Big News: नेपाल, बांग्लादेश, म्यांमार से हो रही है लड़कियों की तस्करी!

Big News
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

Big News: नेपाल, बांग्लादेश, म्यांमार से हो रही है लड़कियों की तस्करी!

केंद्र सरकार ने मानव तस्करी पीड़ितों, विशेषकर नाबालिग लड़कियों और युवा महिलाओं के लिए संरक्षण और पुनर्वास गृह स्थापित करने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वित्तीय सहायता प्रदान करने का निर्णय लिया है।

भारत में बेहतर जीवन, नौकरी और अच्छी जीवन स्थितियों के बहाने नेपाल, बांग्लादेश और म्यांमार जैसे पड़ोसी देशों से महिलाओं और लड़कियों की तस्करी की जा रही है। इनमें से ज्यादातर नाबालिग लड़कियां और युवतियां हैं। उन्हें यहां लाया जाता है, बेचा जाता है और व्यावसायिक यौन कार्य में धकेला जाता है। इसे देखते हुए, केंद्र सरकार ने मानव तस्करी पीड़ितों, विशेषकर नाबालिग लड़कियों और युवा महिलाओं के लिए संरक्षण और पुनर्वास गृह स्थापित करने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वित्तीय सहायता प्रदान करने का निर्णय लिया है।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि तस्करी की गई लड़कियों को अक्सर मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद जैसे बड़े शहरों से पश्चिम एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों में ले जाया जाता है। ऐसे में इन देशों के सीमावर्ती राज्यों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है. साथ ही, तस्करी पीड़ितों के राहत और पुनर्वास के लिए पर्याप्त सुविधाएं होनी चाहिए। इसे देखते हुए केंद्र की मदद से स्थापित होने वाले संरक्षण एवं पुनर्वास गृह पीड़ितों को आश्रय, भोजन, कपड़े, परामर्श, प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करेंगे। मिशन वात्सल्य योजना के दिशानिर्देशों के अनुसार, पीड़ितों को आर्थिक सुरक्षा के लिए उपयुक्त घोषित करने के लिए सीडब्ल्यूसी के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा और तदनुसार राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों से आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध किया जाएगा।

सरकार ने देश के हर जिले में मानव तस्करी रोधी इकाइयां (एएचटीयू) स्थापित करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्भया फंड से धन उपलब्ध कराया है। इसके अलावा बीएसएफ और एसएसबी जैसे सीमा सुरक्षा बलों में एएचटीयू के लिए भी पैसा दिया गया है। देश में 788 एएचटीयू कार्यरत हैं जिनमें 30 सीमा सुरक्षा बलों के हैं।

Posted by TalkAaj.com

click here

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

Talkaaj

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories