Ram Mandir पर आपका नाम भी दर्ज किया जा सकता है, पढ़िए यह कैसे संभव होगा

Ram Mandir
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

Ram Mandir, Ayodhya (राम मंदिर, अयोध्या) पर आपका नाम भी दर्ज किया जा सकता है, पढ़िए यह कैसे संभव होगा

Talkaaj News Desk:- श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) के अनुसार, राम मंदिर का निर्माण 1000 वर्ष की आयु को देखते हुए किया जा रहा है। जो हवा, सूरज और पानी से कटाव का खामियाजा उठाने के लिए पत्थर की क्षमता पर आधारित होगा।

निर्माण कार्य में लार्सन एंड टुब्रो कंपनी, IIT के इंजीनियरों की तकनीकी सहायता भी ली जा रही है। 60 मीटर तक साइल परीक्षण और भूकंप रोधी माप भी किए गए हैं।

ये भी पढ़िये:- सौम्या टंडन इस वजह से छोड़ रही हैं ‘भाबी जी घर पर हैं’ (Bhabi Ji Ghar Par Hain) Show

रामराजा मंदिर ओरछा:

 बुंदेलखंड का अयोध्या 19 अगस्त से श्रद्धालुओं के लिए फिर से खुल जाएगा

  • श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बुधवार को वीएचपी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राम मंदिर के निर्माण में लोहे के एक भी गांव का उपयोग नहीं किया जाएगा।
  • मंदिर निर्माण पीसीसी तकनीक पर आधारित होगा। राम मंदिर का क्षेत्रफल लगभग तीन एकड़ होगा।
  • लोड के आधार पर, 60, 40 और 20 मीटर गहरे खंभे लगाए जाएंगे। अब सारा काम विशेषज्ञों के हाथ में है। कोई जल्दी नहीं है।
  • IIT चेन्नई ने 263 फिट गहराई के मिट्टी के नमूने लिए हैं। भूकंप के प्रभाव को जानने के लिए 60 मीटर तक के साइल परीक्षण किया गया है।
  • भूकंप रोधी माप भी किए गए हैं। सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट और IIT चेन्नई संयुक्त रूप से परीक्षण कर रहे हैं।
  • मंदिर में लोहे का 1 ग्राम भी नहीं, जमीन में लोहे का उपयोग नहीं किया जाता है। मंदिर पीसीसी तकनीक पर आधारित होगा।
  • डेढ़ एकड़ में लगभग 1200 पोल छीलने होंगे और एक छीलने ढाई मीटर का होगा।
  • इसके ऊपर मंदिर का आधार होगा। लोड के आधार पर, 60, 40 और 20 मीटर गहरे खंभे लगाए जाएंगे।
  • अब सारा काम विशेषज्ञों के हाथ में है। कोई जल्दी नहीं है।मंदिर निर्माण में कम से कम 36 महीने लगेंगे।
  • यह 36 से 40 महीने का हो सकता है, लेकिन 36 से कम नहीं। इतना धैर्य रखना पड़ेगा।
  • योगी सरकार करेगी अयोध्या में भव्य राम लीला, बॉलीवुड के ये कलाकार निभा सकते हैं अहम किरदार लोगों को अपनी ओर से लिखकर अपने गाँव-इलाके भेजना चाहिए और इसे मंदिर में लगाना चाहिए

मंदिर के चारों ओर परिक्रमा होगी और इसके बाहर परकोटा होगा। मंदिर को जोड़ने के लिए कॉपर स्ट्रिप्स की आवश्यकता होगी। तांबे की लगभग 10,000 स्ट्रिप्स का उपयोग किया जाएगा, 18 इंच लंबा, 3 मिमी मोटा, 30 मिमी चौड़ा। लोग अपनी ओर से लिखकर अपने गाँव-इलाके भेजेंगे और उसे मंदिर में स्थापित करेंगे। इसमें जनता का सीधा योगदान होगा। इसके लिए 10,000 2-2 इंच की छड़ की भी आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़िये:- अब सरकारी नौकरियों (Government Jobs) के लिए होगी एक ही भर्ती परीक्षा, जानें क्या होगा एग्जाम पैटर्न, क्या होंगे फायदे

खुदाई की चीजों के लिए संग्रहालय बनाया जाएगा

चंपत राय ने कहा, अब तक की खुदाई में जो भी मिला है, हम उसे लोगों को दिखाई देंगे। जब आप 1991 के 12 फीट नीचे के स्तर पर जाते हैं, तो वहां एक प्राचीन शिवलिंग पाया गया है। परीक्षण पत्थर के 7 काले फ्रेम, कमल के फूल की कलश, स्तंभों पर गणपति और यक्ष-यक्षिणी की मूर्तियां मिली हैं। 12 से 15 टन पत्थरों के टुकड़े मिले हैं। उसके लिए एक संग्रहालय बनाना होगा।

कमलनाथ ने राम मंदिर (Ram Mandir) का समर्थन करने के लिए सोनिया गांधी से शिकायत की, अब पूर्व सीएम ने दिया यह स्पष्टीकरण

ये भी पढ़िये:- बड़ी खबर- अब सरकार IRCTC में OFS के माध्यम से हिस्सेदारी बेचेगी, विनिवेश विभाग

ये भी पढ़िये:-सुप्रीम कोर्ट का फैसला-Sushant Singh Rajput मामले की जांच करेगी CBI

ये भी पढ़िये:- चिंता की बात: पृथ्वी (Earth)के सुरक्षात्मक खोल में बढ़ती दरारें, शायद हो सकते हैं दो टुकड़े

ये भी पढ़िये:-Nitin Gadkari ने लॉन्च किया Swadesh Bazzar (स्वदेश बज़ार), बोले- Amazon से टक्कर

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print

Leave a Comment

Top Stories

Rajasthan News

Rajasthan News: राजस्थान में 200 रुपए में मिलेगा घर, ऑफर पहले आओ पहले पाओ

Rajasthan News: राजस्थान में 200 रुपए में मिलेगा घर, गरीबों के लिए बड़ा तोहफा जयपुर। जयपुर सहित प्रदेश के अन्य शहरों में अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीमों

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker

Refresh Page