Search
Close this search box.

Raigad Landslide: अब तक 22 की मौत, मलबे में दबे लोगों की तलाश जारी, क्या बचाया जा सकता था?

Raigad Landslide
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Reddit
LinkedIn
Threads
Tumblr
Rate this post

Raigad Landslide: अब तक 22 की मौत, मलबे में दबे लोगों की तलाश जारी, क्या बचाया जा सकता था?

रायगढ़ भूस्खलन | ‘हमने पुनर्वास की मांग की, नौकरियां मांगीं। लेकिन हमें कुछ नहीं मिला. बहुत तेज़ बारिश हो रही थी इसलिए हमने अपनी झोपड़ी तलहटी में बनाई। लेकिन वन विभाग के अधिकारियों ने उसे भी तोड़ दिया. यह कहना है इरशालवाड़ी हादसे में जीवित बचे लोगों का।

महाराष्ट्र के रायगढ़ ज़िले के इरशालवाड़ी गांव में गुरुवार को भारी बारिश के बाद हुए भूस्खलन से 22 लोगों की मौत हो चुकी है, 21 लोग घायल हैं जबकि 86 लापता लोगों की तलाश जारी है.

प्रशासन के अनुसार भूस्खलन प्रभावित 229 लोगों में से 143 लोगों को खोज निकाला गया है.

ये पहाड़ के पास बसा एक दूरदराज का गांव है. प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर इस गांव में महज़ 48 घर हैं. यहां की आबादी सिर्फ़ 228 है.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे
भूस्खलन से प्रभावित रायगढ़ के इरशालवाड़ी गांव पहुंचे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे.

गांव को मुख्य सड़क से जोड़ने वाली कोई सड़क नहीं है. इसके कारण गांव के लोगों को शिक्षा और इलाज जैसी बुनियादी सुविधाएं भी मुहैया नहीं हो पाती हैं.

गांव के लोगों का कहना है कि उनके सामने रोजगार की भी समस्या है. इसलिए गांव के लोगों ने पुनर्वास की मांग की थी, लेकिन उनका कहना है कि यह मांग अब तक पूरी नहीं हो सकी है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me

ऐसे में सवाल उठता है कि अगर गांव के लोगों को कहीं और बसाया जाता तो क्या इस हादसे में मरने वालों की जान बचाई जा सकती थी?

महाराष्ट्र
इमेज स्रोत,ANI

लोग कह रहे हैं कि जब राज्य के कई इलाकों, खासकर कोंकण क्षेत्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई थी, तो सरकार ने ऐसे संवेदनशील इलाकों के लोगों की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम क्यों नहीं उठाए?

विपक्ष का आरोप है कि सरकार कुर्सी बचाने के लिए विधायकों की जोड़-तोड़ में लगी रही और बारिश और बाढ़ से निपटने के लिए पर्याप्त इंतजाम नहीं किए.

ऐसा आरोप महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नेता अमित ठाकरे ने लगाया है.

हालांकि सरकार का कहना है कि हादसे के तुरंत बाद बचाव और राहत का काम शुरू कर दिया गया.

20 जुलाई को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे समेत राज्य सरकार के कई अन्य मंत्री भी दुर्घटनास्थल पर पहुंचे थे. उप मुख्यमंत्री अजित पवार और देवेन्द्र फड़णवीस भी नियंत्रण कक्ष से स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

लेकिन सरकार पर लगातार सवाल उठ रहे हैं कि ऐसे जरूरी कदम क्यों नहीं उठाए गए ताकि ये हादसा हो ही न.

महाराष्ट्र
इमेज स्रोत,UGC

लापरवाही के आरोप पर सरकार का पक्ष

महाराष्ट्र पिछले एक साल से राजनीतिक उथल-पुथल से जूझ रहा है। इधर, पार्टियों में बगावत, विधायकों की जोड़-तोड़, मुकदमेबाजी और आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है.

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नेता राज ठाकरे का कहना है, ”इरशालवाड़ी की घटना बेहद दुखद है. मैं घायल लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।”

”हादसे के तुरंत बाद मैं ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहता था, लेकिन अगर जिला प्रशासन यह अनुमान नहीं लगा पा रहा है कि किन इलाकों में भूस्खलन हो सकता है, तो यह कैसा जिला प्रशासन है.”

कांग्रेस नेता नाना पटोले ने 20 जुलाई को दुर्घटनास्थल का दौरा किया. उन्होंने हादसे में बचे लोगों से मुलाकात की.

उन्होंने कहा, ”अगर समय रहते इरशालवाड़ी के लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया होता तो यह हादसा नहीं होता. सरकार ने उचित कदम नहीं उठाए।”

“अगर राज्य में भारी बारिश की चेतावनी थी, तो लोगों को भूस्खलन-संभावित क्षेत्रों से निकाला जाना चाहिए था। तब कई लोगों की जान बचाई जा सकती थी।”

महाराष्ट्र

बीबीसी मराठी से बात करते हुए राहत एवं पुनर्वास मंत्री अनिल पाटिल कहते हैं, “गांव के पुनर्वास को लेकर चर्चा चल रही है. 2021 तक नियम था कि किसी दुर्घटना के बाद वहां के लोगों का पुनर्वास किया जाता है.”

“लेकिन 2021 से ये तय किया गया है कि ऐसे खतरनाक इलाकों की पहचान की जाए और वहां के लोगों का पहले ही पुनर्वास किया जाए. ये गांव भी इसी लिस्ट में है.”

वह कहते हैं, “पहले यह इस सूची में नहीं था. अब कलेक्टर को लोगों के पुनर्वास के लिए कहा गया है.”

मुख्यमंत्री एकनाश शिंदे ने गुरुवार को दुर्घटनास्थल का दौरा किया. उन्होंने बताया कि गांव के लोगों के स्थायी पुनर्वास को लेकर स्थानीय अधिकारियों से चर्चा की गयी.

उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस ने बताया कि ये गांव बहुत दूरदराज के इलाकों में हैं और वहां तक पहुंचना बहुत मुश्किल है.

उन्होंने कहा कि यह गांव अति संवेदनशील क्षेत्र की श्रेणी में नहीं आता है और यहां पहले कभी ऐसी कोई घटना नहीं हुई है.

रायगढ़ में भूस्खलन
इमेज स्रोत,SATISH BATE/HINDUSTAN TIMES VIA GETTY IMAGES
महाराष्ट्र
इमेज स्रोत,ANI

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

पश्चिमी घाट के इकोसिस्टम पर रिसर्च के लिए बनाई गई गाडगिल कमेटी ने अगस्त 2011 को अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी.

इसे लेकर विपक्ष ने सरकार से पूछा कि इस कमेटी की रिपोर्ट को लागू क्यों नहीं किया गया?

संवेदनशील इलाके में रहने वाले लोगों का पुनर्वास क्यों नहीं किया गया. क्या सरकार हादसे का इंतज़ार कर रही थी?

इसके जवाब में उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस ने कहा कि गाडगिल कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने संवेदनशील गांवों की पहचान कर ली है और इन्हें लेकर राज्य सरकार की योजना केंद्र सरकार को सौंप दी गई है.

सरकार की आलोचना करते हुए वरिष्ठ पर्यावरणविद् माधव गाडगिल कहते हैं, ”पश्चिमी घाट जैव विविधता विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई है. अगर इस रिपोर्ट में की गई सिफारिशों को समय रहते लागू किया जाता तो कई दुर्घटनाओं से बचा जा सकता था.”

और पढ़िए – बिजनेस से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहां पढ़ें

joinwhatsapp

click here

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

Talkaaj

हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज हिंदी में सबसे पहले पढ़ें Talkaaj.com (बात आज की) पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट टॉकआज (Talkaaj) पर पढ़ें मनोरंजन, खेल जगत, बिज़नेस, सरकारी योजनायें , पैसे कैसे कमाए, टेक्नोलॉजी ,ऑटो हटके खबरें से जुड़ी ख़बरें। Also Follow Me For All Information And Updates??

Posted by Talkaaj.com

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
Reddit
Picture of TalkAaj

TalkAaj

Hello, My Name is PPSINGH. I am a Resident of Jaipur and Through This News Website I try to Provide you every Update of Business News, government schemes News, Bollywood News, Education News, jobs News, sports News and Politics News from the Country and the World. You are requested to keep your love on us ❤️

Leave a Comment

Top Stories