Eye flu havoc in Rajasthan | राजस्थान में आई फ्लू का कहर, अस्पतालों में दवाएं खत्म, डॉक्टरों की छुट्टियों पर भी रोक

Eye flu havoc in Rajasthan News In Hindi
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

Eye flu havoc in Rajasthan | राजस्थान में आई फ्लू का कहर, अस्पतालों में दवाएं खत्म, डॉक्टरों की छुट्टियों पर भी रोक

Eye flu havoc in Rajasthan News In Hindi | राजस्थान में तेजी से बढ़ रहे मामले, जयपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में दवाओं की कमी, लगातार बढ़ रही मरीजों की संख्या, बीकानेर में नेत्र रोग विभाग में प्रतिदिन औसतन 1100 मरीजों का रजिस्ट्रेशन, डॉक्टरों की छुट्टी पर रोक

जयपुर. राजस्थान में इस साल आई फ्लू का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. आउटडोर खुलने से पहले ही अस्पतालों में मरीजों की कतार लग जाती है. रोजाना लोग आंखों में लाली, चुभन और खुजली की समस्या लेकर स्वास्थ्य केंद्रों पर पहुंच रहे हैं। जिसके चलते कई अस्पतालों में दवाइयों की भी कमी हो गई है.

READ ALSO | Weather Alert In Rajasthan | अगले 4 दिनों तक इन जिलों में होगी भारी बारिश, अलर्ट जारी

आईफ्लू के बढ़ते संक्रमण के बीच एसएमएस, जयपुरिया समेत अन्य सरकारी अस्पतालों, डिस्पेंसरियों के अलावा बाजार में इस संक्रमण से बचाव के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाओं की भी कमी हो गई है. इन अस्पतालों में डॉक्टर जो दवाएं लिख रहे हैं, वे यहां उपलब्ध नहीं हैं. मरीजों को अस्पताल के बाहर अन्य वैकल्पिक दवाएं लेने के लिए मजबूर होना पड़ता है। सबसे बड़ी समस्या आईड्रॉप्स को लेकर है।

बीकानेर में डॉक्टरों की छुट्टी पर रोक

आई फ्लू संक्रमण को देखते हुए बीकानेर के पीबीएम अस्पताल एवं जिला अस्पताल (सैटेलाइट) के नेत्र रोग विभाग के सभी डॉक्टरों की छुट्टियों पर रोक लगा दी गई है। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गुंजन सोनी ने नेत्र रोग विभाग में मरीजों की भीड़ देखी तो उन्होंने तुरंत नेत्र रोग विशेषज्ञों की छुट्टी पर रोक लगाने के निर्देश दिये. फिलहाल नेत्र रोग विभाग में प्रतिदिन औसतन 1100 मरीजों का पंजीकरण हो रहा है। यही स्थिति जिला अस्पताल में भी देखने को मिल रही है।

एसएमएस में रोजाना 150 से 200 मरीज

दरअसल, इन दिनों हर घर में इफ्लू से पीड़ित मरीज पाए जा रहे हैं. इसका असर हर उम्र के लोगों पर पड़ रहा है. अस्पतालों की ओपीडी में 30-40 फीसदी मरीज आईफ्लू से पीड़ित हैं। ऐसी ही स्थिति सवाई मानसिंह अस्पताल के चरक भवन, जयपुरिया अस्पताल, कांवटिया अस्पताल समेत अन्य सरकारी अस्पतालों में देखने को मिल रही है। एसएमएस अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञों का कहना है कि रोजाना आईफ्लू के 150 से 200 मरीज पहुंच रहे हैं, इसलिए ड्रॉप्स की कमी हो गई है. डिमांड भेज दी गई है। जल्द ही कोई समाधान निकलेगा.

ठीक होने में पांच से सात दिन लग रहे हैं

डॉक्टरों ने बताया कि आईफ्लू से ठीक होने में आमतौर पर पांच से सात दिन लग रहे हैं। कुछ मरीज दो से तीन दिन में ठीक हो रहे हैं। ऐसे में सावधान रहने की जरूरत है. खासकर बिना डॉक्टरी परामर्श के कोई भी दवा न लें।

और पढ़िए – देश से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहां पढ़ें

joinwhatsappclick here

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

Talkaajहिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज हिंदी में सबसे पहले पढ़ें Talkaaj.com (बात आज की) पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट टॉकआज (Talkaaj) पर पढ़ें मनोरंजन, खेल जगत, बिज़नेस, सरकारी योजनायें , पैसे कैसे कमाए, टेक्नोलॉजी ,ऑटो हटके खबरें से जुड़ी ख़बरें।Also Follow Me For All Information And Updates??

Posted by Talk Aaj.com

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories