दुनिया (World) के इस देश में जेलें तो हैं लेकिन एक भी कैदी नहीं, सारी जेलें खाली

World
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

 दुनिया (World) के इस देश में जेलें तो हैं लेकिन एक भी कैदी नहीं, सारी जेलें खाली

इन दिनों नीदरलैंड की जेलें पूरी तरह से खाली हैं (Netherlands Jail Closed) । नीदरलैंड में अपराध दर में इतनी गिरावट आई है कि अब एक भी कैदी नहीं बचा है। पड़ोसी देश नॉर्वे से कैदियों को नीदरलैंड की जेल (Netherlands To Norway) में शिफ्ट किया जा रहा है।

नीदरलैंड (Netherlands) की गिनती दुनिया के सबसे खूबसूरत देशों में होती है। हर कोई अपने जीवन में कभी न कभी यहां घूमने का सपना जरूर देखता है। लेकिन आजकल यह देश अपनी खूबसूरती के साथ-साथ और भी कारणों से लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है (Viral News)। जहां अन्य देश अपनी अपराध दर से परेशान हैं वहीं नीदरलैंड में अपराध दर (Crime Rate In Netherlands) इतनी तेजी से घटी है कि यहां की जेलें खाली पड़ी हैं (Netherlands Jail Closed)

नीदरलैंड हर देश के लिए मिसाल है

नीदरलैंड की जेल बंद (Netherlands Jail Closed) में 2013 से जेलों को बंद करने का सिलसिला जारी है। साल 2019 में भी यहां की कुछ जेलों को बंद कर दिया गया था। कुछ जेलों को शरणार्थियों के लिए स्थायी आवास में बदल दिया गया है। कैदियों के साथ रवैये पर डच प्रणाली (Dutch System) की पूरे यूरोप (Prisoners Food) में प्रशंसा  हो रही है। जानकारों के मुताबिक यह दूसरे देशों के लिए एक बेहतरीन उदाहरण है। यहां न केवल अपराध दर बल्कि अपराधियों के साथ जिस तरह से व्यवहार किया जाता है, उसने स्थिति को बदलने में बहुत योगदान दिया है।

यह भी पढ़े:- सोशल मीडिया गाइडलाइंस पर विवाद: Whatsapp ने कहा- गाइडलाइंस प्राइवेसी का उल्लंघन, केंद्र का जवाब- कंपनी का रवैया गलत, जाने पूरा मामला

कैदियों के मानसिक स्वास्थ्य पर बढ़ा फोकस

हर कोई जानना चाहता है कि नीदरलैंड में ऐसा क्या हुआ कि सभी जेलें पूरी तरह से खाली हैं (Netherlands Jail Closed)। वास्तव में, डच न्याय प्रणाली (Dutch Justice System) में मानसिक स्वास्थ्य (Mental Health) से पीड़ित कैदियों पर विशेष ध्यान दिया जाता था। यह व्यवस्था सजा के बजाय समझ और रोकथाम पर आधारित है। देश में जो कोई भी अपराध करता है उसे जुर्माना भरना पड़ता है या मनोवैज्ञानिक द्वारा चलाए जा रहे पुनर्वास कार्यक्रम में भाग लेना होता है। कई साल जेल में बिताने वाले कैदियों के लिए सजा कम कर दी गई थी।

यह भी पढ़े:- ये भूल WhatsApp पर कभी ना करें , थोड़ी सी नादानी की मिल सकती है बड़ी सज़ा

पड़ोसी देश से भेजे जा रहे कैदी

एक रिपोर्ट के मुताबिक, नीदरलैंड में जेल व्यवस्था को चालू रखने के लिए पड़ोसी देश नॉर्वे (Netherlands To Norway) से कैदियों को नॉर्वे भेजते रहे हैं। नॉर्वे (Crime Rate In Norway) में अपराध दर बहुत अधिक है। यह व्यवस्था साल 2015 से शुरू हुई थी क्योंकि नॉर्वे के पास अपने कैदियों को रखने के लिए जगह नहीं है। नीदरलैंड्स में कैदियों को काफी बेहतर तरीके से रखा जाता है और उनके कैदियों के खाने (Prisoners Food) की भी ठीक से व्यवस्था की जाती है। इसे वहां मानवाधिकारों (Human Rights) की दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता है।

इस आर्टिकल को शेयर करें

ये भी पढ़े:- 

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
TalkAaj

TalkAaj

Leave a Comment

Top Stories

Maruti Alto 2022

इस दिन मार्केट में धूम मचाने आएगी Maruti Suzuki Alto 2022, लॉन्च से पहले जानें कीमत, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन की पूरी डिटेल

इस दिन मार्केट में धूम मचाने आएगी Maruti Suzuki Alto 2022, लॉन्च से पहले जानें कीमत, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन की पूरी डिटेल Maruti Alto 2022 :

New Helmet Rules in India

New Helmet Rules: बाइक-स्कूटी वाले हो जाओ सावधान! हेलमेट पहना है फिर भी कटेगा चालान, जानिए ऐसा क्यों?

New Helmet Rules: बाइक-स्कूटी वाले हो जाओ सावधान! हेलमेट पहना है फिर भी कटेगा चालान, जानिए ऐसा क्यों? New Helmet Rules in India: सिर्फ हेलमेट