Property Registry: सिर्फ रजिस्ट्री करवाने से आप प्रॉपर्टी के मालिक नहीं बन जाते, इस गलतफहमी को अभी दूर कर लें

Property Registry
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
4.6/5 - (8 votes)

Property Registry: सिर्फ रजिस्ट्री करवाने से आप प्रॉपर्टी के मालिक नहीं बन जाते, इस गलतफहमी को अभी दूर कर लें

Property Registry: किसी भी तरह की संपत्ति खरीदते समय हमेशा सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। भारत में किसी भी संपत्ति को खरीदते समय रजिस्ट्री करनी होती है, लेकिन सिर्फ रजिस्ट्री कराने से वह संपत्ति आपकी नहीं हो जाती है। जानिए इसमें कौन सा पेंच फंस सकता है।

Property And Business News: यदि आप भारत में संपत्ति खरीदते हैं, तो आपको उसके लिए भारतीय पंजीकरण अधिनियम का पालन करना होगा। इस एक्ट के तहत अगर आप ₹100 से ऊपर की कोई संपत्ति किसी और के नाम ट्रांसफर करते हैं तो उसके लिए लिखित कार्रवाई की जाती है।

इस संपत्ति हस्तांतरण को निकटतम सब-रजिस्ट्रार के कार्यालय में भी पंजीकृत कराना होगा। सभी जानते हैं कि अगर आप किसी भी तरह की दुकान, जमीन, मकान और प्लॉट खरीदते हैं तो उसके लिए रजिस्ट्रेशन कराना होता है, लेकिन सिर्फ रजिस्ट्री कराने से आप उस संपत्ति के मालिक नहीं हो जाते।

READ ALSO | आवास फाइनेंस से होम लोन अप्लाई कैसे करे?

क्या है पूरी प्रक्रिया?

बहुत से लोगों को इस बात को लेकर एक बड़ी गलतफहमी है कि वे किसी संपत्ति का रजिस्ट्रेशन कराकर ही उसका मालिकाना हक हासिल कर सकते हैं। अक्सर ऐसी खबरें सुनने को मिलती हैं कि एक शख्स ने प्रॉपर्टी खरीदी है लेकिन उस पर भारी कर्ज ले रखा है वहीं एक शख्स ने अपनी प्रॉपर्टी दो अलग-अलग लोगों को बेच दी है जिससे बात बिगड़ जाती है और आपको लाखों-करोड़ों का नुकसान हो जाता है. ऐसा होता है। रजिस्ट्री करवाते समय आपको इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि जमीन का म्यूटेशन भी आपके नाम से होना चाहिए। रजिस्ट्री कराते समय इस बात का ध्यान रखें कि म्यूटेशन का आधार खुद के नाम कराना होगा, तभी आप संपत्ति के पूर्ण हकदार हो सकते हैं।

READ ALSO | प्रधानमंत्री आवास योजना की पूरी जानकारी

दाखिल-खारिज जरूर कराएं

आम बोलचाल की भाषा में संपत्ति के हस्तांतरण को दाखिल-खारिज के नाम से भी जाना जाता है। अगर आपके नाम पर कोई प्रॉपर्टी मिलती है तो यह याद रखना बेहद जरूरी है कि फाइलिंग को कैंसल करना भी बहुत जरूरी है। आपको बता दें कि रजिस्ट्री सिर्फ मालिकाना हक ट्रांसफर करने का काम करती है, जबकि उसके बाद दाखिल-खारिज का काम मालिकाना हक देने का होता है।

Posted by Talkaaj.com

10 करोड़ पाठकों की सबसे भरोसेमंद हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

READ ALSO | Mudra Loan Yojana Ki Puri Jankari : घर बैठे मिलेंगे 10 लाख रुपये, ये लोग कर सकते हैं आवेदन

READ ALSO | Digital Seva Kendra : डिजिटल सेवा केंद्र के साथ जीरो लागत पर बिजनेस शुरू करें

Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information??

WhatsApp                       Click Here
Facebook Page                  Click Here
Instagram                  Click Here
Telegram                  Click Here
Koo                  Click Here
Twitter                  Click Here
YouTube                  Click Here
ShareChat                  Click Here
Daily Hunt                   Click Here
Google News                  Click Here
Tags:- property registry,property registry process,property registration,registry,how to register your property in india,property registry fees,property registry in pakistan,land registry,property registry completer process in hindi,property,property registration process,property registration kaise kare,registry of property,property law,property registry steps,property registration process in india,fake registry of property,perental property registry
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
TalkAaj

TalkAaj

हैलो, मेरा नाम PPSINGH है। मैं जयपुर का रहना वाला हूं और इस News Website के माध्यम से मैं आप तक देश और दुनिया से व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट पहुंचाने की कोशिश करता हूं। आपसे विनती है कि अपना प्यार हम पर बनाएं रखें ❤️

Leave a Comment

Top Stories