खुशखबरी, अब FASTag से नही देना पड़ेगा Toll Tax, सरकार शुरू करने जा रही ये नया सिस्टम

FASTag Toll Tax
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Rate this post

खुशखबरी, अब FASTag से नही देना पड़ेगा Toll Tax, सरकार शुरू करने जा रही ये नया सिस्टम

कुछ ही दिनों में आपको Toll Plaza पर FASTags की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि भारत में जल्द ही नई टोल कलेक्शन तकनीक लागू होने वाली है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार का लक्ष्य जीपीएस-आधारित टोल संग्रह प्रणाली शुरू करना है, जो वाहनों से टोल टैक्स वसूलने की पुरानी प्रणाली की जगह लेगी। वर्तमान में, देश भर के राजमार्गों पर स्थापित भौतिक Toll Plaza पर RIED-बेस्ड टेक्नोलॉजी, जिसे FASTag कहा जाता है, उसके माध्यम से Toll Tax काटा जाता है। इसे लगभग तीन साल पहले टोल कलेक्शन की अनिवार्य सिस्टम के रूप में पेश किया गया था।

GPS-बेस्ड टोल कलेक्शन सिस्टम (GPS-Based Toll Collection System)

नितिन गडकरी ने कहा कि नई GPS आधारित टोल कलेक्शन प्रणाली अगले साल मार्च से लागू होने की संभावना है. इसका उद्देश्य टोल प्लाजा पर यातायात की भीड़ को कम करना है। दिलचस्प बात यह है कि FASTag टोल संग्रह प्रणाली इसी कारण से फरवरी 2021 में शुरू की गई थी। गडकरी ने यह भी कहा कि New toll collection system यात्रियों से उनके द्वारा तय की गई दूरी के आधार पर कर वसूलने में भी मदद करेगी।

नितिन गडकरी ने क्या कहा? (What did Nitin Gadkari say?)

बुधवार (20 दिसंबर) को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए, गडकरी ने कहा कि सरकार देश में टोल प्लाजा को बदलने के लिए जीपीएस-आधारित टोल सिस्टम सहित नई तकनीक पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि अगले साल मार्च तक हम देशभर में नया जीपीएस सैटेलाइट आधारित टोल कलेक्शन शुरू करेंगे.

GPS-बेस्ड टोल कलेक्शन कैसे काम करता है? (How does GPS-based toll collection work?)

नई GPS-Based Toll Collection System वाहन नंबर प्लेटों को स्कैन करेगी और Toll Tax वसूल करेगी। गडकरी ने कहा कि केंद्र पहले ही दो स्थानों पर नई प्रणाली का परीक्षण कर चुका है। यह सिस्टम वाहन चलते समय कैमरों के माध्यम से स्वचालित नंबर प्लेट पहचान प्रणाली का उपयोग करेगा। नंबर प्लेटों को उन खातों से जोड़ा जाएगा जहां से यात्रा की गई थी। दूरी के आधार पर टोल टैक्स (Toll Tax ) काटा जाएगा.

[inline_related_posts title=”You Might Be Interested In” title_align=”left” style=”grid” number=”6″ align=”none” ids=”” by=”categories” orderby=”rand” order=”DESC” hide_thumb=”no” thumb_right=”no” views=”no” date=”yes” grid_columns=”2″ post_type=”” tax=””]

GPS-बेस्ड टोल कलेक्शन FASTags से कैसे अलग? (How is GPS-based toll collection different from FASTag?)

वर्तमान में भारत भर के अधिकांश राजमार्ग Toll Tax काटने के लिए FASTag का उपयोग करते हैं। टोल प्लाजा पर RFID-सपोर्ट बैरियर वाहनों पर लगे फास्टैग आईडी को पढ़ता है और दोनों Toll Plaza के बीच की दूरी के आधार पर टैक्स वसूलता है। सिस्टम को स्कैन करने के लिए वाहनों को टोल प्लाजा पर रुकना आवश्यक है। इससे अक्सर लंबी कतारें लग जाती हैं, जिससे FASTag को सबसे पहले शुरू करने का मूल कारण ही खत्म हो जाता है।[1]

Fastag लगाने के बाद भी Toll plaza पर पहुंचने पर लग सकता है जुर्माना, जाने वजह!

खुशखबरी, अब FASTag से नही देना पड़ेगा Toll Tax, सरकार शुरू करने जा रही ये नया सिस्टम

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

(देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर , आप हमें FacebookTwitterInstagramKoo और  Youtube पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print
TalkAaj

TalkAaj

Talkaaj.com is a valuable resource for Hindi-speaking audiences who are looking for accurate and up-to-date news and information.

Leave a Comment

Top Stories