Homeटेक ज्ञानलोग Instant Loan के नाम पर चूना लगा रहे हैं, App के...

लोग Instant Loan के नाम पर चूना लगा रहे हैं, App के जरिए ठगी की जा रही है; ये हैं बचने के उपाय

लोग Instant Loan के नाम पर चूना लगा रहे हैं, App के जरिए ठगी की जा रही है; ये हैं बचने के उपाय

News Desk: कोरोना संकट के इस युग में, मोबाइल पर ऐप के माध्यम से तत्काल उधारदाताओं की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। उनमें बहुत सारे निन्दात्मक ऐप हैं और ग्राहक उनकी चपेट में आ रहे हैं।

तुरंत लोन (Instant Loan) देने के नाम पर मोटी फीस लेकर चक्कर लगाने वाले ऐप की संख्या सैकड़ों तक पहुंच गई है। कोरोना संकट के वर्तमान युग में, जो लोग जल्द से जल्द ऋण प्राप्त करना चाहते हैं, वे इस तरह के झांसे में आते हैं।

ऐसी कंपनियों का मुख्य उद्देश्य आवेदन शुल्क की चपेट में आना है। इस तरह के ऐप के जरिए 50,000 रुपये तक के लोन के लिए अक्सर 100-400 रुपये तक फीस ली जाती है।

ये भी पढ़े :- Prime Minister Narendra Modi के भाषण की 10 बड़ी बातें, जानिए कहा

मोबाइल ऐप ट्रैकर AppsFlyer के अनुसार, इस साल अब तक एशिया-प्रशांत क्षेत्र में ऋण देने वाले ऐप्स की सबसे बड़ी स्थापना भारत में हुई है। इससे रैपिड रुपी, मनी व्यू, अर्ली सैलरी सहित दर्जनों अन्य ऐप को बहुत नुकसान हुआ है, जो सभी नियमों का पालन करते हैं और ऋण प्रदान करते हैं।

ये भी पढ़े:- PM-Kisan योजना के तहत रोका गया 47 लाख से ज्यादा किसानों का भुगतान, जानिए क्या है कारण

ऐसे बचें धोखेबाजों से

1. असली ऐप्स कोई अग्रिम शुल्क नहीं लेते हैं। यदि प्रोसेसिंग फीस लगाई जाती है, तो यह ऋण राशि से काट ली जाती है।

2. असली ऋण प्रदाताओं का फोन, ईमेल और पता भी दर्ज किया जाता है। कोई भी ग्राहक स्वयं वहां जाकर इसे सत्यापित कर सकता है।

3. असली ऋणदाता ग्राहकों को निर्णय लेने के लिए पर्याप्त समय देते हैं। दूसरी ओर, जो लोग धोखा देते हैं वे काम निपटाने की जल्दी में रहते हैं।

4. उधार में गारंटी जैसी कोई चीज नहीं होती है। ऋण देने से पहले वास्तविक ऋणदाता पूरी तरह से जांच करते हैं। ठग बिना किसी जांच के कर्ज को ठग लेते हैं।

ये भी पढ़ें:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments