतान करना होगा।
• इसके अलावा अतिरिक्त बिजली उत्पादन होने पर बची हुई बिजली भी किसान बेच सकता है.
• आवेदन के समय आवेदक के पास आधार कार्ड और बैंक खाता होना अनिवार्य है।
• सब्सिडी की राशि सरकार द्वारा आवेदक के खाते में भेजी जाएगी।
• इसके अलावा किसानों, डिस्कॉम और बैंकों के साथ तीसरे पक्ष के समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। किसान द्वारा अर्जित बिजली को दो भागों में बांटा जाएगा।
• पहला भाग उपभोक्ता का होगा और दूसरा भाग ऋण की किस्त का होगा।
• इस योजना से किसानों तक बिजली पहुंचेगी और बंजर जमीन से पैसा कमाया जा सकता है.

यह भी पढ़िए| E-Shram Card : श्रम कार्ड धारक मजदूर को मिलेगी हर महीने 3000 की पेंशन, जानिए ई-श्रमिक कार्ड के फायदे

कुसुम योजना 2022 के लाभ

• देश के सभी किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
• रियायती दरों पर सौर सिंचाई पंप उपलब्ध कराना।
• 10 लाख ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों का सोलराइजेशन।
• कुसुम योजना 2022 के तहत पहले चरण में डीजल से चलने वाले 17.5 लाख सिंचाई पंप सौर ऊर्जा से चलाए जाएंगे. इससे डीजल की खपत कम होगी।
• अब खेतों की सिंचाई करने वाले पंप सौर ऊर्जा से चलेंगे, किसानों की खेती को बढ़ावा मिलेगा.
• इस योजना से मेगावाट अतिरिक्त बिजली पैदा होगी।
• इस योजना के तहत किसानों को केंद्र सरकार की ओर से सोलर पैनल लगाने के लिए 60% आर्थिक सहायता दी जाएगी और बैंक 30% ऋण सहायता प्रदान करेगा और केवल किसान को 10% का भुगतान करना होगा।
• कुसुम योजना उन किसानों के लिए फायदेमंद होगी जहां राज्य सूखे से पीड़ित होगा और जहां बिजली की समस्या है।
• सोलर प्लांट लगाने से 24 घंटे बिजली मिलेगी। जिससे किसान आसानी से अपने खेतों की सिंचाई कर सकें।
• सोलर पैनल से उत्पन्न अतिरिक्त बिजली किसान उस बिजली को सरकारी या गैर सरकारी बिजली विभागों को बेच सकता है, जहां से किसान को 1 महीने के लिए 6000 रुपये की मदद मिल सकती है.
• कुसुम योजना के तहत जो भी सोलर पैनल लगाए जाएंगे, उन्हें बंजर भूमि में लगाया जाएगा, जिससे बंजर भूमि का भी उपयोग होगा, और बंजर भूमि से आय प्राप्त होगी।

कुसुम योजना की पात्रता

• आवेदक भारत का स्थायी निवासी होना चाहिए।
• कुसुम योजना के तहत 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदक द्वारा आवेदन किया जा सकता है।
• आवेदक अपनी भूमि या वितरण निगम द्वारा अधिसूचित क्षमता (जो भी कम हो) के अनुपात में 2 मेगावाट क्षमता के लिए आवेदन कर सकता है।
• प्रति मेगावाट लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
• इस योजना के अंतर्गत स्वयं के निवेश वाली परियोजना के लिए किसी वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं है।
• यदि परियोजना को आवेदक द्वारा किसी डेवलपर के माध्यम से विकसित किया जा रहा है, तो डेवलपर के पास 1 करोड़ रुपये प्रति मेगावाट की निवल संपत्ति होना अनिवार्य है।

कुसुम योजना महत्वपूर्ण दस्तावेज

• आधार कार्ड
• राशन पत्रिका
• पंजीकरण की प्रति
• प्राधिकार पत्र
•जमीन की जमाबंदी की प्रति
• चार्टर्ड एकाउंटेंट द्वारा जारी निवल मूल्य प्रमाणपत्र (डेवलपर के माध्यम से परियोजना विकास के मामले में)
• मोबाइल नंबर
• बैंक खाता विवरण
• पासपोर्ट के आकार की तस्वीर

यह भी पढ़िए| बेटी (Daughter) के लिए तैयार करें 50 लाख का फंड, सिर्फ 7 साल करना होगा निवेश, जानिए क्या है योजना?

राजस्थान कुसुम योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

  • राज्य के इच्छुक लाभार्थी जो इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए चरणों का पालन करें।
  •  सबसे पहले आवेदक को योजना की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  •  इस होम पेज पर आपको “ऑनलाइन पंजीकरण” पंजीकरण का विकल्प दिखाई देगा, इस विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी जैसे नाम, पता, आधार नंबर, मोबाइल आदि भरनी होगी।
  • अब विवरण भरने के बाद अंत में सबमिट बटन पर क्लिक करें। सफल पंजीकरण के बाद आपको चयनित लाभार्थियों को सौर पंप सेट की 10% लागत विभाग द्वारा अनुमोदित आपूर्तिकर्ताओं को जमा करने का निर्देश दिया जाता है।
  • इसके बाद कुछ ही दिनों में उनके खेतों में सोलर पंप लगा दिए जाएंगे।

कुसुम योजना की राज्यवार डायरेक्ट लिंक

 आंध्र प्रदेश  यहां क्लिक करें
 अरुणाचल प्रदेश  यहां क्लिक करें
 आसाम  यहां क्लिक करें
 बिहार यहां क्लिक करें
 छत्तीसगढ़ यहां क्लिक करें
 गोवा यहां क्लिक करें
 गुजरात यहां क्लिक करें
 हरियाणा यहां क्लिक करें
 हिमाचल प्रदेश यहां क्लिक करें
 झारखंड यहां क्लिक करें
 कर्नाटका यहां क्लिक करें
 केरला यहां क्लिक करें
 मध्य प्रदेश यहां क्लिक करें
 महाराष्ट्र यहां क्लिक करें
 मणिपुर यहां क्लिक करें
 मेघालय यहां क्लिक करें
 मिजोरम यहां क्लिक करें
 नागालैंड यहां क्लिक करें
 ओडीशा यहां क्लिक करें
 पंजाब यहां क्लिक करें
 राजस्थान यहां क्लिक करें
 सिक्किम यहां क्लिक करें
 तमिल नाडु यहां क्लिक करें
 तेलंगाना यहां क्लिक करें
 त्रिपुरा यहां क्लिक करें
 उत्तर प्रदेश यहां क्लिक करें
 उत्तराखंड यहां क्लिक करें
 वेस्ट बंगाल यहां क्लिक करें
 अंडमान एंड निकोबार आईलैंड यहां क्लिक करें
 चंडीगढ़ यहां क्लिक करें
 दादर एंड नगर हवेली एंड दमन एंड दिउ यहां क्लिक करें
 दिल्ली यहां क्लिक करें
 जम्मू एंड कश्मीर यहां क्लिक करें
 लद्दाख यहां क्लिक करें
 लक्षदीप यहां क्लिक करें
 पुदु यहां क्लिक करें

Helpline Number

हमने अपने इस लेख में कुसुम योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको दी है। यदि आप अभी भी किसी समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप कुसुम योजना की हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं जो कि कुछ इस प्रकार है।

  • Contact Number- 011-243600707, 011-24360404
  • Toll-Free Number- 18001803333

Important Download

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Koo पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Google News पर फॉलो करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments