Homeहेल्थ डेस्कड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती से होगी लाखों की कमाई, जानिए...

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती से होगी लाखों की कमाई, जानिए बुवाई का तरीका

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती से होगी लाखों की कमाई, जानिए बुवाई का तरीका 

Table of Contents

जानिए ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे की जाती है और इसके फायदे

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) एक ऐसा फल है जिसकी खेती सबसे पहले दक्षिण अमेरिका में की गई थी। इसके बाद कई देशों में इसकी खेती की जाती थी। भारत के कई राज्यों में इसकी खेती की जाती है। ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) को हिंदी में कमलम और Pitaya (पिताया) फल के नाम से जाना जाता है। गुजरात सरकार ने ड्रैगन फ्रूट का नाम बदलकर कमलम कर दिया है। इसके पीछे तर्क यह था कि यह फल कमल के फूल जैसा दिखता है। आपको बता दें कि कमलम शब्द संस्कृत का एक शब्द है जिसका इस्तेमाल इस फल के नाम के लिए किया गया है। अब भारत के ड्रैगन फ्रूट को कमलम के नाम से जाना जाता है। किसान भाई इसकी खेती करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। इसकी खेती की खास बात यह है कि इसे कम पानी में भी उगाया जा सकता है। साथ ही ड्रैगन फ्रूट के पौधों में रोग और रोग नहीं होते हैं। ड्रैगन फ्रूट की खेती के दौरान अब तक बीमारियों और बीमारियों का ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है।

ड्रैगन फ्रूट की बेहतर खेती: एक बार करें निवेश, 25 साल तक मिलेगा मुनाफा

इतना ही नहीं, इस फसल में केवल एक निवेश के बाद, यह पारंपरिक खेती की तुलना में लगभग 25 वर्षों तक आय उत्पन्न कर सकता है। इसलिए ड्रैगन फ्रूट की खेती किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित हो सकती है। आज हम आपको ट्रैक्टर जंक्शन के जरिए ड्रैगन फ्रूट की खेती की जानकारी दे रहे हैं। हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए फायदेमंद साबित होगी।

ड्रैगन फ्रूट या कमलम क्या है / ड्रैगन फ्रूट के प्रकार

ड्रैगन फ्रूट एक प्रकार की कैक्टस बेल है। ड्रैगन फ्रूट का वैज्ञानिक नाम Hylocerus undus (हिलोसेरस अंडस) है। भारत में इसे कमलम के नाम से जाना जाता है। इसके फल गूदेदार और रसीले होते हैं। ड्रैगन फ्रूट (कमलम) दो प्रकार के होते हैं। एक सफेद मांस वाला और दूसरा लाल मांस वाला। इसके फूल बहुत सुगंधित होते हैं, जो केवल रात में खिलते हैं और सुबह गिर जाते हैं। एक पौधा 8 से 10 फल देता है।

यह भी पढ़िए | Solar Rooftop Yojana : सोलर पैनल फ्री में लगवाएं, ऐसे करें ऑनलाइन अप्लाई

भारत में ड्रैगन फ्रूट (कमल) की खेती कहाँ होती है

वर्तमान में, ड्रैगन फ्रूट की ज्यादातर भारत में कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में खेती की जाती है। कुछ समय से उत्तर प्रदेश में इसकी खेती की जाती रही है। यहां के कई किसान इसकी खेती कर अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं।

ड्रैगन फ्रूट (कमलम) के उपयोग और लाभ

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) का उपयोग सलाद, मुरब्बा, जेली और शेक बनाने में किया जाता है। यह फल सेहत के लिहाज से भी काफी फायदेमंद माना जाता है। इसके सेवन से कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है। आपको बता दें कि यह फल किसी भी बीमारी को जड़ से खत्म तो नहीं कर सकता, लेकिन इसके लक्षणों को कम करके राहत जरूर दिला सकता है। इसके सेवन से रक्त में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रहती है, जिससे मधुमेह का खतरा कम होता है। इसका सेवन हृदय रोगियों के लिए लाभकारी बताया गया है। इसके अलावा इसका सेवन कैंसर रोग में भी आरामदायक बताया गया है। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है जिससे हार्ट अटैक का खतरा कम होता है। यह फल पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में भी सहायक होता है। गठिया के मरीजों के लिए भी इसका सेवन फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा इसका सेवन इम्युनिटी बूस्टर के तौर पर किया जा सकता है। इतना ही नहीं इसका इस्तेमाल बालों और त्वचा के लिए भी फायदेमंद बताया जाता है।

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती छायादार जगह पर करें

इसकी खेती के लिए तेज रोशनी या धूप को अच्छा नहीं माना जाता है। इसे उन क्षेत्रों में आसानी से उगाया जा सकता है जहां तापमान कम होता है, यानी जहां गर्मी कम होती है। जिन क्षेत्रों में गर्मी अधिक होती है, उन क्षेत्रों में छायादार स्थान पर ही इसकी खेती की जा सकती है। इसकी खेती के लिए 50 सेमी वार्षिक औसत की दर से वर्षा की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़िए| PM Kisan Samman Nidhi Yojana में बड़ा बदलाव हुआ, Ration Card अब होगा अनिवार्य

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए तापमान और मिट्टी

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती के लिए 20 से 30 डिग्री सेल्सियस तापमान उपयुक्त माना जाता है। इसकी खेती रेतीली दोमट मिट्टी से लेकर दोमट मिट्टी तक की विभिन्न प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। लेकिन बेहतर जीवाश्म और जल निकासी वाली रेतीली मिट्टी इसकी फसल के लिए सबसे उपयुक्त होती है। ड्रैगन की खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान 5.5 से 7 तक अच्छा माना जाता है।

ड्रैगन फ्रूट के लिए खेत की तैयारी

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) के लिए खेत तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखें कि खेत में खरपतवार बिल्कुल भी न हो। इसके लिए ट्रैक्टर और कल्टीवेटर को खेत में अच्छी तरह से जोतना चाहिए। इसके बाद भूमि को समतल करने के लिए पैट लगाना चाहिए। जुताई के बाद किसी भी जैविक खाद को निर्धारित मात्रा के अनुसार मिट्टी में मिलाना चाहिए।

ड्रैगन फ्रूट की खेती में बुवाई का तरीका / बुवाई का तरीका

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती में बोने का सबसे आम तरीका है इसे काटना, इसे बीज के माध्यम से भी बोया जा सकता है, लेकिन चूंकि बीज को अंकुरित होने में लंबा समय लगता है और मूल पेड़ की गुणवत्ता भी उस पौधे में आने की संभावना कम होती है, इसलिए इसे व्यावसायिक खेती के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता है। आपको गुणवत्ता वाले पौधों की छंटाई से ड्रैगन फ्रूट के नमूने तैयार करने चाहिए। इसके तहत खेत में रोपण के लिए लगभग 20 सेमी लंबे नमूने का उपयोग करना चाहिए। उन्हें लगाने से पहले, मूल पेड़ को काटकर ढेर कर देना चाहिए।

यह भी पढ़िए | फसल सुरक्षा : खेत की तार फेंसिंग पर 50 से 70 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी

ड्रैगन फ्रूट प्लांट

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit)  के पौधे को सूखे गोबर में मिट्टी, बालू और गोबर मिलाकर 1:1:2 के अनुपात में लगाना चाहिए। इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इन्हें लगाने से पहले इन्हें छाया में रखा जाए ताकि तेज धूप इन पौधों को नुकसान न पहुंचाए। दो पौधे लगाने के स्थान पर कम से कम 2 मीटर खाली जगह छोड़नी चाहिए। पौधे लगाने के लिए 60 सेमी गहरा, 60 सेमी चौड़ा गड्ढा खोदा जाना चाहिए। इन गड्ढों में पौधे रोपने के बाद मिट्टी के साथ कम्पोस्ट और 100 ग्राम सुपर फास्फेट भी मिलाना चाहिए। इस प्रकार एक एकड़ खेत में अधिक से अधिक 1700 ड्रैगन फ्रूट के पौधे लगाने चाहिए। इन पौधों को तेजी से बढ़ने में मदद करने के लिए, उन्हें सहारा देने के लिए लकड़ी के तख्ते या कंक्रीट का इस्तेमाल किया जा सकता है।

ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए खाद और उर्वरक

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) के पौधों की अच्छी वृद्धि के लिए जीवाश्म तत्व आवश्यक हैं। प्रत्येक पौधे की बेहतर वृद्धि के लिए 10 से 15 किलो जैविक खाद/जैविक उर्वरक देना चाहिए। इसके बाद हर साल जैविक खाद की मात्रा दो किलो बढ़ानी चाहिए। इसके अलावा इसकी फसल के समुचित विकास के लिए रासायनिक उर्वरकों का भी उपयोग किया जाता है। वानस्पतिक अवस्था में इसमें प्रयुक्त रासायनिक उर्वरकों का अनुपात पोटाशः सुपर फास्फेटः यूरिया = 40:90:70 ग्राम प्रति पौधा के अनुपात में दिया जाता है। जब पौधों में फल लगने का समय हो तो कम मात्रा में नाइट्रोजन और अधिक मात्रा में पोटाश देना चाहिए ताकि अच्छा उत्पादन प्राप्त किया जा सके। फूल आने से लेकर फलने तक यानी फूल आने से पहले (अप्रैल), फलने का समय (जुलाई-अगस्त) और फलों की तुड़ाई (दिसंबर) में यूरिया युक्त रासायनिक खाद: सुपर फॉस्फेट: पोटाश = 50 ग्राम: 50 ग्राम: 100 ग्राम प्रति पौधे में दिया जाना चाहिए। अनुपात। रासायनिक उर्वरक में हर साल 220 ग्राम की वृद्धि की जानी चाहिए जिसे बढ़ाकर 1.5 किलोग्राम किया जा सकता है।

यह भी पढ़िए| Subsidy on Agricultural Machines: इन फसल कटाई के कृषि मशीनों पर 50 प्रतिशत तक सब्सिडी

ड्रैगन फ्रूट की खेती में सिंचाई

ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) के पौधे को अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इसकी पहली हल्की सिंचाई रोपण के बाद करनी चाहिए। उसके बाद आवश्यकतानुसार सिंचाई की जा सकती है। लेकिन सिंचाई हल्की होनी चाहिए और खेत में जल निकासी की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए ताकि खेत में पानी न भर जाए. सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर सिंचाई या ड्रिप सिंचाई का उपयोग किया जा सकता है।

ड्रैगन फ्रूट में कीट और रोग

ड्रैगन फ्रूट की खेती की विशेषता यह है कि इसके पौधों में रोग और कीट नहीं लगते हैं। अभी तक इसके पौधों में किसी भी प्रकार के कीट या बीमारी का कोई मामला सामने नहीं आया है। इस तरह इसकी खेती में कीटनाशकों का प्रयोग न के बराबर होता है, जिससे किसान का कीटनाशकों पर होने वाला खर्च बच जाता है।

ड्रैगन फ्रूट उत्पादन : ड्रैगन फ्रूट की खेती में फलों की खेती

ड्रैगन फ्रूट के पौधे एक साल के भीतर फल देने लगते हैं। पौधे मई से जून के महीने में फूलते हैं और अगस्त से दिसंबर तक फल लगते हैं। ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) को फूल आने के एक महीने बाद तोड़ा जा सकता है। पौधे दिसंबर के महीने तक फल देते हैं। इस दौरान एक पेड़ से कम से कम छह फल तोड़े जा सकते हैं। फल पके हैं या नहीं, इसका अंदाजा फलों के रंग से आसानी से लगाया जा सकता है। कच्चे फलों का रंग गहरा हरा होता है जबकि पकने पर यह लाल रंग का हो जाता है। रंग बदलने के तीन से चार दिनों के भीतर फल लेने की सलाह दी जाती है, लेकिन यदि फल निर्यात किया जाना है, तो रंग बदलने के एक दिन के भीतर इसे तोड़ लेना चाहिए।

यह भी पढ़िए |आप मुफ्त में Aadhaar Card Franchise लेकर मोटी कमाई कर सकते हैं, यह तरीका है

ड्रैगन फ्रूट का बाजार भाव

अब बात करें इसकी कीमत की तो एक फल का वजन 300 से 400 ग्राम तक होता है। बाजार में एक ड्रैगन पीस फ्रूट का भाव 80 से 100 रुपये के बीच है। यह फल एक खंबे पर 10 किलो से लेकर 12 किलो तक आता है।

ड्रैगन फ्रूट प्लांट की कीमत / ड्रैगन फ्रूट प्लांट

गुजरात में इसकी काफी खेती की जाती है। ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) की खेती के लिए किसान भाई गुजरात से यह पौधा मंगवा सकते हैं। गुजरात में एक पौधे की कीमत 70 रुपये है। इसके अलावा किसान भाई इस ड्रैगन फ्रूट के पौधे को Amazon जैसी ऑनलाइन साइट से भी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप डेढ़ बीघा जमीन पर इसकी खेती करते हैं तो आपको ड्रैगन फ्रूट के करीब 600 पौधों की जरूरत पड़ेगी।

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments