दोबारा भारत को “सोने की चिड़िया” बना सकता है सतलज नदी की रेत में मिला ‘टैंटलम’ | Tantalum Kya Hai? 

What is Tantalum-talkaaj.com
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

दोबारा भारत को “सोने की चिड़िया” बना सकता है सतलज नदी की रेत में मिला ‘टैंटलम’, | Tantalum Kya Hai? 

What is Tantalum |  IIT-रोपड़ ने एक बड़ी खोज की है। उन्होंने सतलज नदी की रेत में Tantalum की मौजूदगी पाई है। टैंटलम एक दुर्लभ धातु है। इसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बनाने में किया जाता है। इससे सेमीकंडक्टर उपकरण बनाये जाते हैं। इसके गुण सोने और चांदी से मेल खाते हैं। यह काफी कीमती है. इसे एक बड़ी सफलता के तौर पर देखा जा रहा है.

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), रोपड़ के शोधकर्ताओं ने पंजाब में सतलुज नदी की रेत में टैंटलम की मौजूदगी पाई है। टैंटलम एक दुर्लभ धातु है। यह खोज संस्थान के सिविल इंजीनियरिंग विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. रेस्मी सेबेस्टियन के नेतृत्व वाली टीम ने की है। विशेषज्ञों के मुताबिक टैंटलम की मौजूदगी न सिर्फ पंजाब बल्कि भारत के लिए भी अहम है। कारण यह है कि इस धातु का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक्स और अर्धचालकों में व्यापक रूप से किया जाता है। यह धातु देश को फिर से ‘सोने की चिड़िया‘ बनाने की क्षमता रखती है। आख़िर टैंटलम क्या है? इसकी खोज कब हुई थी? इसके गुण क्या हैं? इसका उपयोग कहां किया जाता है? आइए यहां इन सवालों के जवाब जानते हैं।

टैंटलम क्या है? (What is Tantalum)

टैंटलम (Tantalum) एक तरह की दुर्लभ धातु है। इसका एटॉमिक नंबर 73 होता है। एटॉमिक नंबर एलिमेंट के एक एटम में पाए जाने वाले प्रोटॉन की संख्या है। इसका रंग ग्रे होता है। यह भारी और बहुत कठोर होता है। आज इस्‍तेमाल में आने वाले सबसे अधिक करोजन-रजिस्‍टेंट मेटल में से यह एक है। इसके करोजन-रजिस्‍टेंट होने की वजह है। हवा के संपर्क में आने पर यह ऑक्साइड परत बनाता है। इसे हटाना बेहद मुश्किल होता है। फिर भले ही यह मजबूत और गर्म एसिड वातावरण के साथ संपर्क करता हो। टैंटलम लचीला होता है।

इसका मतलब है कि बिना टूटे यह पतले तार या धागे में तब्‍दील हो सकता है। ठीक सोने की तरह। इसके अलावा अमेरिकी ऊर्जा विभाग के अनुसार, ‘यह 150 डिग्री सेल्सियस से नीचे के तापमान पर रासायनिक हमले के प्रति लगभग पूरी तरह से सेफ रहता है। केवल हाइड्रोफ्लोरिक एसिड, फ्लोराइड आयन युक्त एसिड सॉल्‍यूशन और फ्री सल्फर ट्राइऑक्साइड से इसे नुकसान होता है।’ विशेष रूप से टैंटलम का मेल्‍ट‍िंग पॉइंट भी बहुत ज्‍यादा ऊंचा होता है। केवल टंगस्टन और रेनियम ही इससे ज्‍यादा मेल्टिंग पॉइंट रखते हैं।

टैंटलम की खोज पहली बार कब हुई थी?

टैंटलम की खोज स्वीडिश रसायन वैज्ञानिक एंडर्स गुस्ताफ एकेनबर्ग ने 1802 में येटरबी (स्वीडन) से प्राप्त खनिजों में की थी। शुरू में यह सोचा गया था कि एकेनबर्ग को नाइओबियम का केवल एक पृथक रूप मिला था। यह तत्व रासायनिक रूप से टैंटलम (Tantalum) के समान है। यह मुद्दा 1866 में सुलझाया गया था। तब जब एक स्विस वैज्ञानिक जीन चार्ल्स गैलिसार्ड डी मैरिग्नैक ने साबित किया कि टैंटलम और नाइओबियम दो अलग-अलग एलिमेंट हैं।

[inline_related_posts title=”You Might Be Interested In” title_align=”left” style=”grid” number=”4″ align=”none” ids=”” by=”categories” orderby=”rand” order=”DESC” hide_thumb=”no” thumb_right=”no” views=”no” date=”yes” grid_columns=”2″ post_type=”” tax=””]

टैंटलम का नाम कैसे पड़ा?

इस दुर्लभ धातु का नाम ग्रीक पौराणिक चरित्र टैंटलस (Tantalum) के नाम पर रखा गया था। वह अनातोलिया में माउंट सिपाइलस के ऊपर एक शहर का अमीर लेकिन दुष्ट राजा था। टैंटलस को ज़ीउस से मिली भयानक सज़ा के लिए जाना जाता है। टैंटलस (Tantalum) ने तब अपने बेटे को देवताओं की दावत में परोसने की कोशिश की। राजा को पाताल लोक में निर्वासित कर दिया गया, जहाँ वह हमेशा के लिए पानी के एक तालाब में खड़ा रहा। उसके सिर पर ताजे फलों के गुच्छे लटक रहे थे। जब भी उसने पानी पीने की कोशिश की तो पानी कम हो गया। जब भी वह फल तोड़ने की कोशिश करता तो शाखाएं पीछे की ओर झुक जातीं। यह नाम एसिड में टैंटलम (Tantalum) की अघुलनशीलता के कारण चुना गया था। इस प्रकार जब इसे एसिड के बीच रखा जाता है तो यह उनमें से किसी को भी ग्रहण नहीं करता है।

टैंटलम कहां होता है इस्तेमाल?

तो आखिर टैंटलम का इस्तेमाल कहां होता है? आसान शब्दों में कहें तो लगभग हर तरह के इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट में टैंटलम का इस्तेमाल किया जाता है. कैपेसिटर से लेकर कंडक्टर तक में टैंटलम यूज किया जाता है. इसके अलावा मोबाइल फोन, लैपटॉप, डिजिटल कैमरा जैसे तमाम इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों में इसका इस्तेमाल होता है.

टैंटलम को प्लैटिनम के विकल्प के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि टैंटलम के मुकाबले प्लैटिनम कई गुना ज्यादा महंगा है.

मिसाइल से लेकर फाइटर जेट तक इस्तेमाल

एक्सपर्ट्स के मुताबिक टैंटलम डिफेंस सेक्टर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. केमिकल प्लांट से लेकर न्यूक्लियर पावर प्लांट, मिसाइल और फाइटर जेट तक में इसका इस्तेमाल होता है. ऐसे में सतलज में टैंटलम का मिलना बहुत महत्वपूर्ण है और इसके बूते भारत, डिफेंस सेक्टर पड़ोसी चीन समेत तमाम देशों को पछाड़ सकता है.

Screenshot 5NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)
देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर फॉलो करें Talkaaj News को FacebookTelegramTwitterInstagramKoo.
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories