Holi Origin History In Hindi: यहां से हुई होली की शुरुआत, पहली बार हुआ होलिका दहन, जानें क्या कहता है इतिहास

Holi Origin History In Hindi-talkaaj.com
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
5/5 - (1 vote)

Holi Origin History In Hindi: यहां से हुई होली की शुरुआत, पहली बार हुआ होलिका दहन, जानें क्या कहता है इतिहास

झाँसी। होली का त्योहार 23 मार्च को मनाया जाएगा. हर कोई रंगों में सराबोर होने की तैयारी कर रहा है, लेकिन हर कोई नहीं जानता कि इस रंग-बिरंगे त्योहार की शुरुआत कहां से और कैसे हुई। Talkaaj.com आपको बता रहा है होली से जुड़े कुछ ऐसे ही दिलचस्प फैक्ट्स। होली की शुरुआत झाँसी से हुई…

  • पूरे देश में मनाए जाने वाले होली के त्यौहार की शुरुआत रानी लक्ष्मीबाई की नगरी झाँसी से हुई।
  • पहली बार होलिका दहन झाँसी के प्राचीन नगर एरच में हुआ था। जहाँ होलिका दहन हुआ था वह स्थान आज भी झाँसी के एक ऊँचे पर्वत पर विद्यमान है।
  •  इस शहर को भक्त प्रह्लाद की नगरी के नाम से जाना जाता है।
  •  एरच झांसी से करीब 70 किलोमीटर दूर है।
Holi Origin History In Hindi
Holi Origin History In Hindi

यह घटना भक्त प्रह्लाद से जुड़ी है

– पुराणों के आधार पर होली मनाने के पीछे की घटना भक्त प्रह्लाद से जुड़ी है।
– सत्ययुग में राक्षस हिरण्यकश्यप का शासन था। भारत में हिरण्यकशिपु का छत्र राज था।
– हिरण्यकश्यप ने झाँसी के एरच को अपनी राजधानी बनाया। कठोर तपस्या के बाद उन्हें ब्रह्मा से अमरता का वरदान मिला। इससे वह अहंकारी हो गया।
– वह खुद को भगवान मानने लगा और लोगों को अपनी पूजा करने के लिए मजबूर करने लगा, लेकिन उसका अपना बेटा, भक्त प्रह्लाद इस बात से सहमत नहीं हुआ और उसने उसकी पूजा करने से इनकार कर दिया।
– वह भगवान विष्णु की पूजा करने लगा। इससे हिरण्यकशिपु क्रोधित हो गया। वह प्रहलाद को मारने की साजिश रचने लगा।

Holi Origin History In Hindi-talkaaj.com
Holi Origin History In Hindi

एक हाथी द्वारा कुचल दिया गया

  • हिरण्यकशिपु ने भक्त प्रह्लाद को मारने का प्रयास किया। उसने प्रह्लाद को हाथी से कुचलवा दिया।
  • ऊँचे पहाड़ से बेतवा नदी में धक्का दे दिया, लेकिन प्रह्लाद बच गया। वह स्थान भी मौजूद है जहां प्रह्लाद नदी में गिरा था।
  • कहा जाता है कि जिस स्थान पर हिरण्यकश्यप ने भक्त प्रह्लाद को बेतवा नदी में फेंका था वह स्थान नरक के समान गहरा है।
  • आज तक कोई भी उस जगह की गहराई का अंदाज़ा नहीं लगा पाया है।
  • आखिरकार, हिरणाकश्यप ने प्रहलाद को डिकोली पर्वत से नीचे फिकवा दिया। डिकोली पर्वत और जिस स्थान पर प्रहलाद गिरे वह आज भी मौजूद है। इसका जिक्र श्रीमद् भागवत पुराण के नौवे स्कन्ध में व झाँसी गजेटियर पेज 339ए, 357 में मिलता है।
  • यहां पहाड़ पर स्थित नर सिंह भगवान की गुफा में तपस्या करने वाले जागेश्वर महाराज बताते हैं कि कई कोशिशें नाकाम होने के बाद हिरण्यकश्यप ने होलिका के साथ साजिश रची।
  • होलिका हिरण्यकश्यप की बहन थी। उसे वरदान था कि अग्नि उसे जला नहीं सकेगी। यह भी था कि जब होलिका अकेली अग्नि में प्रवेश करेगी तभी अग्नि उसे हानि नहीं पहुंचाएगी।
  • उसी समय हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को भक्त प्रह्लाद को लेकर अग्नि में प्रवेश करने को कहा. वह अपने वरदान के बारे में भूल गई कि अगर वह किसी और के साथ जाएगी, तो वह खुद को जला लेगी और हिरण्यकश्यप की बातों में आ गई।

प्रह्लाद के जीवित होने की खुशी में रंग लगाया गया

  • एरच के ढिकौली गांव के पास ऊंचे पहाड़ पर आग जलाई गई। होलिका भक्त प्रह्लाद को लेकर इसी अग्नि में प्रविष्ट हो गयी।
  • चूंकि होलिका को वरदान था कि वह अकेली ही चलेगी, तभी जीवित बचेगी। फिर भी वह भक्त प्रह्लाद को लेकर अग्नि में कूद पड़ी।
  • इससे वह उस आग में जलकर राख हो गयी, जबकि भगवान विष्णु ने भक्त प्रह्लाद को आग से बचा लिया। आसपास के इलाके में भीषण आग फैल गई.
  • इससे क्रोधित होकर हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र भक्त प्रह्लाद को झाँसी के एर्च स्थित उसी पर्वत पर आग से गर्म किये हुए खंभे से बाँधकर मारने की कोशिश की जहाँ उसकी बहन होलिका को जलाया गया था।
  • उस पर तलवार से हमला कर दिया। तब भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लिया और हिरण्यकश्यप का वध किया।
  • हिरण्यकश्यप के मरने से पहले ही होलिका रूपी बुराई जल गई और अच्छाई रूपी भक्त प्रह्लाद बच गए।
  • उसी दिन से भक्त प्रह्लाद की मुक्ति की खुशी में अगले दिन होली जलाने और रंग-गुलाल लगाने की प्रथा शुरू हो गई।
Holi Origin History In Hindi-talkaaj
Holi Origin History

विशेषज्ञों का क्या कहना है?

  • इतिहास विशेषज्ञ हरिओम दुबे का कहना है कि एरच को भक्त प्रहलाद की नगरी के नाम से जाना जाता है।
  • उनके पास सिक्कों के संग्रह में से एक दुर्लभ सिक्का भी है, जिसमें ब्रह्मा लिपि में एरिच का नाम एरिच्छ लिखा है और नाचता हुआ मोर दर्शाया गया है।
  • दतिया जिले में प्राप्त अशोक के शिलालेख में लिखी लिपि की शैली वही है। ऐसा प्रतीत होता है कि यह सिक्का लगभग 2300 वर्ष पूर्व भक्त प्रह्लाद की नगरी में प्रचलित था।

यह जगह ख़राब हालत में है

  • धार्मिक महत्व होने के बावजूद यह स्थान बदहाल है।
  •  राज्य सरकार ने इस स्थान और धार्मिक महत्व के स्थानों को विकसित करने के लिए पैकेज दिया है।
  • पुरातत्व विभाग के पुरातत्व अधिकारी एसके दुबे का कहना है कि माना जाता है कि होली की शुरुआत यहीं से हुई। इस दृष्टि से यह स्थान अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • एरच कस्बा झांसी शहर से करीब 70 किलोमीटर दूर स्थित है।

(देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर , आप हमें FacebookTwitterInstagramKoo और  Youtube पर फ़ॉलो करे.)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories