क्या भारत सरकार का मैसेजिंग ऐप Sandes देगा WhatsApp को टक्कर?

Sandes
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

क्या भारत सरकार का मैसेजिंग ऐप Sandes देगा WhatsApp को टक्कर?

क्या भारत सरकार का मैसेजिंग Sandes ऐप WhatsApp को टक्कर दे सकता है? यह गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर डाउनलोड के लिए उपलब्ध है।

भारत सरकार ने WhatsApp को टक्कर देने के लिए Sandes को लॉन्च किया है. काफी समय से काम चल रहा था और इसे लिमिटेड यूजर्स के लिए भी जारी किया गया था।

उल्लेखनीय है कि इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी है. इस इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म को राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र द्वारा विकसित किया गया है।

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र की बात करें तो यह आईटी मंत्रालय के अंतर्गत आता है। Sandes की कार्यशैली व्हाट्सएप की तरह ही है और इसका लोगो भी व्हाट्सएप से प्रेरित लगता है।

यह भी पढ़िए | WhatsApp का Multi-Device Feature इन उपयोगकर्ताओं के लिए जारी, एक अकाउंट चार डिवाइस में चला सकेंगा

इस प्लेटफॉर्म पर यूजर्स मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी के जरिए साइन अप कर सकते हैं। फिलहाल इसका इस्तेमाल सिर्फ भारत सरकार के कर्मचारी ही कर रहे हैं। इसके अलावा सरकारी एजेंसियों में काम करने वाले लोगों को भी इसका इस्तेमाल करने की छूट दी गई है.

एक सवाल के जवाब में मंत्री ने कहा है कि राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, जो MeitY के तहत आता है, ने इसे तैयार किया है. यह ऐप इंस्टेंट मैसेजिंग कम्युनिकेशन के लिए है।

राजीव चंद्रशेखर के अनुसार, Sandes एक खुला स्रोत आधारित सुरक्षित क्लाउड सक्षम मंच है जिसे सरकार द्वारा होस्ट किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसका रणनीतिक नियंत्रण भारत सरकार के पास रहता है। इस प्लेटफॉर्म की कई खूबियां हैं। इससे सिंगल चैट, ग्रुप मैसेजिंग, फाइल शेयरिंग और ऑडियो वीडियो कॉल भी की जा सकती है।

आपको बता दें कि इस ऐप में eGov का भी सपोर्ट दिया गया है यानी इसे इसमें इंटीग्रेट किया गया है। राजीव चंद्रशेखर के मुताबिक, यह ऐप गूगल प्ले स्टोर और ऐप स्टोर पर उपलब्ध है।

यह भी पढ़िए | सावधान! इन हरकतों पर बैन हो जाएगा आपका WhatsApp अकाउंट, आपको जाना पड़ सकता है जेल

क्या यह ऐप WhatsApp को टक्कर देगा?

इसे ऐप स्टोर या गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। डाउनलोड करने के बाद फोन नंबर डालना होगा। इस ऐप में आप ओटीपी के जरिए साइन अप कर पाएंगे। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि इसमें एंड टू एंड एन्क्रिप्शन दिया गया है या नहीं.

आपको बता दें कि WhatsApp की सबसे बड़ी खासियत इसका एन्क्रिप्शन सिस्टम है। इस ऐप में एंड टू एंड एन्क्रिप्शन है। दावा किया जाता है कि भेजने वाले या पाने वाले के अलावा कोई तीसरा व्यक्ति चैट नहीं पढ़ सकता, यहां तक ​​कि कंपनी भी नहीं। ऐसे में मैसेज में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन बाद में आएगा या नहीं, यह नहीं कहा जा सकता।

यदि इस ऐप में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन नहीं है, तो यह व्हाट्सएप के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकता है। क्योंकि यूजर्स की प्राइवेसी के लिहाज से एंड टू एंड एन्क्रिप्शन एक बड़ी चीज है। एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के बिना ऐप्स के डेटा को तीसरे पक्ष द्वारा एक्सेस किया जा सकता है।

यह भी पढ़िए | अब सिर्फ 95 हजार रुपये में 32 Kmpl का Mileage दे रही इस शानदार Car को घर ले जाएं

इसके अलावा WhatsApp की खासियत इसकी स्पीड है और कुछ खास फीचर्स भी. यहां संदेश बहुत तेजी से पहुंचते हैं। ऐसे में क्या Sandes ऐप मैच कर पाता है या नहीं ये भी देखना दिलचस्प होगा.

इस आर्टिकल को शेयर करें

ये भी पढ़े:- 

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के Application Download करे

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
TalkAaj

TalkAaj

Leave a Comment

Top Stories

Maruti Alto 2022

इस दिन मार्केट में धूम मचाने आएगी Maruti Suzuki Alto 2022, लॉन्च से पहले जानें कीमत, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन की पूरी डिटेल

इस दिन मार्केट में धूम मचाने आएगी Maruti Suzuki Alto 2022, लॉन्च से पहले जानें कीमत, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन की पूरी डिटेल Maruti Alto 2022 :

New Helmet Rules in India

New Helmet Rules: बाइक-स्कूटी वाले हो जाओ सावधान! हेलमेट पहना है फिर भी कटेगा चालान, जानिए ऐसा क्यों?

New Helmet Rules: बाइक-स्कूटी वाले हो जाओ सावधान! हेलमेट पहना है फिर भी कटेगा चालान, जानिए ऐसा क्यों? New Helmet Rules in India: सिर्फ हेलमेट