Homeहटके ख़बरेंशादी (Marriage) से मोह भंग! अब इस वजह से युवा जीवन भर...

शादी (Marriage) से मोह भंग! अब इस वजह से युवा जीवन भर अकेले रहना चाहते हैं?

शादी (Marriage) से मोह भंग! अब इस वजह से युवा जीवन भर अकेले रहना चाहते हैं?

Disillusionment with Marriage: साल 2020 में भारत में भी ऐसा ही एक सर्वे किया गया था, जिसमें 26 से 40 साल की उम्र के 42 फीसदी युवाओं ने कहा कि वे न तो शादी (Marriage) करना चाहते हैं और न ही बच्चे पैदा करना चाहते हैं. भारत में ऐसा सोचने वाले पुरुषों और महिलाओं की संख्या लगभग बराबर है।

भारत में हर घंटे 27 हजार शादियां (Marriage) होती हैं, हर महीने 8 लाख से ज्यादा लोगों की शादियां (Marriage) होती हैं और हर साल एक करोड़ लोग एक नया वैवाहिक जीवन शुरू करते हैं. विवाह को परिवार का स्तंभ माना जाता है, लेकिन क्या यह स्तंभ अब टूट रहा है? अमेरिका में किया गया अध्ययन इसी ओर इशारा करता है। तो क्या पूरी दुनिया में शादी (Marriage) को लेकर लोगों का मोहभंग हो गया है और अब महिलाओं से ज्यादा पुरुष हमेशा के लिए सिंगल रहना चाहते हैं?

लोगों को अकेले रहने के लिए क्यों मजबूर किया जा रहा है?

क्या आर्थिक तंगी, रिश्तों का दबाव न झेल पाने का डर और सही जीवनसाथी न मिल पाने का गम लोगों को अब अकेले जीने पर मजबूर कर रहा है? और क्या पुरुष इस अकेलेपन का सबसे ज्यादा शिकार होते हैं?

यह भी पढ़िए | Mystery : धरती का वो कोना जहां अभी तक जीवन नहीं पहुंचा, आज भी धरती वीरान है

अमेरिका में इतने सारे अविवाहित पुरुष

2019 के अमेरिकन कम्युनिटी सर्वे (American Community Survey) के आधार पर पेव रिसर्च (Pew Research) ने दावा किया है कि अब अमेरिका में ज्यादा से ज्यादा पुरुष शादी (Marriage) नहीं करना चाहते हैं। इस समय अमेरिका में 25 से 54 साल के 38 फीसदी पुरुष अविवाहित हैं और शादी भी नहीं करना चाहते। इनमें से 40 से 54 साल के 20 फीसदी पुरुष ऐसे हैं, जो न सिर्फ अविवाहित हैं, बल्कि अपने माता-पिता के साथ भी रहते हैं। इसकी तुलना में 1990 में अमेरिका में अविवाहित पुरुषों की संख्या 29 फीसदी थी। इतना ही नहीं पिछले 30 सालों में अविवाहित महिलाओं की तुलना में शादी न करने वाले पुरुषों की संख्या तेजी से बढ़ी है।

भारत में 42% युवा शादी नहीं करना चाहते

साल 2020 में भारत में भी ऐसा ही एक सर्वे किया गया था, जिसमें 26 से 40 साल की उम्र के 42 फीसदी युवाओं ने कहा कि वे न तो शादी (Marriage) करना चाहते हैं और न ही बच्चे पैदा करना चाहते हैं. भारत में ऐसा सोचने वाले पुरुषों और महिलाओं की संख्या लगभग बराबर है।

यह भी पढ़िए :- Ration Card में जोड़ें परिवार के किसी सदस्य का नाम, मुफ्त अनाज के साथ मिलेंगे ये जबरदस्त फायदे

शादी नहीं करने के लिए जिम्मेदार आर्थिक स्थिति

आप सोच रहे होंगे कि शायद दुनिया के युवाओं की सोच शादी (Marriage) के प्रति बदल गई है और उन्हें यह अनावश्यक लगने लगी है, लेकिन ऐसा नहीं है। इसके पीछे इन युवाओं की आर्थिक स्थिति जिम्मेदार है। अमेरिका में किए गए सर्वेक्षणों से पता चलता है कि ज्यादातर पुरुष अविवाहित रहते हैं, जिनके पास कॉलेज की डिग्री नहीं है, जो छोटे-मोटे काम करते हैं और जिनकी आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि वे शादी कर सकें। अमेरिका में अब ज्यादातर पुरुष शादी कर रहे हैं, जिनके पास अच्छी नौकरी और अच्छी आमदनी है।

ऐसी ही स्थिति भारत में भी है। भारत में 10,000 रुपये या उससे कम प्रति माह कमाने वाले 39 % युवा शादी (Marriage) के लिए तैयार नहीं हैं, जबकि 60,000 रुपये या उससे अधिक कमाने वाले युवा शादी के लिए तैयार नहीं हैं। इनमें से सिर्फ 21 फीसदी ऐसे युवा हैं जो शादी नहीं करना चाहते। भारत में भी कम आय के कारण विवाह न करने वाले पुरुषों की संख्या महिलाओं से अधिक है।

शादी की राह पर नहीं जाना चाहते युवा!

अमेरिका जैसे पश्चिमी देशों में समाज में होने वाले बदलाव कई सालों और दशकों के बाद ही दिखाई दे रहे हैं, लेकिन भारत जैसे देशों में भी। आज भी भारत में भले ही हर साल करोड़ों लोग शादी (Marriage) कर लेते हैं, लेकिन धीरे-धीरे अब कई लोग या तो शादी की राह पर नहीं जाना चाहते या हर कदम पर कदम रखना चाहते हैं। जिसका आधार समाज विवाह माना जाता है। उस समाज की संरचना धीरे-धीरे बदल रही है। पहले संयुक्त परिवार एकल परिवार में बदल गए, फिर महिला और पुरुष अकेले बच्चों की जिम्मेदारी लेने लगे और अब कई युवा शादी और बच्चों दोनों में शामिल नहीं होना चाहते हैं।

युवा अपने तरीके से जीवन जीना चाहते हैं

कुछ दशक पहले तक महिलाओं के पास ज्यादा अधिकार नहीं थे। वह अपनी पढ़ाई भी पूरी नहीं कर पाई थी, लेकिन अब महिलाएं तेजी से आगे बढ़ रही हैं। शिक्षित और पुरुषों के बराबर कमाने वाली महिलाएं अब ऐसा जीवन साथी चाहती हैं जो आर्थिक रूप से मजबूत हो, लेकिन इस दौड़ में कई पुरुष पीछे छूट जाते हैं। लेकिन यह लड़ाई महिलाओं और पुरुषों के बीच नहीं है। बल्कि जिंदगी को अपने तरीके से जीना है।

शादी (Marriage) के सात फेरे और सात जन्मों का जुड़ाव आज भी परंपरा का हिस्सा है, लेकिन कई युवा इस परंपरा को पिंजरा मानने लगे हैं। एक पिंजरा जिसमें वह अपने सपनों के पंख नहीं फैला सकता। लेकिन क्या शादी से मोहभंग समाज को भी कमजोर करने का काम करेगा? इस सवाल का जवाब न तो सीधा है और न ही आसान।

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments