Homeशहर और राज्यराजस्थानRajasthan: गहलोत सरकार ने सख्त फैसला लिया, 9वीं से 12वीं के छात्रों...

Rajasthan: गहलोत सरकार ने सख्त फैसला लिया, 9वीं से 12वीं के छात्रों की फीस में 40% की कटौती

Rajasthan: गहलोत सरकार ने सख्त फैसला लिया, 9वीं से 12वीं के छात्रों की फीस में 40% की कटौती

राज्य सरकार ने सत्र 2020-2021 के शुल्क की वसूली के लिए निजी स्कूलों की ओर से एक बड़ा फैसला लिया है। इस संबंध में, शिक्षा विभाग द्वारा दिशानिर्देश जारी किए गए हैं, जिसके तहत छात्रों को अब 60 प्रतिशत का शुल्क देना होगा।

मुख्य विशेषताएं:

  • शिक्षा विभाग ने अभिभावकों को दी बड़ी राहत
  • राज्य सरकार ने स्कूल फीस के संग्रह पर दिशा-निर्देश जारी किए
  • 9 वीं से 12 वीं तक के छात्रों की फीस में 40 प्रतिशत तक की कमी
  • पहली से आठवीं तक के छात्रों की फीस पर अभी कोई फैसला नहीं
  • हाईकोर्ट के निर्देशों के बाद की गई कवायद, अब निजी स्कूल 60 प्रतिशत शुल्क ले सकेंगे

राज्य सरकार की ओर से अभिभावकों को बड़ी राहत देते हुए फीस का मामला तय किया गया है। नए फैसले के अनुसार, अब छात्र अपनी पढ़ाई के बराबर ही फीस देंगे। Ashok Gehlot (अशोक गहलोत) सरकार की ओर से शिक्षा विभाग द्वारा गठित एक समिति ने इस मामले में दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

अब नौवीं से 12 वीं तक के छात्रों को 40 प्रतिशत फीस देनी होगी। माना जा रहा है कि नवंबर से राज्य में स्कूल खोले जाएंगे। तीन चरणों में स्कूल खोलने की घोषणा के तहत, पहले चरण में, कक्षा 10 से 12 के छात्र पहले चरण में जाएंगे। इसलिए सरकार ने उनकी फीस तय कर दी है। वहीं, पहली से आठवीं तक के छात्रों के लिए स्कूल खोलने पर कोई फैसला नहीं किया गया है।

ये भी पढ़े :- लक्ष्मी बॉम्ब (Laxmi Bomb)शीर्षक से शक्तिमान खफा: मुकेश खन्ना ने कहा – क्या आप किसी फिल्म का नाम अल्लाह बॉम्ब या बदमाश जीसस रख सकते हैं

यह दिया गया है तर्क

आपको बता दें कि समिति ने क्षमता निर्माण शुल्क के आधार पर शुल्क तय किया है। समिति ने तर्क दिया है कि सीबीएसई द्वारा पाठ्यक्रम में 30 प्रतिशत की कटौती करने के बाद छात्रों की फीस 30 प्रतिशत कम हो गई थी। दूसरी ओर, राजस्थान बोर्ड ने पाठ्यक्रम में 40 प्रतिशत की कमी की है, इसलिए शुल्क में 40 प्रतिशत की कमी की जा रही है। इस फैसले से नाखुश, प्रोग्रेसिव एसोसिएशन स्कूल ऑफ राजस्थान, एक समिति जिसमें निजी स्कूल शामिल हैं, ने फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही है।

ये भी पढ़े :- Arogya Setu App पर CIC: NIC से पूछा- Arogya Setu की वेबसाइट कब डिज़ाइन की गई थी और आपको ऐप बनाने की जानकारी क्यों नहीं है?

ऑनलाइन फीस के लिए भी शुल्क तय किया

आपको बता दें कि समिति ने ऑनलाइन फीस के बारे में भी जानकारी दी है। इसके तहत क्षमता निर्माण के आधार पर ही शुल्क लिया जाएगा। फीस उन बच्चों के माता-पिता की सहमति से ली जा सकती है जिन्होंने ऑनलाइन कक्षाएं ली हैं। वहीं, जो बच्चे ऑनलाइन क्लास नहीं लेंगे, उनसे शुल्क नहीं लिया जाएगा। समिति ने निर्देश दिया है कि ऑनलाइन कक्षाएं लेने वाले और कक्षाएं न लेने वाले दोनों छात्रों के बीच समानता सुनिश्चित की जानी चाहिए।

ये भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments