Parenting Tips In Hindi | अच्छे माता-पिता बनने के लिए क्या करे पूरी डिटेल्स 

Parenting Tips In Hindi 
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

Parenting Tips In Hindi | अच्छे माता-पिता बनने के लिए क्या करे पूरी डिटेल्स 

Parenting Tips In Hindi  : बच्चों को सही बातें समझाना और अच्छी आदतें डालना बहुत आसान है। इसलिए इन्हें गीली मिट्टी कहा जाता है। बचपन में उन्हें जो परवरिश मिलती है, वे बड़े होने पर वैसी ही हो जाती हैं। इसलिए बच्चों की परवरिश को माता-पिता की सबसे बड़ी जिम्मेदारी बताया गया है। इसीलिए इस लेख में हम एक अच्छे माता-पिता बनने के लिए आवश्यक टिप्स लेकर आए हैं। Talkaaj News के इस लेख में, हम पहले समझाएंगे कि सकारात्मक पालन-पोषण क्या है। इसके बाद वह एक अच्छे माता-पिता बनने के लिए जरूरी टिप्स देंगे।

आइए पहले लेख में जानते हैं कि पॉजिटिव पेरेंटिंग क्या है।

विषयसूची

पॉजिटिव पेरेंटिंग क्या है? – What is Positive Parenting?

अच्छे माता पिता बनने के लिए टिप्स – Positive Parenting Tips In Hindi

पॉजिटिव पेरेंटिंग क्या है? – What is Positive Parenting?

सकारात्मक पालन-पोषण का तात्पर्य बच्चे को अलग तरीके से पालने से है। यह पालन-पोषण पूरी तरह से बच्चे के साथ एक गहरा रिश्ता बनाने, एक दूसरे के साथ सही तरीके से संवाद करने और सम्मान देने पर केंद्रित है। इस दौरान बच्चे को न सिर्फ समझाया जाता है कि उसे क्या करना चाहिए बल्कि यह भी बताया जाता है कि ऐसा करना उसके लिए क्यों जरूरी है।

इस दौरान बच्चे को यह भी सिखाया जाता है कि आत्म-नियंत्रण कैसे विकसित किया जाए। माता-पिता बच्चे को डर दिखाकर अनुशासन सिखाने की बजाय उनमें आत्म-अनुशासन विकसित करने का प्रयास करते हैं। सकारात्मक पालन-पोषण में, नियमों पर खुलकर चर्चा की जाती है और फिर उनका पालन किया जाता है। वहीं माता-पिता अपनी बात बच्चों पर थोपने की बजाय उन्हें अच्छी तरह से सुनने और उनके विचारों को समझने की कोशिश करते हैं।

अच्छे माता पिता बनने के लिए टिप्स – Positive Parenting Tips In Hindi

एक अच्छे माता-पिता बनने के कई तरीके हैं। इस लेख में, हम एक अच्छे माता-पिता बनने के लिए टिप्स लेकर आए हैं। ये सकारात्मक पालन-पोषण में मदद करेंगे और बच्चों को सही मार्गदर्शन भी दे सकेंगे।

गुस्सा करने से बचें:

अक्सर माता-पिता अपने आपसी झगड़े का गुस्सा अपने बच्चे पर निकालते हैं। ऐसे में कई बार बच्चों को ऐसी चीजों की सजा मिल जाती है जिन्हें आसानी से नजर अंदाज किया जा सकता है। बस, माता-पिता को हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बच्चों को अनुशासन सिखाते समय उनका व्यक्तिगत या ऑफिस का गुस्सा उन पर न निकालें।

बच्चों को लालच ना दे:

शरारतों से बचने के लिए माता-पिता अक्सर बच्चों को खिलौनों या उनके पसंदीदा भोजन से लुभाने की कोशिश करते हैं। ऐसे में बच्चे ठीक से व्यवहार करने की बजाय माता-पिता के सामने अपनी मांगों को रखने की कोशिश कर सकते हैं। अगर उन्हें अपनी पसंदीदा चीज़ नहीं मिलती है तो वे बार-बार धमकाने की धमकी भी दे सकते हैं, इसलिए बच्चों को लुभाने की कोशिश न करें।

ओवर रिएक्ट न करें:

माता-पिता अक्सर बच्चों की गलतियों पर डांटते हैं या जोर-जोर से चिल्लाते हैं। ऐसे में जब बच्चा अपनी सफाई की बात करता है तो वो मां-बाप सुन नहीं पाते हैं. जब माता-पिता बच्चों पर चिल्लाते हैं, तो बच्चे भी उनकी बात सुनना बंद कर सकते हैं।

नतीजतन कई बार वे माता-पिता को परेशान करने के लिए और शरारतें करने लगते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि उनकी किसी भी गलती पर ओवर रिएक्ट करने से बचें। यदि अधिक हो, तो वे उन्हें अपनी गलतियों के लिए छोटी-छोटी सजाओं के साथ खेलने से रोकने के लिए कहकर डरा सकते हैं, जैसे कि उनके द्वारा अपने कमरे की सफाई करवाना।

प्यार से पेश आएं:

बच्चे अक्सर अपने मन की बात किसी को नहीं बताते। ऐसे में बच्चे को यह अहसास कराएं कि आप उनकी भावनाओं को समझ सकते हैं। साथ ही उनकी खाने की पसंद के बारे में भी पूछें। बैठो और उसे खिलाओ, जब बच्चा उदास हो, तो उन्हें गले लगाओ। ऐसे में बच्चे के साथ अपना समय बिताएं और उसे अपने प्यार का एहसास कराएं।

उनके साथ खेलें और कहानियां सुनाएं:

अपने बच्चों को खेलने, नाचने और कहानियां सुनाने के लिए अपना समय दें। इस तरह बिताया माता-पिता का समय बच्चों के आत्मविश्वास को बढ़ा सकता है। बस इस दौरान बच्चों का रूटीन बनाएं। उनके साथ केवल उस रूटीन टाइम में एक्टिविटी करें और बाकी समय में उन्हें पढ़ने और दूसरे काम करने के लिए प्रेरित करें।

व्यायाम और मेडिटेशन करें :

माता-पिता के लिए सकारात्मक पालन-पोषण के लिए सकारात्मक होना बहुत जरूरी है, क्योंकि जब माता-पिता तनाव में होते हैं, तो इसका असर बच्चे पर कहीं न कहीं पड़ सकता है। ऐसे में जरूरी है कि माता-पिता अपने तनाव को दूर करने या कम करने के लिए व्यायाम और ध्यान करें। इसमें अपने बच्चे को भी शामिल करें। इससे न केवल माता-पिता का मानसिक स्वास्थ्य बल्कि बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होगा। इस बात का ध्यान रखें कि बच्चे को व्यायाम देने से पहले इस बारे में विशेषज्ञ की सलाह लें और पहली बार किसी विशेषज्ञ की देखरेख में ही व्यायाम करें।

दूसरे बच्चों से न करें तुलना:

अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से बिल्कुल न करें। ऐसा करने से उनके मन में हीन भावना पैदा हो सकती है। इससे उनका व्यवहार चिड़चिड़ा हो सकता है। इसके अलावा, वे लड़ भी सकते हैं। बच्चे को यह समझाने की कोशिश करना बेहतर है कि हर कोई अपने आप में खास है। हर किसी में अलग-अलग गुण होते हैं, इसलिए कभी भी खुद को दूसरों से कम समझने की गलती न करें।

लोगों के सामने डांटने से बचें:

माता-पिता अक्सर बच्चों को उनकी दुष्टता के लिए डांटते हैं। ऐसे में सकारात्मक पालन-पोषण के लिए माता-पिता को यह ध्यान रखने की जरूरत है कि वे बच्चों को सबके सामने न डांटें। सबके सामने डांट सुनना उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुंचा सकता है और उन्हें शर्मिंदा भी कर सकता है। यह उनके आत्मविश्वास को भी प्रभावित कर सकता है। ऐसे में उन्हें एकांत में उनके व्यवहार के बारे में बताएं और समझाएं।

अपने सपने न थोपें:

अपने सपने और उम्मीदें बच्चों पर न थोपें। सबकी अपनी-अपनी क्षमता है, कोई पढ़ाई में अव्वल है तो कोई खेल में आगे है। बस अपने बच्चे को समझने की कोशिश करें, उन पर अपनी किसी उम्मीद का बोझ न डालें। भविष्य में वह जिस भी क्षेत्र में जाना चाहता है, उसमें उसकी मदद करें। हां, अगर वे किसी तरह का गलत निर्णय लेते हैं, तो उन्हें समझाएं और सही रास्ता दिखाएं।

मिसाल बनें :

बच्चे अपने माता-पिता की परछाई से कम नहीं होते। ऐसे में माता-पिता जिस तरह से अपने बच्चे को आगे बढ़ते हुए देखना चाहते हैं, माता-पिता को पहले खुद ऐसा ही बनना होगा। माता-पिता को हमेशा बच्चों के सामने कुछ ऐसा करना चाहिए, जिससे वे खुद बच्चों के लिए एक मिसाल बन जाएं। इसे देखकर बच्चे प्रभावित हो सकते हैं और वे माता-पिता के नक्शेकदम पर चलने की कोशिश कर सकते हैं।

बच्चे के दोस्त बनें:

दोस्ती के रिश्ते में हर इंसान के लिए अपनी सारी परेशानी और चिंताएं अपने दोस्त के साथ साझा करना आसान होता है। यही कारण है कि माता-पिता को बच्चों के दोस्त बनने की कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए माता-पिता को उनके साथ समय बिताना चाहिए और उनकी बात को समझना चाहिए और बच्चों के साथ सुख-दुख बांटना चाहिए। कुछ देर उनके साथ उनका पसंदीदा खेल खेलने की कोशिश करें। ऐसा करने से बच्चों के साथ माता-पिता का रिश्ता मजबूत होगा।

उपहार दें:

बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए कभी-कभी उन्हें उपहार भी दिए जा सकते हैं। ऐसा करने से बच्चे खुश तो होंगे ही साथ ही प्रेरित भी होंगे और सही दिशा में काम करने की कोशिश करेंगे। उपहार स्वरूप बच्चों को कहीं पिकनिक पर ले जाया जा सकता है। इसके अलावा आप उन्हें टॉफी या चॉकलेट भी दे सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें कि बच्चा लालची बिल्कुल न हो। कभी-कभी सिर्फ प्रोत्साहित करने की जरूरत होती है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि गिफ्ट ज्यादा महंगा न हो।

पिकनिक पर ले जाएं :

बच्चों के साथ माता-पिता कुछ समय निकालकर घूमने की योजना बनाते हैं। आप चाहें तो इन्हें पास के किसी स्थान पर थोड़े समय के लिए पिकनिक पर भी ले जा सकते हैं। ऐसा करने से बच्चे न सिर्फ खुश रहेंगे और साथ में समय बिताने से उनके मन में माता-पिता के प्रति लगाव भी बढ़ेगा।

बच्चों के साथ बनाएं अपनी यादें :

माता-पिता के लिए अपने बच्चों के साथ खूबसूरत यादें बनाना बेहद जरूरी है। उनके स्कूल का पहला दिन हो, उनका रिजल्ट हो या सालाना दिन, इन सभी खास पलों में बच्चे के साथ रहें। इन पलों को बच्चों के साथ खूबसूरत यादों की तरह कैमरे में भी कैद किया जा सकता है।

छोटी-छोटी जिम्मेदारियां सिखाएं:

माता-पिता के लिए भी जरूरी है कि वे अपने बच्चों को उनकी छोटी-छोटी जिम्मेदारियां समझाएं। यह भविष्य में उनके काम आ सकता है। इसमें बच्चों को साफ-सफाई, घर के कामों, पैसों के महत्व के बारे में बताना जरूरी है। इसके अलावा बाहर किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे गुड टच और बैड टच जैसे गंभीर विषयों को सही तरीके से बताना।

खुद को समय दें:

बच्चों को समय देते हुए और उनकी देखभाल करते हुए, माता-पिता अक्सर खुद को समय देना भूल जाते हैं। हर माता-पिता के लिए यह समझना जरूरी है कि अगर वे खुद को प्यार, समय और खुशी नहीं दे पाएंगे, तो वे अपने बच्चों के साथ खुशी को ठीक से साझा नहीं कर पाएंगे। ऐसे में जरूरी है कि हर माता-पिता को अपने लिए समय जरूर निकालना चाहिए। इसमें वे अपना मनपसंद काम कर सकते हैं, जिसमें उन्हें खुशी मिलती है।

आपसी संबंध पर ध्यान दें :

माता-पिता के रिश्ते और व्यवहार का असर बच्चों पर भी पड़ता है। इसलिए माता-पिता को भी अपने रिश्ते पर ध्यान देना चाहिए। बच्चों के सामने लड़ने से बचें। साथ ही अपशब्दों का प्रयोग न करें। उनके सामने जोर से चिल्लाओ मत। अगर माता-पिता एक-दूसरे से प्यार और सम्मान से बात करते हैं, तो इससे बच्चे को यह सीखने में मदद मिलेगी कि दूसरों के साथ कैसा व्यवहार करना है।

संगति पर ध्यान दें:

माता-पिता को बच्चे की संगति पर विशेष ध्यान देना चाहिए। अन्य मित्रों की संगति का प्रभाव बच्चों में बहुत जल्दी दिखाई देता है। ऐसे में जानिए बच्चे के पड़ोसी कैसे दोस्त होते हैं। इसके अलावा, उनके स्कूल के दोस्तों से अवगत रहें।

इसमें जरा सी भी लापरवाही बच्चे के लिए हानिकारक हो सकती है। सप्ताह में कम से कम एक बार बच्चे के स्कूल जाएं या उनके साथ उनके खेल क्षेत्र में जाएं। आप चाहें तो सप्ताह में एक बार उनके दोस्तों को अपने साथ खेलने के लिए आमंत्रित करें या शाम के नाश्ते के लिए उनसे बात करें।

सीमा निर्धारित करें:

अपने बच्चे को लाड़ प्यार करना अच्छा है, लेकिन अपने बच्चे को भी एक सीमा का एहसास कराएं। ज्यादा प्यार करने से भी बच्चा बिगड़ सकता है। ऐसे में थोड़ा अनुशासन और थोड़ा प्यार इन दोनों के बीच संतुलन बनाए रखें। बच्चे को सही दिनचर्या, समय पर सोने की आदत और सही व्यवहार और व्यवहार के बारे में सिखाएं।

हर उम्र में निभाएं अपनी जिम्मेदारी:

बच्चे को जीवन के हर कदम पर अपने माता-पिता की जरूरत होती है। बच्चा चाहे छोटा हो या बड़ा। बच्चों के प्रति माता-पिता की जिम्मेदारियां कभी खत्म नहीं होती हैं। ऐसे में उम्र के हर पड़ाव पर उन्हें सही-गलत की शिक्षा देते रहें।

ध्यान रखें कि पढ़ाने का मतलब यह नहीं है कि माता-पिता हमेशा उनका अनुसरण करें। हां, अगर वे कोई गलत फैसला लेते हैं, तो उन्हें समझाकर सही तरीके से मार्गदर्शन करें। साथ ही अगर वे कोई फैसला लेते हैं, जो उनके लिए वाकई सही है तो उन्हें पूरा सहयोग दें.

ऊपर के लेख में एक अच्छे माता-पिता बनने के टिप्स बताए गए हैं, जो काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं। लेख में बताए गए सकारात्मक पालन-पोषण को अपनाकर माता-पिता अपने बच्चे की ओर एक बड़ा कदम उठा सकते हैं। ऐसा करना न सिर्फ एक अच्छे माता-पिता बनने के लिए बल्कि बच्चों के भविष्य के लिए भी मददगार साबित हो सकता है। हमें उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा। ऐसी ही और रोचक जानकारी के लिए Talkaaj News से जुड़े रहें।

Edit By PPSINGH

Talkaaj

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted by Talkaaj.com

🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥

🔥 WhatsApp                       Click Here
🔥 Facebook Page                  Click Here
🔥 Instagram                  Click Here
🔥 Telegram                    Click Here
🔥 Koo                  Click Here
🔥 Twitter                  Click Here
🔥 YouTube                  Click Here
🔥 ShareChat                  Click Here
🔥 Daily Hunt                   Click Here
🔥 Google News                  Click Here

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print

Leave a Comment

Top Stories

PAN Card Users

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह PAN Card Users :

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker

Refresh Page