HomeहोमShaking Legs: क्या आप भी बैठे-बैठे अपने पैर हिलाते हैं? शुभ और...

Shaking Legs: क्या आप भी बैठे-बैठे अपने पैर हिलाते हैं? शुभ और अशुभ बाद की बात है, कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं जानें!

Shaking Legs: क्या आप भी बैठे-बैठे अपने पैर हिलाते हैं? शुभ और अशुभ बाद की बात है, कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं जानें!

Habit Of Shaking Legs: यह रेस्टलेस सिंड्रोम नर्वस सिस्टम और स्लीप डिसऑर्डर से भी जुड़ा है। हालांकि, पैर कांपने के और भी कारण हो सकते हैं।

Shaking Legs Habits: अक्सर आपने अपने आस-पास ऐसे लोगों को देखा होगा, जो ऊंचे बिस्तर, कुर्सी आदि पर बैठकर अपने पैर हिलाते हैं। बहुत से लोग बैठकर बात करते हुए भी अपने पैरों को जोर-जोर से हिलाते रहते हैं। वहीं कई लोगों की आदत होती है कि बिस्तर पर लेटकर भी पैर हिलाने की आदत होती है। आप सोचेंगे कि क्या बात करें? इसमें क्या हर्ज है?

घर के बड़े-बुजुर्ग अक्सर पूछते हैं कि तुम पैर क्यों हिला रहे हो। बहुत से लोग अच्छे और बुरे, लाभ और हानि आदि से जुड़े पैरों के हिलने को देखते हैं। कई लोगों का मानना ​​है कि पैर हिलाने से परिवार का खर्च बढ़ जाता है। ऐसी और भी मान्यताएँ हैं। लेकिन अगर आप ऐसी चीजों को एक तरफ रख भी दें तो इस आदत को लेकर गंभीर होने की जरूरत है।

यह भी पढ़िए| शादी (Marriage) से मोह भंग! अब इस वजह से युवा जीवन भर अकेले रहना चाहते हैं?

आयरन की कमी की ओर इशारा!

पैर हिलाना कई लोगों की आदत हो जाती है। यह सीधे तौर पर कोई नुकसान नहीं दिखाता है, लेकिन यह आदत स्वास्थ्य में कमी की ओर इशारा करती है। विशेषज्ञों का कहना है कि पैर हिलाने की आदत इस बात की ओर इशारा करती है कि व्यक्ति के शरीर में आयरन की कमी है। डॉक्टर ऐसे लोगों को चेकअप कराने की सलाह देते हैं।

यह भी पढ़िए| ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती से होगी लाखों की कमाई, जानिए बुवाई का तरीका

रेस्टलेस सिंड्रोम नर्वस सिस्टम

इस संबंध में कुछ रिपोर्टों के अनुसार, लगभग 10 प्रतिशत लोगों को अपने पैर हिलाने में समस्या होती है। यह 35 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में आम है। यह बेचैन सिंड्रोम तंत्रिका तंत्र से जुड़ा है। हालांकि, पैर कांपने के और भी कारण हो सकते हैं। ऐसे में यह सलाह दी जाती है कि इसके बारे में विशेषज्ञों से बात करें और फिर कोई फैसला लें।

बार-बार पैर हिलाने का मन क्यों करता है?

दरअसल, पैर हिलाने (Shaking Legs) पर व्यक्ति में डोपामाइन हार्मोन रिलीज होता है, जिससे उसे बार-बार ऐसा करने का मन करता है। इस समस्या को स्लीप डिसऑर्डर से जोड़कर भी देखा जाता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि कई बार नींद की कमी के कारण व्यक्ति थकान महसूस करता है। इसकी जांच के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता है।

यह भी पढ़िए|जानिए ग्रीन टी के फायदे और नुकसान के बारे में | Green Tea Benefits And Side Effects In Hindi

हार्मोनल बदलाव गंभीर हों तो उपचार जरूरी

आमतौर पर शरीर में आयरन की कमी के कारण कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा हार्मोनल बदलाव, गर्भवती महिलाओं में प्रसव के आखिरी दिनों में और किडनी, पार्किंसन रोग के मरीजों में भी ऐसी समस्याएं होती हैं। इसका खतरा ब्लड प्रेशर, शुगर के मरीजों और दिल के मरीजों को ज्यादा होता है. इस बीमारी के इलाज के लिए आमतौर पर आयरन की गोलियां दी जाती हैं। लेकिन अगर बीमारी गंभीर है तो दूसरी दवाएं भी दी जाती हैं।

यह भी पढ़िए | Health Tips: पेट फूलने की समस्या से हैं परेशान तो इन चीजों को खाने से करें परहेज



(डिस्‍क्‍लेमर: यह लेख आपकी सामान्य जानकारी बढ़ाने के लिए है. किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या में बेहतर है कि​ विशेषज्ञ डॉक्टर की सलाह ली जाए और प्रॉपर उपचार कराया जाए.)

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro