Home अन्य ख़बरेंजीवनी किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह का जीवन परिचय | Chaudhary Charan Singh Biography in Hindi

किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह का जीवन परिचय | Chaudhary Charan Singh Biography in Hindi

भारत के पूर्व प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया जाएगा। वह देश के सबसे बड़े किसान नेताओं में से एक थे

by TalkAaj
A+A-
Reset
Chaudhary Charan Singh Biography in Hindi
Rate this post

किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह का जीवन परिचय | Chaudhary Charan Singh Biography in Hindi

Chaudhary Charan Singh Biography in Hindi: भारत के पूर्व प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया जाएगा। वह देश के सबसे बड़े किसान नेताओं में से एक थे। आपको बता दें कि उन्होंने उत्तर प्रदेश में भूमि सुधार के लिए अभूतपूर्व काम किया था. चौधरी चरण सिंह ने वर्ष 1939 में विभागीय ‘ऋण माफी विधेयक’ को तैयार करने और अंतिम रूप देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिससे ग्रामीण देनदारों को राहत मिली। आइए अब भारत में किसानों के मसीहा और भारत के पांचवें प्रधान मंत्री कहे जाने वाले चौधरी चरण सिंह की जीवनी (Chaudharykaran Singh Biography in Hindi) और उनके कार्यों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

नाम चौधरी चरण सिंह (Chaudhary Charan Singh)
जन्म वर्ष 1902
जन्म स्थान नूरपुर गाँव, मेरठ जिला, उत्तर प्रदेश
शिक्षा स्नातकोत्तर (आगरा विश्वविद्यालय), लॉ (मेरठ विश्वविद्यालय)
पेशा राजनीतिज्ञ, वकालत, लेखक
राजनीतिक पार्टी जनता पार्टी
धारित पद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री (वर्ष 1970), भारत के पांचवे प्रधानमंत्री
सम्मान “भारत रत्न” (2024)
निधन 29 मई 1987

जन्म उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में हुआ था

किसानों के मसीहा कहे जाने वाले चौधरी चरण सिंह का जन्म वर्ष 1902 में उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के नूरपुर गांव में एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1923 में विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और वर्ष 1925 में आगरा विश्वविद्यालय से मास्टर डिग्री प्राप्त की। इसके बाद वर्ष 1926 में मेरठ कॉलेज से कानून की डिग्री प्राप्त करने के बाद उन्होंने गाजियाबाद से कानून का अभ्यास शुरू किया।

1937 में पहली बार विधायक बने

1929 में कांग्रेस में शामिल होने के बाद, चौधरी चरण सिंह 1937 में छपरौली से उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुने गए। इसके बाद उन्होंने 1946 से 1967 तक विधान सभा में अपने निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1946 में, ‘पंडित गोविंद बल्लभ पंत’ की सरकार में ‘, उन्होंने संसदीय सचिव, राजस्व, चिकित्सा और सार्वजनिक स्वास्थ्य, न्याय, सूचना आदि जैसे विभिन्न विभागों में काम किया। वर्ष 1952 में, वह ‘डॉ.’ बन गये। संपूर्णानंद के मंत्रिमंडल में राजस्व और कृषि मंत्री बने और सी.बी. गुप्ता के मंत्रिमंडल में गृह और कृषि मंत्री बने। इसके बाद वे 1962 से 63 तक ‘सुचेता कृपलानी’ के मंत्रिमंडल में कृषि एवं वन मंत्री रहे।

कुछ दिन ही प्रधानमंत्री रहे

कांग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद चौधरी चरण सिंह कुछ समय तक जनता पार्टी में रहे लेकिन जल्द ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया। वर्ष 1979 में उन्होंने ‘इंदिरा गांधी’ के सहयोग से नई सरकार बनाई और देश के पांचवें प्रधानमंत्री बने। लेकिन इससे पहले कि उनकी सरकार संसद में बहुमत साबित कर पाती, इंदिरा गांधी ने अपना समर्थन वापस ले लिया और उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

एक मजबूत नेता के रूप में जाने जाते हैं

चौधरी चरण सिंह एक मजबूत और सख्त नेता के रूप में जाने जाते थे। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार में विभिन्न पदों पर रहते हुए जन कल्याण के लिए अभूतपूर्व कार्य किये। इसके साथ ही उन्होंने प्रशासन में अक्षमता, भाई-भतीजावाद और भ्रष्टाचार का खुलकर विरोध किया।

किसान नेता के रूप में पहचान मिली

चौधरी चरण सिंह ने उत्तर प्रदेश में भूमि सुधार के लिए सराहनीय कार्य किया था। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने भूमि जोत अधिनियम, 1960 लाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके अलावा, उन्होंने ‘जमींदारी उन्मूलन अधिनियम’, ‘पटवारी राज से मुक्ति’ और चकबंदी अधिनियम में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया।

कई किताबें भी लिखीं

चौधरी चरण सिंह की जीवनी (ChaudharyCharan Singh Biography in Hindi) के साथ-साथ उनके द्वारा लिखी गई पुस्तकों का भी उल्लेख यहां किया गया है, जो इस प्रकार हैं:-

  • ज़मींदारी उन्मूलन
  • भारत की गरीबी और उसका समाधान
  • किसानों की भूसंपत्ति या किसानों के लिए भूमि
  • प्रिवेंशन ऑफ़ डिवीज़न ऑफ़ होल्डिंग्स बिलो ए सर्टेन मिनिमम
  • को-ऑपरेटिव फार्मिंग एक्स-रयेद्

निधन

चौधरी चरण सिंह का पूरा जीवन जन कल्याण और किसानों के उत्थान के लिए समर्पित था। वहीं 29 मई 1987 को उनका निधन हो गया। लेकिन वह आज भी अपने सराहनीय कार्यों के लिए जाने जाते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

चौधरी चरण सिंह का जन्म कहाँ हुआ था?

चौधरी चरण सिंह का जन्म वर्ष 1902 में उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के नूरपुर गांव में हुआ था।

चौधरी चरण सिंह को वर्ष 2024 में किस सम्मान से सम्मानित किया जाएगा?

आपको बता दें कि चौधरी चरण सिंह को साल 2024 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया जाएगा.

चौधरी चरण सिंह किस वर्ष उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने?

वह वर्ष 1970 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।

भारत के पांचवें प्रधान मंत्री कौन थे?

चौधरी चरण सिंह भारत के पांचवें प्रधान मंत्री थे।

चौधरी चरण सिंह की मृत्यु कब हुई?

29 मई 1987 को उनका निधन हो गया।

हमें उम्मीद है कि आपको किसान नेता और भारत के पांचवें प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह की जीवनी (Chaudhary charan sing biography in hindi) पर आधारित हमारा ब्लॉग पसंद आया होगा। अन्य प्रसिद्ध कवियों और महान व्यक्तियों की जीवनियाँ पढ़ने के लिए Talkaaj News के साथ बने रहें।

कौन थे किसानों के मसीहा Chaudhary Charan Singh जिनको मिला भारत रत्न, जानिए पूरी जानकारी?

(देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले पढ़ें Talkaaj (बात आज की) पर , आप हमें FacebookTelegramTwitterInstagramKoo और  Youtube पर फ़ॉलो करे)

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me

You may also like

Leave a Comment

Hindi News:Talkaaj पर पढ़ें हिन्दी न्यूज़ देश और दुनिया से, जाने व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट. Read all Hindi … Contact us: [email protected]

Edtior's Picks

Latest Articles

All Right Reserved. Designed and Developed by Talkaaj

Talkaaj.com पर पढ़ें हिन्दी न्यूज़ देश और दुनिया से, जाने व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट. Read all Hindi