500 Rupees Note Demonetization: 500, 1000, 2000 रुपए के नोटों पर वित्त मंत्रालय ने दिया बड़ा अपडेट

500 Rupees Note Demonetization News
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
5/5 - (1 vote)

500 Rupees Note Demonetization News Hindi : 500, 1000, 2000 रुपए के नोटों पर वित्त मंत्रालय ने दिया बड़ा अपडेट

500 Rupees Note Demonetization: आरबीआई ने इस साल मई में 2000 रुपए के नोट को चलन से वापस ले लिया था। अब सवाल 500 के नोट का है?

500 Rupees Note Demonetization News Hindi: वित्त मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि 2,000 रुपये के नोट बदलने की समय सीमा 30 सितंबर, 2023 से आगे बढ़ाने का कोई प्रस्ताव नहीं है। वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि क्या बैंकों में 2000 रुपये के नोट बदलने की समय सीमा 30 सितंबर से आगे बढ़ाने का कोई प्रस्ताव है?

आज की बड़ी खबरें देखे

साथ ही चौधरी ने एक अन्य सवाल का भी जवाब दिया कि क्या सरकार काले धन को खत्म करने के लिए अन्य उच्च मूल्य वर्ग के नोटों को भी बंद करने की योजना बना रही है? वित्त मंत्रालय की ओर से लोकसभा में करेंसी को लेकर बड़ी बात कही गई है. क्या सरकार जल्द ही 500 रुपये के नोट को बंद कर देगी? मंत्री ने कहा, ‘फिलहाल यह मामला विचाराधीन नहीं है.

ये जवाब 500 के नोट पर दिया गया था

वित्त मंत्रालय ने कहा, ‘मौजूदा समय में 500 रुपये का नोट सबसे बड़ी करेंसी है. वित्त मंत्रालय की ओर से विस्तृत जानकारी देते हुए बताया गया कि फिलहाल सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है. अगर भविष्य में इस संबंध में कोई प्लानिंग की जाएगी तो आपको इसकी जानकारी दी जाएगी.

READ ALSO |  घर लाएं ये सरकारी स्टोव, महंगे गैस सिलेंडर से छुटकारा, हर रोज करें दावत

2000 का नोट वापस लेने का फैसला

एक आश्चर्यजनक कदम में, रिजर्व बैंक ने 19 मई को 2,000 रुपये के नोटों को प्रचलन से वापस लेने की घोषणा की, लेकिन जनता को ऐसे नोटों को या तो खातों में जमा करने या बैंकों में बदलने के लिए 30 सितंबर तक का समय दिया।

आरबीआई के मुताबिक, चलन में मौजूद 2,000 रुपये के 76 फीसदी नोट या तो बैंकों में जमा कर दिए गए हैं या बदल दिए गए हैं।

READ ALSO |  बारिश से खराब हो गई कार? जानिए कौन सा Motor Insurance आएगा आपके काम

मूल्य के संदर्भ में, प्रचलन में 2,000 रुपये के नोट 19 मई को 3.56 लाख करोड़ रुपये से कम हो गए, जिस दिन वापसी की घोषणा की गई थी, 30 जून तक केवल 84,000 करोड़ रुपये रह गए।

आरबीआई ने कहा कि वापस आए नोटों में से 87 प्रतिशत को जनता ने बैंक खातों में जमा कर दिया है, जबकि शेष 13 प्रतिशत को अन्य मूल्यवर्ग में बदल दिया गया है।

READ ALSO |  LIC की शानदार पॉलिसी, सिर्फ 246 रुपये लगाए, मैच्योरिटी पर मिलते हैं 52 लाख

मंत्री ने आगे कहा कि आरबीआई के अनुसार, निकासी एक मुद्रा प्रबंधन ऑपरेशन था जिसे जनता को किसी भी असुविधा या अर्थव्यवस्था में किसी भी व्यवधान से बचने के लिए योजनाबद्ध किया गया था। आपको बता दें कि साल 2016 में मोदी सरकार का पहला बड़ा फैसला नोटबंदी था. इसके बाद ही 2000 हजार और 500 के नए नोट लाए गए, जहां अब 2000 के नोट फिर से वापस ले लिए गए हैं.

और पढ़िए – देश से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहां पढ़ें

joinwhatsappclick here

NO: 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Talkaaj.com (बात आज की)

Talkaajहिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज हिंदी में सबसे पहले पढ़ें Talkaaj.com (बात आज की) पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट टॉकआज (Talkaaj) पर पढ़ें मनोरंजन, खेल जगत, बिज़नेस, सरकारी योजनायें , पैसे कैसे कमाए, टेक्नोलॉजी ,ऑटो हटके खबरें से जुड़ी ख़बरें।Also Follow Me For All Information And Updates??

Posted by Talk Aaj.com

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Google News Follow Me
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
Picture of TalkAaj

TalkAaj

हैलो, मेरा नाम PPSINGH है। मैं जयपुर का रहना वाला हूं और इस News Website के माध्यम से मैं आप तक देश और दुनिया से व्यापार, सरकरी योजनायें, बॉलीवुड, शिक्षा, जॉब, खेल और राजनीति के हर अपडेट पहुंचाने की कोशिश करता हूं। आपसे विनती है कि अपना प्यार हम पर बनाएं रखें ❤️

Leave a Comment

Top Stories