Giorgia Meloni: यूरोप में इस्लाम का कोई स्थान नहीं है…’; इटली के प्रधानमंत्री का विवादित बयान!

Prime Minister Giorgia Meloni
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

Giorgia Meloni: यूरोप में इस्लाम का कोई स्थान नहीं है…’; इटली के प्रधानमंत्री का विवादित बयान!

World News: इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी (PM Giorgia Meloni)  अपने विवादित बयान के कारण सुर्खियों में हैं। उन्होंने कहा कि ‘इस्लामिक संस्कृति का यूरोप में कोई स्थान नहीं है.’ Meloni ने कहा कि यूरोप का इस्लामीकरण करने की बहुत कोशिश की गई है, लेकिन इसके मूल्य यूरोपीय संस्कृति से मेल नहीं खाते हैं। उन्होंने कहा, यूरोपीय सभ्यता और इस्लामी संस्कृति के बारे में कई बातें बिल्कुल अलग हैं। मूल्यों और अधिकारों के मामले में भी बहुत अंतर है. ऐसी स्थिति में इस्लामी संस्कृति का यूरोप में कोई स्थान नहीं है।

इटली के PM Giorgia Meloni ने कहा- इस्लामीकरण की प्रक्रिया चल रही है

इस्लामिक संस्कृति का मजाक उड़ाने को लेकर विवादों में घिरे इटली के Prime Minister Giorgia Meloni ने कहा कि इटली में बने इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्रों को सऊदी अरब से पैसा मिलता है। सऊदी में शरिया लागू है. इटली के प्रधानमंत्री ने कहा कि यूरोप में हमारी सभ्यता के खिलाफ इस्लामीकरण की प्रक्रिया चल रही है. उनकी यह टिप्पणी एक अन्य यूरोपीय दिग्गज ऋषि सुनक के बयान के बाद आई है। उन्होंने कहा था कि यूरोप का संतुलन बिगाड़ने की कोशिश कर रहे कुछ देश जानबूझकर शरणार्थियों की संख्या बढ़ा रहे हैं.

यूरोप में शरणार्थियों की बढ़ती संख्या पर चिंता

हाल ही में इटली की धुर दक्षिणपंथी पार्टी- ब्रदर्स ऑफ इटली द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक (British Prime Minister Rishi Sunak) ने कहा था कि वह शरणार्थियों से जुड़ी नीति और व्यवस्था में वैश्विक सुधारों के पक्ष में हैं. उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि शरणार्थियों की बढ़ती संख्या यूरोप के कई देशों को ‘प्रभावित’ कर सकती है. सुनक के मुताबिक, कुछ दुश्मन जानबूझकर यूरोपीय समाज को अस्थिर करने की साजिश रच रहे हैं।

PM Giorgia Meloni
PM Giorgia Meloni

कानूनों को अपडेट करने की जरूरत

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा था कि अगर यूरोप में शरणार्थी समस्या से निपटने के प्रयास नहीं किए गए तो उनकी संख्या बढ़ जाएगी. इसका असर हमारी क्षमता पर पड़ेगा. हम उन लोगों और देशों की मदद नहीं कर पाएंगे जो वास्तव में जरूरतमंद हैं। भारतीय मूल के पहले ब्रिटिश प्रधान मंत्री ऋषि सुनक ने दोहराया था कि यूरोपीय देशों को अपने कानूनों को अद्यतन करने की आवश्यकता है। उन्होंने संशोधन के लिए अंतरराष्ट्रीय वार्ता का नेतृत्व करने का भी आह्वान किया।

इस कार्यक्रम में पीएम Sunak के अलावा एक और वैश्विक दिग्गज एलन मस्क भी मौजूद थे. टेस्ला और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स जैसी कंपनियों के मालिक मस्क ने कहा कि आप्रवासन जनसंख्या में गिरावट का समाधान नहीं है। उन्होंने सांस्कृतिक भिन्नताओं को भी रेखांकित किया। मस्क के मुताबिक, ‘हम नहीं चाहते कि इटली एक संस्कृति के रूप में लुप्त हो जाए। हम इन देशों की सांस्कृतिक पहचान को कायम रखना चाहते हैं।’

गौरतलब है कि इटली में बुजुर्गों की बढ़ती संख्या और ऐतिहासिक जनसंख्या में गिरावट चर्चा में रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इटली की कम जन्म दर के कारण देश की आबादी पर बुरा असर पड़ा है। जनसांख्यिकी विशेषज्ञ इसके समाधान पर मंथन कर रहे हैं।

Giorgia Meloni: यूरोप में इस्लाम का कोई स्थान नहीं है...'; इटली के प्रधानमंत्री का विवादित बयान!

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

(देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर , आप हमें Facebook, Twitter, Instagram, Koo और  Youtube पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
Picture of TalkAaj

TalkAaj

हैलो, मेरा नाम PPSINGH है। मैं जयपुर का रहना वाला हूं और इस News Website के माध्यम से मैं आप तक देश और दुनिया से व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट पहुंचाने की कोशिश करता हूं। आपसे विनती है कि अपना प्यार हम पर बनाएं रखें ❤️

Leave a Comment

Top Stories