Sawan Purnima के दिन क्यों मनाया जाता है Rakhi का त्योहार,पढ़ें राखी की रोचक कहानियां | The Significance of Raksha Bandhan in India

Rakhi
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

Sawan Purnima के दिन क्यों मनाया जाता है Rakhi का त्योहार,पढ़ें राखी की रोचक कहानियां | The Significance of Raksha Bandhan in India

Rakhi का त्योहार, जिसे रक्षाबंधन के नाम से भी जाना जाता है, वास्तव में श्रावणी पर्व है, जिसका उल्लेख हमारे धार्मिक ग्रंथों में भी मिलता है। इस दिन कलाई में रक्षासूत्र बांधने की परंपरा वैदिक काल से चली आ रही है। गुरु शिष्य परंपरा में इस दिन शिष्य अपने गुरुओं को रक्षासूत्र बांधते थे। लेकिन इसकी शुरुआत कैसे हुई और श्रावणी त्योहार कैसे राखी का त्योहार बन गया और भाइयों और बहनों की दिलचस्प कहानियां हैं।

1- पुजारियों द्वारा रक्षासूत्र बांधने की परंपरा

वैदिक काल से लेकर आज तक समाज में पुजारियों द्वारा यजमानों को रक्षासूत्र बांधने की परंपरा है। प्राचीन काल में श्रावण पूर्णिमा के दिन पुजारी राजा और समाज के वरिष्ठों को रक्षा सूत्र बांधते थे। इसके पीछे का उद्देश्य यह माना जाता था कि राजा और बुजुर्ग समाज, धर्म, बलिदान और पुजारियों की रक्षा करेंगे। माना जाता है कि इस परंपरा की शुरुआत देवासुर संग्राम से हुई थी।

2- पति-पत्नी ने शुरू किया रक्षा बंधन का त्योहार

भविष्य पुराण में उल्लेख है कि सतयुग में वृत्रासुर नाम का एक राक्षस था। उसने अपने साहस और पराक्रम के बल पर देवताओं को हराकर स्वर्ग को जीत लिया। वृत्रासुर को यह वरदान प्राप्त था कि वह किसी भी शस्त्र से पराजित नहीं होगा। इससे देवराज इंद्र उसे बार-बार खो देते थे। तब महर्षि दधीचि ने अपना शरीर त्याग दिया और उनकी हड्डियों से इंद्र का हथियार वज्र बनाया गया। इसके बाद इंद्र अपने गुरु बृहस्पति के पास पहुंचे और बताया कि वह वृत्रासुर से युद्ध करने जा रहे हैं। यदि वह विजयी होता है, तो वह वीरगति को प्राप्त करके ही लौटेगा।

यह भी पढ़िए | Ajab-Gazab | भारत के एक ऐसे मंदिर की कहानी जो साल में सिर्फ 5 घंटे खुलता है

इन सब बातों को सुनकर देवराज की पत्नी देवी शची ने अपने तपोबल से उनका अभिषेक किया, रक्षासूत्र बनाया और देवराज इंद्र की कलाई पर बांध दिया। जिस दिन शची ने इंद्र की कलाई पर रक्षासूत्र बांधा, वह श्रावण मास की पूर्णिमा का दिन था। देवराज विजयी हुए और उन्होंने वरदान दिया कि जो कोई भी इस दिन रक्षासूत्र को बांधेगा वह लंबा और विजयी होगा। तभी से रक्षासूत्र बांधने की परंपरा शुरू हुई जो देवी लक्ष्मी और राजा बलि के रक्षाबंधन से भाई-बहन का त्योहार बन गया।

3-द्रौपदी और श्री कृष्ण का रक्षाबंधन

महाभारत काल में द्रौपदी और श्रीकृष्ण की भी एक कथा है। भगवान कृष्ण ने इंद्रप्रस्थ में शिशुपाल को मारने के लिए सुदर्शन चक्र का इस्तेमाल किया था। भगवान की उंगली को पहिया ने काट लिया और खून आ गया। द्रौपदी ने तुरंत अपनी साड़ी का पल्लू फाड़ दिया और उसे भगवान की उंगली पर लपेट दिया। कहा जाता है कि जिस दिन यह घटना हुई उस दिन श्रावण पूर्णिमा थी। भगवान कृष्ण ने द्रौपदी से वादा किया था कि समय आने पर वह साड़ी के प्रत्येक धागे के लिए भुगतान करेंगे। चीर हरण के समय परमेश्वर ने यह वचन निभाया।

4- जब युधिष्ठिर ने राखी बांधी

महाभारत में रक्षाबंधन को लेकर युधिष्ठिर और श्रीकृष्ण का भी उल्लेख मिलता है। कहा जाता है कि जब धर्मराज युधिष्ठिर कौरवों से युद्ध करने जा रहे थे तो उन्होंने श्रीकृष्ण से युद्ध में विजयी होने के लिए कहा कि वह इस युद्ध को कैसे जीतेंगे। तब श्रीकृष्ण ने उन्हें सभी सैनिकों को रक्षासूत्र बांधने को कहा। उन्होंने कहा कि इस रक्षासूत्र से व्यक्ति हर परेशानी से छुटकारा पा सकता है। इसके बाद धर्मराज ने श्रीकृष्ण के निर्देशानुसार रक्षासूत्र बांध दिया और उन्हें सफलता भी मिली। किंवदंती है कि जिस दिन युधिष्ठिर ने अपने सैनिकों को रक्षासूत्र बांधा था, वह भी श्रावण पूर्णिमा का दिन था।

यह भी पढ़िए | Hanuman Temple: एक अनोखा मंदिर जहां भगवान हनुमान जी की पूजा स्त्री रूप में होती है

5- ऐसे है भाई-बहन का पर्व रक्षाबंधन

राजा बलि एक बहुत ही उदार राजा थे और भगवान विष्णु के परम भक्त भी थे। एक बार उन्होंने यज्ञ का आयोजन किया। इस दौरान भगवान विष्णु उसकी परीक्षा लेने के लिए वामनावतार लाए और राजा बलि से तीन पग भूमि दान में देने को कहा। परन्तु उसने सारी पृथ्वी और आकाश को दो चरणों में नापा। इस पर राजा बलि समझ गए कि भगवान उनकी परीक्षा ले रहे हैं। तीसरे चरण के लिए उन्होंने अपने सिर पर भगवान का पैर रखा। फिर उसने भगवान से गुहार लगाई कि अब मेरा सब कुछ चला गया है, भगवान, मेरी विनती स्वीकार करो और मेरे साथ अंडरवर्ल्ड में रहो।

भगवान ने भक्त के अनुरोध को स्वीकार कर लिया और बैकुंठ को छोड़कर पाताल लोक चले गए। दूसरी ओर, देवी लक्ष्मी परेशान हो गईं। फिर उसने एक लीला की और एक गरीब महिला के रूप में राजा बलि के सामने आई और राजा बलि को राखी बांधी। बाली ने कहा कि मेरे पास तुम्हें देने के लिए कुछ नहीं है, इस पर देवी लक्ष्मी ने अपने रूप में आकर कहा कि तुम्हारे पास एक साक्षात ईश्वर है, मुझे वही चाहिए, मैं उसे लेने ही आया हूं। इस पर बलि ने रक्षासूत्र का धर्म निभाते हुए उसे देवी लक्ष्मी को भगवान विष्णु को सौंप दिया। देवी लक्ष्मी ने अपने भाई बाली को राखी बांधकर भगवान विष्णु को मुक्त किया था। इसी दिन से राखी भाई-बहन का पर्व बन गई और इसी से रक्षाबंधन का मंत्र भी बना।

ये भी पढ़े:- भारत में इन 11 स्थानों में भगवान शिव (Lord Shiva) की सबसे ऊंची प्रतिमा मौजूद है।

6-रक्षाबंधन की कहानी

एक और किंवदंती है कि भगवान यम की बहन यमुना ने श्रावण पूर्णिमा के अवसर पर उन्हें Rakhi बांधी थी। तब से, यह स्वीकृत मानदंड बन गया और बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधना शुरू कर दिया।

ये भी पढ़े:- असम में बने कामाख्या मंदिर (Kamakhya Temple) का एक अनोखा इतिहास है, इन बातों को जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे

(नोट: इस लेख की जानकारी सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित है। Talkaaj इनकी पुष्टि नहीं करते हैं।)

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted by Talkaaj 

🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥

🔥 WhatsApp                       Click Here
🔥 Facebook Page                  Click Here
🔥 Instagram                  Click Here
🔥 Telegram Channel                   Click Here
🔥 Koo                  Click Here
🔥 Twitter                  Click Here
🔥 YouTube                  Click Here
🔥 Google News                  Click Here

 

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print

Leave a Comment

Top Stories

PAN Card Users

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह PAN Card Users :

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker

Refresh Page