Home हटके ख़बरें Tata Group Success Story In Hindi: जेब में थे 21 हजार रुपए, शुरू किया ऐसा बिजनेस, आज 29 कंपनियां और 24 लाख करोड़ रुपए का बिजनेस

Tata Group Success Story In Hindi: जेब में थे 21 हजार रुपए, शुरू किया ऐसा बिजनेस, आज 29 कंपनियां और 24 लाख करोड़ रुपए का बिजनेस

महज 14 साल की उम्र में जमशेदजी टाटा गुजरात से बॉम्बे चले गए और 29 साल की उम्र में कॉटन मिल की स्थापना के साथ टाटा ग्रुप की नींव रखी।

by TalkAaj
A+A-
Reset
Tata Group Success Story In Hindi
Rate this post

Tata Group Success Story In Hindi: जेब में थे 21 हजार रुपए, शुरू किया ऐसा बिजनेस, आज 29 कंपनियां और 24 लाख करोड़ रुपए का बिजनेस

Tata Group Success Story In Hindi: टाटा समूह भारत का एक प्रमुख औद्योगिक घराना है। भारत के लोगों का इस ब्रांड पर सालों से अटूट विश्वास है। नमक से लेकर ट्रक तक बनाने वाली कंपनी Tata Group का इतिहास करीब 150 साल पुराना है। महज 21,000 रुपये से शुरू हुआ टाटा ग्रुप का कारोबार आज 24 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। लेकिन, सफलता का ये सफर इतना आसान नहीं था. इसके पीछे एक शख्स ने बड़ी भूमिका निभाई, जिसने टाटा ग्रुप की नींव रखी.

टाटा ग्रुप के गॉडफादर जमशेदजी टाटा (Jamsetji Tata) ने इस विशाल व्यापारिक साम्राज्य की नींव रखी थी। गुजरात के नवसारी में जन्मे जमशेदजी टाटा ने 1870 के दशक में अपना व्यवसाय शुरू किया था। उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से भारत में औद्योगिक क्रांति ला दी। उन्होंने न केवल व्यवसाय बल्कि तकनीकी शिक्षा को भी बढ़ावा दिया। आइए जानते हैं कि कैसे टाटा ग्रुप अपनी मेहनत के दम पर सालों से लोगों के दिलों पर राज कर रहा है।

14 साल की उम्र में मुंबई पहुंचे

जमशेदजी टाटा का जन्म और पालन-पोषण एक पारसी परिवार में हुआ था। उनका पैतृक पेशा एक पुजारी का था, लेकिन उनके पिता नुसरवानजी टाटा ने व्यवसाय में प्रवेश करने का फैसला किया। जब वे पारिवारिक परंपरा को तोड़कर आगे बढ़े तो इसका प्रभाव युवा जमशेदजी पर पड़ा। महज 14 साल की उम्र में वह अपने पिता के साथ रहने के लिए बंबई चले गए और एलफिंस्टन कॉलेज में दाखिला लिया।

अंग्रेजों को कड़ी टक्कर दी

जमशेदजी ने उस समय व्यवसाय में प्रवेश किया जब भारतीय लोग ब्रिटिश शासन के कारण निराश महसूस कर रहे थे। ऐसे समय में उन्होंने बिजनेस में उतरने का फैसला किया, हालांकि शुरुआत में उन्हें कुछ असफलताओं का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। इसके बाद 29 साल की उम्र में जमशेदजी ने 21,000 रुपये की पूंजी से 1869 में बॉम्बे में एलेक्जेंड्रा मिल की स्थापना की। उनका यह निर्णय Tata Group के व्यापारिक साम्राज्य की नींव बना।

कर्मचारी कल्याण के लिए किये गये अनेक कार्य

जमशेदजी ने एम्प्रेस मिल्स में कर्मचारियों को भत्ते देना शुरू किया, जिससे टाटा समूह को एक कर्मचारी कल्याण संगठन के रूप में मान्यता मिली। 1880 से 1904 में अपनी अंतिम सांस तक जमशेदजी ने टाटा समूह की स्थापना की। शैक्षिक संस्थाओं से लेकर इस्पात और मोटर उद्योग तक स्थापित किये गये।

आज, टाटा समूह 29 कंपनियों का संचालन करता है, जिसमें TCS, Tata Motors, Tata Power, Tata Steel, Titan, Tanishq, Voltas, Tata Chemicals, Tata Communication, Trent and Tata Elxsi. शामिल हैं। इन सभी कंपनियों को मिलाकर Tata Group की कंपनियों का मार्केट कैप 311 बिलियन डॉलर यानी करीब 24 लाख करोड़ रुपये है।

Rajasthan Om Shape Temple: 1008 शिव आकृतियां, 12 ज्योतिर्लिंग…पाली में बना दुनिया का पहला ॐ आकार का मंदिर, देखे Video

(देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर , आप हमें FacebookTwitterInstagramKoo और  Youtube पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me

You may also like

Leave a Comment

Hindi News:Talkaaj पर पढ़ें हिन्दी न्यूज़ देश और दुनिया से, जाने व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट. Read all Hindi … Contact us: [email protected]

Edtior's Picks

Latest Articles

All Right Reserved. Designed and Developed by Talkaaj

Talkaaj.com पर पढ़ें हिन्दी न्यूज़ देश और दुनिया से, जाने व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट. Read all Hindi