Homeहटके ख़बरेंMaggi,बनाने वाली कंपनी Nestle के 60% फूड है 'अनहेल्दी', इस फूड को...

Maggi,बनाने वाली कंपनी Nestle के 60% फूड है ‘अनहेल्दी’, इस फूड को तो 99% खतरनाक बताया गया

Maggi, बनाने वाली कंपनी Nestle के 60% फूड है ‘अनहेल्दी’, इस फूड को तो 99% खतरनाक बताया गया

न्यूज़ डेस्क:- नेस्ले (Nestle), वही कंपनी जिसके मैगी और नेस्कैफे कॉफी प्रेमी सभी दीवाने हैं। कंपनी फिलहाल कुछ इंटरनल डॉक्युमेंट्स लीक होने की वजह से विवादों में है। दरअसल, कंपनी के कुछ बड़े अधिकारियों के बीच कंपनी के खाने-पीने के उत्पादों के बारे में प्रेजेंटेशन शेयर किए गए। इनमें कहा गया है कि नेस्ले द्वारा बनाए गए अधिकांश सामानों को ‘स्वस्थ’ नहीं कहा जा सकता है। जब एक अखबार ने इन लीक हुए दस्तावेजों के जरिए खबर छापी तो हंगामा मच गया। अब कंपनी साख बचाने की कोशिश कर रही है। कंपनी ने कहा है कि वह जल्द ही नई स्वास्थ्य रणनीति में कमी करेगी।

इतना बवाल क्यों है?

ब्रिटिश अखबार फाइनेंशियल टाइम्स ने नेस्ले को लेकर यह बड़ा खुलासा किया है। अखबार के मुताबिक नेस्ले कंपनी के अधिकारियों के बीच साझा किए गए एक प्रेजेंटेशन में कहा गया है कि नेस्ले फूड एंड ड्रिंक्स के ज्यादातर उत्पाद अस्वस्थ हैं। इन प्रस्तुतियों को 2021 की शुरुआत में नेस्ले के अधिकारियों के बीच साझा किया गया है।

इसमें कहा गया है कि नेस्ले के 60 फीसदी फ्लैगशिप उत्पाद ऐसे हैं जिन्हें सही मायने में हेल्दी नहीं कहा जा सकता। कंपनी द्वारा परिचालित दस्तावेजों में यह भी कहा गया है कि कंपनी के कुछ उत्पाद ऐसे हैं जो कभी भी स्वस्थ नहीं हो सकते। प्रस्तुति में कहा गया है कि

यह भी पढ़े:- WhatsApp पर फर्जी ख़बरों को इन 5 तरीकों से पता लगायें, जानें पूरी जानकारी

हमारे उत्पाद और श्रेणियां ऐसी हैं कि वे कभी भी स्वस्थ नहीं रहेंगे, चाहे हम कितना भी बदल लें।

लीक हुए दस्तावेज़ यह भी बताते हैं कि नेस्ले (Nestle) के लगभग 50 प्रतिशत उत्पादों के साथ भी ऐसा ही है। राहत की बात यह है कि इन दस्तावेजों में बच्चों के लिए चिकित्सा पोषण, पालतू भोजन, कॉफी और फार्मूला शामिल नहीं है।

कौन सा स्वस्थ माना जाता है?

अब चूंकि इन लीक हुए दस्तावेजों को अस्वस्थ बताया गया है, तो यह भी पता होना चाहिए कि ‘स्वस्थ’ किसे माना जाता है। इसके लिए ऑस्ट्रेलिया में हेल्थ स्टार रेटिंग सिस्टम है। प्रत्येक खाद्य पदार्थ को 5 में से मूल्यांकित किया जाता है। इसके बाद भोजन को शोध के लिए दुनिया भर की एजेंसियों को भेजा जाता है। भोजन पर शोध ‘एक्सेस टू न्यूट्रिशन फाउंडेशन’ जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा किया जाता है।

नेस्ले कंपनी के खाने-पीने में 37 फीसदी को ऑस्ट्रेलिया की हेल्थ स्टार रेटिंग के मुताबिक 5 में से 3.5 की रेटिंग मिली है।

कंपनी के जो आंतरिक दस्तावेज लीक हुए हैं उनमें नेस्ले ने 3.5 रेटिंग को सेहतमंद होने का पैमाना माना है। लीक हुए दस्तावेजों का मानना ​​है कि कंपनी के 70 प्रतिशत खाद्य पदार्थ और 96 प्रतिशत पेय पदार्थ (कॉफी को छोड़कर) स्वस्थ श्रेणी में नहीं आते हैं। इसके अलावा नेस्ले के 99 प्रतिशत कन्फेक्शनरी आइटम (टॉफी-चॉकलेट आदि जैसी मीठी चीजें) और आइसक्रीम भी हेल्दी की श्रेणी में नहीं आते हैं। कंपनी का एकमात्र डेयरी उत्पाद और पानी ऐसा होना चाहिए जो 3.5 की रेटिंग सीमा से मेल खाता हो।

नेस्ले ने दस्तावेजों में माना है कि उसका खाना-पीना सेहतमंद होने की परिभाषा से नीचे है। कंपनी ने दस्तावेजों में कहा है कि

हमने अपने उत्पादों में काफी सुधार किया है। लेकिन स्वस्थ होने की परिभाषा के अनुसार हमारा प्रदर्शन अभी भी बहुत कम है। नियामक एजेंसियों और ग्राहकों की मांग का दबाव बढ़ रहा है।

यह भी पढ़े:- Aadhaar में नाम, पता और जन्मतिथि गलत हो गई है तो घर पर ही ठीक करें, बिना किसी टेंशन के हो जाएगा काम 

आइसक्रीम है ‘अनहेल्दी’ तो नेस्ले काॅफी ‘हेल्दी’

कंपनी की प्रस्तुति से यह भी पता चला कि कंपनी के खाद्य और पेय के समग्र पोर्टफोलियो के भीतर, उसके कन्फेक्शनरी और आइसक्रीम पोर्टफोलियो का 99 प्रतिशत “स्वास्थ्य की मान्यता प्राप्त परिभाषा” सीमा को पूरा नहीं करता था.

नेस्ले आया डैमेज कंट्रोल मोड में

इंडिया टुडे के मुताबिक, यह रिपोर्ट ऐसे समय आई है, जब कंपनी मैगी (Maggi) नूडल्स, किटकैट और अन्य उत्पादों को हेल्दी फूड के तौर पर प्रमोट कर रही है। कंपनी पहले ही कह चुकी है कि वह अपनी पोषण और स्वास्थ्य रणनीति में बदलाव कर रही है। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद नेस्ले बचाव में आई है। उसने कहा कि

हम अपने सभी उत्पादों को देखेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि सभी एक संतुलित आहार और उचित पोषण प्रदान करें। हमने दशकों तक कड़ी मेहनत करके एक मजबूत नींव बनाई है। उदाहरण के लिए, हमने सामन के अपने आहार में धीरे-धीरे चीनी और सोडियम को कम कर दिया है। हमने इसे पिछले 7 साल में ही 14-15 फीसदी घटा दिया है। हम मानते हैं कि एक स्वस्थ आहार का मतलब ऐसा भोजन है जो स्वादिष्ट और स्वस्थ भी हो। ऐसे में कुछ जगह खाने का लुत्फ उठाने के लिए भी रखी गई है। बदलाव की ओर हमारा कदम पूरी तरह से स्पष्ट है। हम अपने सभी उत्पादों को स्वादिष्ट और स्वस्थ बनाएंगे।

आपको बता दें कि नेस्ले भारत में मैगी को लेकर पहले भी विवादों में रही है। भारत में इसकी बिक्री पर भी कुछ दिनों के लिए रोक लगाई जा रही थी। अब इस तरह की रिपोर्ट्स सामने आने से इस यूरोपियन ब्रांड को नुकसान हो सकता है। नेस्ले का भारत में बहुत बड़ा बाजार है। कंपनी भारत में चॉकलेट, नूडल्स, डिब्बाबंद दूध, पेय आदि बनाती है।

यह भी पढ़े:- SBI ग्राहक ध्यान दें! इस काम को जल्द से जल्द पूरा करें, नहीं तो आपको पैसों के लेन-देन से लेकर कई अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।

इस आर्टिकल को शेयर करें

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments