Homeअन्य ख़बरेंकारोबारPM Kisan FPO Yojana: किसानों को दे रही है 15 लाख रुपये...

PM Kisan FPO Yojana: किसानों को दे रही है 15 लाख रुपये की मदद, तुरंत करें आवेदन; यहां जानिए प्रक्रिया

PM Kisan FPO Yojana: किसानों को दे रही है 15 लाख रुपये की मदद, तुरंत करें आवेदन; यहां जानिए प्रक्रिया

PM Kisan FPO Yojana: केंद्र सरकार किसानों को 15 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने जा रही है. आइए जानते हैं कि कैसे और कौन इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

PM Kisan FPO Yojana:केंद्र सरकार किसानों के लिए एक के बाद एक योजनाएं ला रही है। अब सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए नया कृषि विधेयक लाने की तैयारी कर रही है. इसके बाद कृषि को बड़ा व्यवसाय बनाने के लिए सरकार किसानों को एक बड़ा तोहफा देने जा रही है। किसानों को नया कृषि व्यवसाय शुरू करने के लिए सरकार 15 लाख रुपये देगी। आइए जानते हैं इस योजना के बारे में।

15 लाख कैसे प्राप्त करें

सरकार ने PM Kisan FPO Yojana शुरू की है। इस योजना के तहत किसान उत्पादक संगठन को 15 लाख रुपये दिए जाएंगे। देश भर के किसानों को एक नया कृषि व्यवसाय शुरू करने के लिए वित्तीय सहायता दी जाएगी। इस योजना का लाभ लेने के लिए 11 किसानों को मिलकर एक संस्था या कंपनी बनानी होगी। इससे किसानों के लिए कृषि उपकरण या उर्वरक, बीज या दवाएं खरीदना भी काफी आसान हो जाएगा।

यह भी पढ़िए | Amul, Post office या Aadhar की फ्रेंचाइजी (Franchise) लेकर अपना कारोबार शुरू करें हर महीने लाखों की कमाई,  तरीका जानिए

योजना का उद्देश्य

किसानों को सीधा लाभ मिले इसके लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है। यह योजना केवल किसानों को प्रत्यक्ष लाभ प्रदान करने के लिए शुरू की गई है। इससे किसानों को किसी दलाल या साहूकार के पास नहीं जाना पड़ेगा। इस योजना के तहत किसानों को तीन साल में किश्तों में भुगतान किया जाएगा। इसके लिए सरकार द्वारा वर्ष 2024 तक 6885 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

पीएम किसान FPO योजना क्या है? (PM Kisan FPO Yojana Kya hai?)

पीएम किसान एफपीओ योजना क्या है? किसान उत्पादक संगठन (Farmer Producer Organization) कृषि उत्पादन कार्य में लगे किसानों का एक समूह होगा और कृषि से संबंधित व्यावसायिक गतिविधियों को अंजाम देगा। एक कंपनी की तरह

पीएम किसान अगली किस्त की स्थिति

किसानों की आय दोगुनी करने के लिए मोदी सरकार अगले पांच साल तक 5000 करोड़ रुपये खर्च करने जा रही है. केंद्र सरकार किसानों को आर्थिक सहायता देकर उन्हें समृद्ध बनाने की योजना बना रही है। इसके लिए उन्हें एक कंपनी यानी किसान उत्पादक संगठन (FPO-Farmer Producer Organisation) बनानी होगी। सरकार ने 10,000 नए किसान उत्पादक संगठनों के गठन को मंजूरी दी है।

यह भी पढ़िए | 10 मिनट में बन जाएगा PAN Card, चार चरणों में जानिए पूरी जानकारी

पीएम किसान एफपीओ पंजीकरण कैसे करे? (PM Kisan FPO Registration kaise kare? )

– एफपीओ/एफपीसी वेबसाइट (www.enam.gov.in) या मोबाइल ऐप के माध्यम से ई-एनएएम पोर्टल पर या नजदीकी ई-नाम मंडी में निम्नलिखित विवरण प्रदान कर सकते हैं।
– एफपीओ/एफपीसी के नाम
– नाम, पता, ईमेल आईडी और संपर्क नं। अधिकृत व्यक्ति (एमडी/सीईओ/प्रबंधक)
– बैंक खाता विवरण (बैंक का नाम, शाखा, खाता संख्या IFSC कोड)

इसका रजिस्ट्रेशन कंपनी एक्ट के तहत ही होगा, इसलिए इसे वो सारे फायदे मिलेंगे जो एक कंपनी को मिलते हैं। ये संगठन सहकारी राजनीति से बिल्कुल अलग होंगे, यानी इन कंपनियों पर सहकारी अधिनियम लागू नहीं होगा।

यह भी पढ़िए | PM Kisan के लाभार्थी भी अब सस्ते दर पर ले सकते हैं कर्ज (Loan), ऐसे करें आसानी से आवेदन

एफपीओ से किसान को लाभ

एफपीओ छोटे और सीमांत किसानों का एक समूह होगा, जिससे उनसे जुड़े किसानों को न केवल अपनी उपज का बाजार मिलेगा बल्कि खाद, बीज, दवाएं और कृषि उपकरण आदि खरीदना आसान होगा। सेवाएं सस्ती होंगी और बिचौलियों के जाल से मुक्ति मिलेगी।

यदि एक अकेला किसान अपनी उपज बेचने जाता है, तो उसका लाभ बिचौलियों को जाता है। एफपीओ प्रणाली में किसान को उसकी उपज का अच्छा मूल्य मिलता है, क्योंकि कोई बिचौलिया नहीं होगा। केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अनुसार, ये 10,000 नए एफपीओ 2019-20 से 2023-24 तक बनाए जाएंगे। इससे किसानों की सामूहिक शक्ति बढ़ेगी।

एफपीओ बनाकर पैसे लेने की शर्तें

(1) यदि संगठन मैदानी क्षेत्र में कार्य कर रहा है तो कम से कम ३०० किसानों को इससे जोड़ा जाए। यानी बोर्ड के एक सदस्य में कम से कम 30 लोग सामान्य सदस्य होने चाहिए। पहला 1000 था।

(2) पहाड़ी क्षेत्र में १०० किसानों को एक कंपनी से जोड़ना आवश्यक है। उन्हें कंपनी का फायदा मिल रहा है।

(3) नाबार्ड कंसल्टेंसी सर्विसेज आपकी कंपनी का काम देखकर रेटिंग करेगी, उसी के आधार पर अनुदान मिलेगा.

(4) व्यवसाय योजना को देखा जाएगा कि कंपनी किन किसानों को लाभान्वित कर पाती है। वह किसानों की उपज के लिए बाजार उपलब्ध कराने में सक्षम है या नहीं।

(5) कंपनी का शासन कैसा है। बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स पेपर है या वे काम कर रहे हैं। किसानों की बाजार तक पहुंच आसान बनाने के लिए काम हो रहा है या नहीं।

(6) यदि कोई कंपनी अपने से जुड़े किसानों की जरूरत की वस्तु जैसे बीज, खाद और दवा आदि की सामूहिक खरीद कर रही है तो उसकी रेटिंग अच्छी हो सकती है। क्योंकि ऐसा करने से किसान को सस्ता माल मिलेगा।

किसान उत्पादक संगठन क्यों हैं खास?

एफपीओ छोटे, सीमांत और भूमिहीन किसानों की मदद करेगा। एफपीओ के सदस्य संगठन के तहत अपनी गतिविधियों का प्रबंधन करने में सक्षम होंगे, ताकि प्रौद्योगिकी, निवेश, वित्त और बाजारों तक बेहतर पहुंच हो और उनकी आजीविका तेजी से बढ़े। देश में छोटे और सीमांत किसानों की संख्या लगभग 86 प्रतिशत है, जिनकी औसत जोत 1.1 हेक्टेयर से कम है। इन छोटे, सीमांत और भूमिहीन किसानों को खेती के समय भारी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें प्रौद्योगिकी, उच्च गुणवत्ता वाले बीज, उर्वरक, कीटनाशक और उचित वित्त की समस्याएं शामिल हैं।

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के Application Download करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments