Mass Communication Course kya hai | मास कम्युनिकेशन कोर्स क्या है | What is mass communication course

Mass Communication Course
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

Mass Communication Course kya hai | मास कम्युनिकेशन कोर्स क्या है | What is mass communication course

ज्ञान डेस्क:- आज की पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि Mass Communication Course kya hai और इसमें करियर कैसे बनाया जाए। अगर आप भी इस क्षेत्र में करियर बनाने का सपना देख रहे हैं तो यह पोस्ट आपके लिए बेहद जरूरी है। क्योंकि इस पोस्ट में मास कम्युनिकेशन कोर्स और करियर से जुड़ी हर जानकारी दी गई है। ताकि आप इस करियर विकल्प के बारे में सही जानकारी प्राप्त कर अपने लिए सही Career निर्णय ले सकें।

Contents Hide

मास कम्युनिकेशन कोर्स क्या है? (Mass Communication Course kya hai)

सबसे पहले यह जान लेते हैं कि जनसंचार क्या है? मास कम्युनिकेशन मास जर्नलिज्म से संबंधित कोर्स है। इसमें आप डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, BA in Mass Communication and journalism, बीएससी मास कम्युनिकेशन, बीजीएमसी, एमजेएमसी, एमए इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म जैसे कोर्स कर सकते हैं।

इस प्रोग्राम में क्या अनोखा है?

मास कम्युनिकेशन कोर्स (Mass Communication Course) की खास बात यह है कि इस कोर्स को करने के बाद नौकरी के कई अवसर मिलते हैं। इस कोर्स के बाद आप न्यूज चैनल में न्यूज एंकर, न्यूज रिपोर्टर, कैमरामैन, न्यूज वीडियो एडिटर, न्यूज राइटर, न्यूज प्रोड्यूसर के रूप में काम कर सकते हैं।

मास कम्युनिकेशन कोर्स के बाद कोई भी अखबार में रिपोर्टर, एडिटर, फोटो जर्नलिस्ट के रूप में काम कर सकता है। फिल्म उद्योग में मास कम्युनिकेशन के छात्रों के लिए भी नौकरी के अच्छे अवसर हैं।

मास कम्युनिकेशन प्रोफेशनल्स फिल्म और टीवी सीरियल्स में असिस्टेंट डायरेक्टर, आर्ट डायरेक्टर, कास्टिंग डायरेक्टर, साउंड इंजीनियर, प्रोडक्शन मैनेजर के रूप में काम कर सकते हैं।

इतना ही नहीं मास कम्युनिकेशन के छात्र किसी भी कंपनी या फर्म में जनसंपर्क अधिकारी, किसी हीरो, हेरोइन, राजनेता, अभिनेता, खिलाड़ी के सेलिब्रिटी मैनेजर भी बन सकते हैं।

मास कम्युनिकेशन कोर्स पूरा करने के बाद, इन छात्रों के लिए विज्ञापन एजेंसियों, सोशल मीडिया मार्केटिंग एजेंसियों और डिजिटल मार्केटिंग एजेंसियों में भी नौकरी के पर्याप्त अवसर हैं।

आज के समय में वेब मीडिया यानि न्यूज पोर्टल्स और वेब पोर्टल्स बहुत हो गए हैं तो आप इनमें कंटेंट राइटर के तौर पर भी काम कर सकते हैं. इतना ही नहीं आप अपना खुद का वेब पोर्टल या न्यूज पोर्टल भी शुरू कर सकते हैं। अगर आप न्यूज लिखना जानते हैं तो यह जरूरी नहीं है कि आप मास कम्युनिकेशन का कोर्स करें।

यह भी पढ़िए:- News Portal kaise Shuru kare | How To Start News Portal | ऐसे शुरू करें लाखों रुपये कमाने वाला न्यूज पोर्टल

मास कम्युनिकेशन कैसे करें?

मास कम्युनिकेशन कोर्स करने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार किसी भी स्ट्रीम से कम से कम 12वीं पास हो। इसके बाद मास कम्युनिकेशन में डिप्लोमा या बैचलर डिग्री कोर्स कर सकते हैं।

प्रोग्राम में दाखिला लेने के लिए क्या योग्यता चाहिए?

अगर आप मास कम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स या बैचलर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो आपको 12वीं पास होना चाहिए। वहीं अगर आप पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो कम से कम आपके पास किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन होना चाहिए।

Mass communication course kitne saal ka hota hai

मास कम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स 2 साल का, बैचलर डिग्री 3 साल का और पीजी डिप्लोमा कोर्स 1 साल का और मास्टर डिग्री 2 साल का होता है।

क्या इसके लिए कोई प्रवेश परीक्षा है?

मास कम्युनिकेशन कोर्स में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा भी विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित की जाती है। इस कोर्स में प्रवेश प्रवेश परीक्षा और बिना प्रवेश परीक्षा दोनों के माध्यम से किया जाता है। अगर आप यह कोर्स बहुत अच्छे कॉलेज से करना चाहते हैं तो आपको एंट्रेंस एग्जाम देना होगा।

यह भी पढ़िए:- इलेक्ट्रॉनिक मीडिया क्या है? | What Is Electronic Media

इस कार्यक्रम का उद्देश्य क्या है?

इस कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों को पत्रकारिता और जनसंचार का बुनियादी ज्ञान प्रदान कर उन्हें इस क्षेत्र में काम करने के योग्य बनाना है।

इस कार्यक्रम में कौन से मीडिया विषय शामिल हैं?

जन संचार कार्यक्रम में मीडिया और संचार सिद्धांत, प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, ऑडियो और वीडियो उत्पादन, एंकरिंग, रेडियो जॉकी, कैमरा और प्रकाश व्यवस्था, समाचार लेखन, फिल्म लेखन, फीचर लेखन, फिल्म संपादन, जनसंपर्क, विज्ञापन आदि जैसे विषय शामिल थे। हुह।

क्या छात्रों को मीडिया सॉफ्टवेयर पर काम करना सिखाया जाता है?

जी हां, इस कोर्स के दौरान छात्रों को मीडिया के क्षेत्र में इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर के बारे में पढ़ाया जाता है। adove premire pro, फाइनल कट प्रो, ऑडेसिटी, adove फोटोशॉप, कोरल ड्रॉ, डीटीपी आदि जैसे वीडियो एडिटिंग के लिए।

मीडिया में आने के लिए क्या करना पड़ता है?

कुछ छात्रों का सवाल होता है कि मीडिया में जाने के लिए क्या करना होगा तो इसके लिए हम आपको बता दें कि सबसे पहले आपको 12वीं पास करनी होगी। इसके बाद मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म में डिप्लोमा या डिग्री कोर्स करें। उसके बाद किसी अच्छे मीडिया संस्थान में इंटर्नशिप करें। इंटर्नशिप के बाद आप किसी भी मीडिया हाउस में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Mass Communication and Journalism ki fees kitni hoti hai?

इस कार्यक्रम की फीस 5 हजार से 1 लाख प्रति वर्ष के बीच हो सकती है। अगर आप यह कोर्स किसी सरकारी संस्थान से कर रहे हैं तो 5 से 20 हजार प्रति वर्ष में कर सकते हैं। निजी कॉलेजों में फीस 50 हजार से 1 लाख प्रति वर्ष के बीच है।

यह भी पढ़िए :-सावधान रहें, गलती से भी Google पर ये बातें सर्च न करें, वरना पहुंच जाएंगे जेल!

Media me आने के लिए क्या स्किल्स जरूरी होती हैं?

  • आपकी कम्युनिकेशन स्किल बहुत अच्छी है।
  • कैमरे के सामने बोलने से न डरें।
  • हिंदी और अंग्रेजी पर अच्छी पकड़ हो।
  • मजबूत लेखन कौशल हो।
  • विपरीत परिस्थितियों में भी काम करने का जज्बा रखें।

मास कम्युनिकेशन कोर्स कॉलेज संस्थान

  • भारतीय जनसंचार संस्थान दिल्ली
  • माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल
  • जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली
  • भारतीय विद्या भवन दिल्ली
  • जागरण इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन दिल्ली
  • संचार के सिम्बायोसिस संस्थान
  • मणिपाल संचार संस्थान
  • दिल्ली विश्वविद्यालय
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय
  • चंडीगढ़ विश्वविद्यालय
  • पुणे विश्वविद्यालय
  • इलाहाबाद विश्वविद्यालय
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, आदि।

Google me पूछे जाने वाले सवाल के जबाब

मास कम्युनिकेशन हिंदी मीनिंग

मास कम्युनिकेशन यानी मास कम्युनिकेशन। जनसंचार का अर्थ यह है कि जब हम लोगों के साथ बहुत बड़े स्तर पर संवाद करते हैं, तो इसे जन संचार कहा जाता है। उदाहरण के लिए, टीवी रेडियो, समाचार पत्र या समाचार से समाचार पूरी दुनिया में एक साथ भेजे जाते हैं। इसे मास कम्युनिकेशन कहा जाता है।

मास कम्युनिकेशन सिलेबस

  • मीडिया के सिद्धांत
  • मुद्रण माध्यम
  • इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  • वेब मीडिया
  • फिल्में
  • वीडियो उत्पादन
  • कैमरा और लाइटिंग
  • एंकरिंग
  • वीडियो संपादन
  • ध्वनि रिकॉर्डिंग और इंजीनियरिंग
  • समाचार लेखन
  • फिल्म कहानी लेखन, आदि।

इस कार्यक्रम में टाइम्स ग्रुप का क्या योगदान है?

मीडिया के क्षेत्र में टाइम्स ग्रुप का बहुत बड़ा योगदान है। बेनेट कॉलेज ऑफ मास कम्युनिकेशन जो टाइम्स ग्रुप का एक मीडिया कॉलेज है। यह भारत का सबसे अच्छा निजी मीडिया कॉलेज है।

यह भी पढ़िए:- यह LIC Policy बच्चे को ‘लखपति’ बनाएगी, इस योजना को जन्म पर ही खरीद लीजिए

क्या बेनेट विश्वविद्यालय फील्ड ट्रिप आयोजित करता है?

हाँ बेनेट यूनिवर्सिटी मीडिया के छात्रों को इस क्षेत्र में कैसे काम करना है। इसकी पूरी जानकारी देते हैं।

क्या बेनेट विश्वविद्यालय इंटर्नशिप आयोजित कराती है?

बेनेट विश्वविद्यालय जनसंचार के छात्रों के लिए इंटर्नशिप भी आयोजित करता है। ताकि छात्र मीडिया विशेषज्ञों के साथ काम करें और सीखें।

Mass Communication courses after 12th

अगर आप मास कम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स या बैचलर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो आपको 12वीं पास होना चाहिए। वहीं अगर आप पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो कम से कम आपके पास किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन होना चाहिए।

आशा है आपको यह जानकारी बहुत अच्छी लगी होगी।

इस लेख को Share और Like करें, साथ ही ऐसे और लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
Picture of TalkAaj

TalkAaj

हैलो, मेरा नाम PPSINGH है। मैं जयपुर का रहना वाला हूं और इस News Website के माध्यम से मैं आप तक देश और दुनिया से व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट पहुंचाने की कोशिश करता हूं। आपसे विनती है कि अपना प्यार हम पर बनाएं रखें ❤️

Leave a Comment

Top Stories