सावन (Sawan) में क्यों है दूध और दही खाना मना, जानिए वैज्ञानिक पहलू और धार्मिक मान्यताएं?

Sawan
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

सावन (Sawan) में क्यों है दूध और दही खाना मना, जानिए वैज्ञानिक पहलू और धार्मिक मान्यताएं?

वैज्ञानिक पहलू और क्या कहते हैं धार्मिक मान्यताएं

सावन (Sawan) का महीना भगवान शिव को समर्पित है और इस महीने में महादेव की पूरी भक्ति और भक्ति के साथ पूजा की जाती है। इसके साथ ही सावन के महीने में कुछ चीजों का सेवन करना मना है। इनमें मुख्य रूप से दूध, दही, बैगन और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल हैं। इसके अलावा लहसुन, प्याज और मांस शराब का सेवन भी प्रतिबंधित है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि इन चीजों को न खाने के पीछे वैज्ञानिक पहलू क्यों हैं और धार्मिक मान्यताएं क्या कहती हैं…

सावन में दूध, दही खाना क्यों मना है?

दूध और दही को लेकर लोगों में ऐसी धार्मिक मान्यता है कि सावन में भगवान शिव का दूध और दही से अभिषेक किया जाता है, इसलिए ऐसा माना जाता है कि दूध और दही से परहेज करना चाहिए। वहीं इसके पीछे वैज्ञानिक तर्क यह है कि सावन (Sawan) का महीना बारिश का होता है और इस महीने में घास और पौधों पर कई तरह के कीड़े-मकोड़े पनपते हैं. यह घास और पौधे गायों और भैंसों के चारे के रूप में खाए जाते हैं। ऐसे में घास और भूसे के साथ इन कीड़ों के पेट में पहुंचने का डर बना रहता है और यहीं से ये दूध में भी मिल सकते हैं। इसलिए दूध पीना मना है। दूध से दही और पनीर बनाया जाता है, इसलिए डेयरी उत्पादों को खाने से रोका जाता है।

यह भी पढ़िए | Health Tips: पेट फूलने की समस्या से हैं परेशान तो इन चीजों को खाने से करें परहेज

नमक को क्‍यों कहा जाता है न

सावन (Sawan) के महीने में कुछ लोग धार्मिक कारणों से नमक का त्याग कर देते हैं या फिर एक बार के खाने में नमक का ही इस्तेमाल करते हैं। वैज्ञानिक तर्क यह है कि इस बरसात के मौसम में हमारे शरीर में सोडियम की मात्रा पहले से ही बहुत अधिक होती है। ऐसे में सोडियम से भरपूर नमक का सेवन आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। यदि आप नमक का त्याग नहीं कर सकते हैं तो सावन के महीने में सेंधा नमक का प्रयोग करें तो बेहतर होगा।

बैंगन और पत्तेदार सब्जियां

धार्मिक मान्यताओं का पालन करते हुए सावन में कुछ लोग बैगन और पत्तेदार सब्जियां नहीं खाते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बैंगन को अशुद्ध माना जाता है। तो वहीं विज्ञान कहता है कि सावन (Sawan) के महीने में बैगन में कीड़े पड़ जाते हैं. वहीं हरी पत्तेदार सब्जियों में भी कीड़े लग जाते हैं। अगर आप इन सब्जियों का सेवन करते हैं तो संभव है कि आपके पेट में जाकर ये कीड़े और बैक्टीरिया बीमारी का कारण बन सकते हैं।

यह भी पढ़िए | शरीर को ‘चट्टान’ जैसी ताकत देकर कई बीमारियों से बचाती है ये सब्जी, हैरान कर देगे इसके फायदे

प्याज, लहसुन क्यों नहीं खाते?

धार्मिक मान्यताएं कहती हैं कि सावन (Sawan) का महीना भगवान शिव की भक्ति का महीना है और ऐसे में हमें प्याज-लहसुन नहीं खाना चाहिए, जो मन को दूषित करती हैं। ये बातें हमें पुण्य के मार्ग से भटकाती हैं। वहीं वैज्ञानिक तर्क यह भी है कि सावन के महीने में हमारा पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है। ऐसे में प्याज और लहसुन से बनी सब्जियों में अधिक मात्रा में होने के कारण इसे पचाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

मांस मदिरा

इन चीजों को तामसिक चीजों के रूप में वर्गीकृत किया जाता है जो आपके मन को भक्ति के मार्ग से हटाकर गलत दिशा में धकेल देती हैं। इसलिए सावन (Sawan) के महीने में मांस और शराब यानी शराब का सेवन वर्जित है। इसके साथ ही सावन में लाल मिर्च की जगह हरी मिर्च और काली मिर्च खाने की बात कही जाती है. ऐसा माना जाता है कि ज्यादा मसालेदार खाना खाने से मन में बुरे विचार आते हैं।

यह भी पढ़िए | मिट्टी के बर्तन में खाना क्यों बनाना चाहिए? यदि आप लाभ जानते हैं, तो आपको अपनी अज्ञानता पर पछतावा होगा!

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के Application Download करे

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
TalkAaj

TalkAaj

Leave a Comment

Top Stories