Homeअन्य ख़बरेंकारोबार38 करोड़ असंगठित श्रमिकों के जीवन में कैसे बदलाव लाएगा E-Shram Card...

38 करोड़ असंगठित श्रमिकों के जीवन में कैसे बदलाव लाएगा E-Shram Card , क्यों जरूरी है यह कार्ड, जानिए डिटेल्स

38 करोड़ असंगठित श्रमिकों के जीवन में कैसे बदलाव लाएगा E-Shram Card , क्यों जरूरी है यह कार्ड, जानिए डिटेल्स

E-Shram Card : ई-श्रम कार्ड के जरिए देश के करीब 38 करोड़ असंगठित मजदूरों का डाटा तैयार किया जाएगा. ई-श्रम कार्ड (E-Shram Card) योजना से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को लाभ होगा। इस योजना से देश के 38 करोड़ से अधिक श्रमिक संगठित हो सकेंगे। इस कार्ड की खास बात यह है कि आने वाले समय में सरकार की सामाजिक सुरक्षा से जुड़ी जो भी योजनाएं, कामगारों को उनका लाभ दिया जाएगा. उन्हें एक कार्ड भी दिया जाएगा, जिसके माध्यम से यदि श्रमिक दूसरे राज्यों में काम पर जाते हैं, तो उन्हें अपने कौशल के आधार पर काम करने का मौका मिलेगा।

क्या है ई-श्रम कार्ड

देश के करीब 38 करोड़ असंगठित मजदूरों का डाटा ई-श्रम कार्ड (E-Shram Card) के जरिए तैयार किया जाना है। इस कार्ड पर उनका 12 अंकों का यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (UAN) जेनरेट होगा। जिस पर उनके कार्य क्षेत्र और परिवार से जुड़ी सभी जानकारी उपलब्ध होगी। इससे उन्हें सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी सुविधाएं बिना किसी रुकावट के मिल सकती हैं।

यह भी पढ़िए| Good News! किसानों के खाते में 6000 की जगह आएंगे पूरे 36000 रुपये, जानिए लाभ कैसे उठाएं?

ई-श्रम कार्ड क्यों जरूरी है?

दरअसल देखा गया कि देश में असंगठित क्षेत्र में तीन से चार तरह के मजदूर या मजदूर काम कर रहे हैं, जिन्हें मदद की काफी जरूरत है. इसमें ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि कार्य करने वाले या कठिन परिश्रम करने वाले, अन्य जो शहरों में घरों में काम करते हैं आदि। वहीं, तीसरा जो स्वयं का रोजगार करते हैं, जैसे रेहड़ी-पटरी, पटरी। इसके अलावा निर्माण कार्य में लगे मजदूरों को भी सामाजिक सुरक्षा की जरूरत है।

कोरोना काल में कई योजनाएं चलाई गईं, लेकिन उस समय समस्या यह थी कि कोई डेटाबेस या रिकॉर्ड नहीं था जिसके लिए श्रमिक या श्रमिक पहुंच पाएंगे या नहीं। ऐसा इसलिए क्योंकि ये मजदूर एक जगह नहीं रहते हैं। जहां काम मिलता है वहीं जाते हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में कॉमन सर्विस सेंटर कर रहे मदद

कामगारों को अपने पंजीकरण के लिए जगह-जगह यात्रा न करनी पड़े, इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर यानी सीएससी रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की गई है। लगभग हर गांव में कॉमन सर्विस सेंटर है और लोग वहां पहुंच रहे हैं. जहां तक ​​दस्तावेजों का सवाल है, मंत्रालय ने एक बहुत ही सरल प्रावधान रखा है। श्रमिक अपने आधार नंबर के साथ ही जा सकते हैं, अगर बैंक खाता आधार से जुड़ा है तो बैंक खाता भी देने की जरूरत नहीं है। कॉमन सर्विस सेंटर से 80 फीसदी से ज्यादा रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। अगर कोई खुद करना चाहता है तो www.eshram.gov.in पोर्टल के जरिए कर सकता है।

यह भी पढ़िए |  PM Kisan की नई सूची से किसका नाम हटाया गया? ऐसे चेक करें अपने पूरे गांव की लिस्ट

आप इन जगहों से भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं

एक राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर- 14434 भी शुरू किया गया है। जिस पर आप कॉल करके किसी भी समस्या का समाधान पा सकते हैं। यहां यह जानना भी जरूरी है कि सिर्फ सीएससी, लेबर ऑफिस ही नहीं या आप फोन के जरिए भी अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। बता दें कि ई-श्रमिक (E-Shram Card)  पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के बाद कार्ड दिया जाएगा। जिस पर यूएन का नंबर दिया जाएगा, जो बेहद अहम है। इस नंबर पर कार्यकर्ता के परिवार के सदस्यों आदि की जानकारी होगी।

इस सरकारी डेटाबेस में पीएम श्रम योगी मानधन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और पीएम जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) सहित सामाजिक सुरक्षा (पेंशन, बीमा) योजनाओं को जोड़ा जाएगा। इस डेटाबेस प्लेटफॉर्म के माध्यम से असंगठित श्रमिक इन योजनाओं का लाभ लेने के लिए पंजीकरण करा सकेंगे। श्रम मंत्रालय ने ई-श्रम पोर्टल पर असंगठित श्रमिकों के पंजीकरण के लिए लगभग 404 करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी दी है।

यह भी पढ़िए | Amul, Post office या Aadhar की फ्रेंचाइजी (Franchise) लेकर अपना कारोबार शुरू करें हर महीने लाखों की कमाई,  तरीका जानिए

ई-श्रम पोर्टल और कार्ड से जुड़ी कुछ जरूरी बातें

  • देश के असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए एक ई-श्रम पोर्टल है।
  • देश के हर मजदूर का रखा जाएगा रिकॉर्ड
  • मिलेगा पीएम श्रम योगी मानधन योजना का लाभ
  • मिलेगा प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लाभ
  • प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के दायरे में आएंगे श्रमिक
  • मुश्किल समय में श्रमिकों को मिलेगा योजनाओं का लाभ
  •  ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराकर 25 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा
  • दुर्घटना बीमा पर एक साल का प्रीमियम देगी सरकार
  • पंजीकृत श्रमिक की मृत्यु होने पर परिवार को 2 लाख रुपये मिलेंगे, जबकि पूर्ण रूप से अपंग होने की स्थिति में कार्यकर्ता को 2 लाख रुपये मिलेंगे। के हकदार होंगे
  • आंशिक रूप से विकलांगों को मिलेंगे 1 लाख रुपये
  • पूरे देश में मान्य होगा ई-श्रम कार्ड
  • दूसरे राज्यों में भी काम मिलना होगा आसान
  • देश के करोड़ों असंगठित कामगारों को मिलेगी पहचान

यह भी पढ़िए | PM Kisan FPO Yojana: किसानों को दे रही है 15 लाख रुपये की मदद, तुरंत करें आवेदन; यहां जानिए प्रक्रिया

इस आर्टिकल को शेयर करें

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए –

TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Whatsapp से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Telegram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Instagram से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Youtube से जुड़े
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप को Twitter पर फॉलो करें
TalkAaj (बात आज की) के समाचार ग्रुप Facebook से जुड़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments