Big News अंतरिक्ष में Indian Satellite Astrosat की दुर्लभ खोज, वैज्ञानिक ने कहा इससे इतिहास बदलेगा

Indian Satellite Astrosat
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

अंतरिक्ष में भारतीय उपग्रह एस्ट्रोसैट (Indian Satellite Astrosat) की दुर्लभ खोज, वैज्ञानिक ने कहा इससे इतिहास बदलेगा

पहले भारतीय मल्टी-वेव उपग्रह एस्ट्रोसैट ने अंतरिक्ष में एक दुर्लभ खोज की। उन्होंने दूर की आकाशगंगाओं से निकलने वाली तीव्र पराबैंगनी किरणों का पता लगाया है। यह आकाशगंगा पृथ्वी से 9.3 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर है। पुणे स्थित इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स (IUCAA) ने कहा कि एक वैश्विक टीम ने उनके नेतृत्व में यह उपलब्धि हासिल की है।

IUCAA ने कहा कि एस्ट्रोसैट, भारत का पहला बहु-तरंगदैर्ध्य उपग्रह है, जिसमें पांच अद्वितीय एक्स-रे और दूरबीन उपलब्ध हैं। वे एक साथ काम करते हैं एस्ट्रोसैट ने एक मजबूत पराबैंगनी किरण का पता लगाया है, जिसे AUDFS-01 नामक एक आकाशगंगा से निकलता है। यह पृथ्वी से 9.3 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर है।

ये भी पढ़िये :-SBI: ATM से पैसे निकालने के लिए बस एक Whatsapp Message, जानिए प्रक्रिया

IUCAA के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ। कनक शाह ने कहा कि प्रकाश द्वारा एक वर्ष में तय की गई दूरी को प्रकाश वर्षा कहा जाता है। यह लगभग 95 ट्रिलियन किलोमीटर के बराबर है। डॉ। कनक शाह ने तीव्र पराबैंगनी किरणों की खोज करने वाली वैश्विक टीम का नेतृत्व किया। उनकी टीम के शोध का प्रकाशन 24 अगस्त को ‘नेचर एस्ट्रोनॉमी’ नामक पत्रिका में भी प्रकाशित हुआ है।

ये भी पढ़िये :-Big News Taarak Mehta Ka Ooltah Chahmah: शो में ये अभिनेत्री अंजलि भाभी होंगी? इन शो पर पहले भी आ चुकी हैं नज़र

टीम में भारत, फ्रांस, स्विट्जरलैंड, अमेरिका, जापान और नीदरलैंड के वैज्ञानिक शामिल हैं। ये पराबैंगनी किरणें 2016 के अक्टूबर महीने में लगातार 28 दिनों तक दिखाई दी थीं। लेकिन वैज्ञानिकों को इनका विश्लेषण करने में दो साल से अधिक समय लगा।

IUCAA के निदेशक डॉ। सोमक रायचौधुरी ने कहा कि प्रकाश की किरणें अभी भी दूरस्थ अंतरिक्ष की अंधेरी गहराई में तैर रही हैं। हमें उन्हें खोजने में समय लगता है। लेकिन ये सभी जानकारी हमें यह जानने में मदद करेंगी कि पृथ्वी और अंतरिक्ष की उत्पत्ति, उनकी उम्र और उनके अंत की संभावित तारीख की शुरुआत क्या होगी।

ये भी पढ़िये :- Big News मौत के बाद भी सुशांत के एक्स मैनेजर दिशा का फोन चालू था, 17 जून तक Whatsapp Call आते रहे

वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि कुछ छोटी आकाशगंगाएं मिल्की वे आकाशगंगा की तुलना में 10–100 गुना तेज गति से नए तारे बनाती हैं। बता दें कि ब्रह्मांड की अरबों आकाशगंगाओं में बड़ी संख्या में छोटी आकाशगंगाएँ हैं, जिनका द्रव्यमान मिल्की वे आकाशगंगाओं से 100 गुना कम है।

दो भारतीय दूरबीनों के माध्यम से, वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में पाया कि इन आकाशगंगाओं का अजीब व्यवहार उनमें अव्यवस्थित हाइड्रोजन के वितरण और आकाशगंगाओं के बीच टकराव के कारण है। वैज्ञानिकों का कहना है कि किसी भी तारे के निर्माण के लिए हाइड्रोजन एक आवश्यक तत्व है। बड़ी संख्या में तारों को बनाने के लिए आकाशगंगाओं को हाइड्रोजन की उच्च घनत्व की आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़िये :-Big News Bipasha Basu ने बताया बॉलीवुड इंडस्ट्री का सच, प्रोड्यूसर ने किया था मैसेज

ये भी पढ़िये :-WhatsApp का यह नया अपडेट ग्रुप कॉल, कैमरा शॉर्टकट, अलग-अलग रिंगटोन और भी बहुत कुछ

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print

Leave a Comment

Top Stories

Rajasthan News

Rajasthan News: राजस्थान में 200 रुपए में मिलेगा घर, ऑफर पहले आओ पहले पाओ

Rajasthan News: राजस्थान में 200 रुपए में मिलेगा घर, गरीबों के लिए बड़ा तोहफा जयपुर। जयपुर सहित प्रदेश के अन्य शहरों में अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीमों

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker

Refresh Page