Homeदेश10 लक्षणों से समझें बच्चे (Child) को हो गया Corona या होने...

10 लक्षणों से समझें बच्चे (Child) को हो गया Corona या होने वाला है लक्षण जानने के तुरंत बाद करें ये 5 काम

10 लक्षणों से समझें बच्चे (Child) को हो गया Corona या होने वाला है लक्षण जानने के तुरंत बाद करें ये 5 काम

बच्चों में कोरोना के किसी भी लक्षण को न करें नजरअंदाज कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी की दूसरी लहर के दौरान बच्चों (Child) के घातक वायरस से संक्रमित होने के कई मामले सामने आए हैं। यह बच्चों में हल्के लक्षणों से शुरू होता है लेकिन अगर इसे गंभीरता से नहीं लिया गया तो यह गंभीर हो जाता है।

कोरोना की तीसरी लहर की भी आशंका जताई जा रही है. बताया जा रहा है कि इससे सबसे ज्यादा बच्चे (Child) प्रभावित हो सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि माता-पिता बच्चों में कोरोना के लक्षणों से अवगत हों और तुरंत चिकित्सकीय सहायता लें।

यह भी पढ़िए:- लड़कियों को नहीं देना चाहिए Mobile, जानिए महिला आयोग की सदस्य ने क्यों दिया ये विवादित बयान

बच्चों में कोरोना के लक्षण (symptoms of corona in children)

* बुखार
* खांसी
* साँस लेने में तकलीफ़
* सर्दी के लक्षण जैसे गले में खराश, कंजेशन या नाक बहना
* ठंड लगना
* मांसपेशियों में दर्द
* सरदर्द
*8 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में स्वाद या गंध की कमी
* मतली या उलटी
* दस्त
*थकान

सूजन भी है कोरोना का लक्षण

यहां तक ​​कि पूरे शरीर में सूजन भी एक प्रमुख चिंता का विषय बना हुआ है। कभी-कभी यह लक्षण वायरस से संक्रमित होने के कई सप्ताह बाद भी प्रकट हो सकता है। इसे बच्चों में मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम (MIS-C) कहा जाता है। डॉक्टर अभी भी यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि ये लक्षण कोरोनावायरस महामारी से कैसे संबंधित हैं।

मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम के लक्षण

* बुखार
* पेट दर्द
*उल्टी या दस्त
* अप्रसन्नता
*लाल आँखें
*बहुत थकान महसूस होना
*लाल, फटे होंठ
* सूजे हुए हाथ या पैर
* सूजी हुई ग्रंथियां (लिम्फ नोड्स)

लक्षण महसूस होने पर क्या करें

यदि आपका बच्चा एमआईएस-सी से पीड़ित है, तो उसे सांस लेने में तकलीफ, सीने में दर्द या दबाव, नीले होंठ या चेहरे, या सोने में परेशानी का अनुभव हो सकता है। ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और बच्चे को अस्पताल ले जाना चाहिए।

यह देखा गया है कि वे बच्चे अस्पताल की देखभाल से ठीक हो जाते हैं, कभी-कभी उन्हें आईसीयू में भर्ती होने की आवश्यकता होती है। बच्चे की स्थिति को देखने और जांचने के बाद डॉक्टर तय करेगा कि उसे क्या करना है।

यह भी पढ़िए:- आपका Aadhaar Card क्या खो गया है, तो ये है दोबारा पाने का आसान तरीका

बच्चे में लक्षण होने पर अन्य सदस्यों को कैसे सुरक्षित रखें?

यह जरूरी है कि परिवार के सभी सदस्य अपनी जांच रिपोर्ट आने तक घर पर ही रहें। सुनिश्चित करें कि घर के लोग और पालतू जानवर आपके बच्चे से यथासंभव दूर हैं।

सुनिश्चित करें कि परिवार में केवल एक ही व्यक्ति बच्चे की देखभाल करता है। यदि संक्रमित बच्चा दो वर्ष से अधिक उम्र का है, तो उसे कम से कम उस समय के लिए मास्क पहनना चाहिए, जब देखभाल करने वाला कमरे में हो।

बच्चे को ज्यादा देर तक अकेला न छोड़ें, मास्क जरूर पहनें। अगर बीमार बच्चा उसी वॉशरूम का इस्तेमाल कर रहा है तो बाथरूम का इस्तेमाल करने के बाद उसे डिसइंफेक्टेंट से पोंछ लें। परिवार के अन्य सदस्यों को नियमित अंतराल पर अपने हाथों को साफ करना चाहिए।

हालांकि, परिवार के सदस्यों को घबराना नहीं चाहिए। Covid-19 के Vaccines अब 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए उपलब्ध हैं। यहां तक ​​कि शिशुओं के लिए खुराक का भी परीक्षण किया जा रहा है। पात्र होते ही सभी को टीका लगवाना चाहिए।

इस आर्टिकल को शेयर करें

यह भी पढ़िए:- एक साथ 4 डिवाइस पर चल सकेगा WhatsApp, हो रही धांसू फीचर की एंट्री

यह भी पढ़िए:- LPG ग्राहकों के लिए बड़ी राहत! Cylinder किसी भी Distributor से भरवा सकेंगे, ये है तरीका 

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments