Homeधर्म आस्थाआस्था का शिखर: जगतपुरा 4 एकड़ में बनेगा, राज्य का सबसे ऊंचा...

आस्था का शिखर: जगतपुरा 4 एकड़ में बनेगा, राज्य का सबसे ऊंचा 200 फीट का Shree Krishna Temple

आस्था का शिखर: जगतपुरा 4 एकड़ में बनेगा, राज्य का सबसे ऊंचा 200 फीट का Shree Krishna Temple

100 फीट चौड़ी दुनिया की सबसे बड़ी छतरी होगी

राजस्थान में, ठाकुर जी का सबसे लंबा 200 फीट का मंदिर जगतपुरा में तैयार किया जा रहा है। 70 करोड़ रुपये की लागत से 4 एकड़ (लगभग 4 लाख वर्ग फुट) में बनाया जा रहा यह मंदिर 2024 में भक्तों के लिए खुलेगा। वर्तमान में मंदिर का 70% हिस्सा तैयार है। इस मंदिर में 100 फीट से अधिक चौड़ाई की दुनिया की सबसे बड़ी मेहराबदार छतरियां भी बनाई जा रही हैं।

राधा-कृष्ण-बलराम और गौड़-नितई की प्रतिमा 108 कलात्मक मोरों से सुसज्जित होगी, जबकि इसके पास में सीता-राम-लक्ष्मण और हनुमानजी की मूर्ति होगी। यह मंदिर, राजस्थानी और आधुनिक शिल्प कौशल का अनूठा संयोजन, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक ज्ञान का केंद्र भी होगा।

ये भी पढ़े:- सावधान! क्या आपको यह मैसेज आया तो नहीं? गृह मंत्रालय ने Alert भी जारी किया

आधुनिक और पारंपरिक राजस्थानी वास्तुकला

हरे कृष्ण आंदोलन, जयपुर के अध्यक्ष अमितासन दास बताते हैं कि मंदिर की वास्तुकला आधुनिक और पारंपरिक राजस्थानी वास्तुकला का मिश्रण है। राजस्थान के कई पारंपरिक मंदिरों और ऐतिहासिक स्मारकों में पाए जाने वाले स्थापत्य तत्वों का उपयोग मंदिर निर्माण में किया जा रहा है। एनीमेशन, लाइट एंड वाटर शो, एनिमेट्रॉनिक्स आदि से वेद पुराण का ज्ञान आधुनिक तकनीकों के साथ प्रस्तुत किया जाएगा।

ये भी पढ़े:- सावधान! क्या आपको यह मैसेज आया तो नहीं? गृह मंत्रालय ने Alert भी जारी किया

मंदिर इस तरह बनाया जा रहा है

  • मंदिर परिसर का क्षेत्रफल 4 एकड़
  • कुल निर्मित क्षेत्र 4 लाख वर्ग फुट।
  • मंदिर की अनुमानित ऊंचाई 200 फीट है
  • मुख्य मंदिर परिसर 15000 फीट
  • 30 मीटर (100 फीट) की लंबाई के साथ दुनिया का सबसे बड़ा कमांड छाता।
  • प्रवेश के लिए 66 फुट ऊंचे मयूरद्वार में 108 मोर का आंकड़ा।
  • कई राजस्थानी स्थापत्य रूपों का उपयोग होगा जैसे पेंटिंग, पत्थर की मूर्तिकला, कांच के जड़ना का काम, पत्थर की जड़, अनारिशी का काम।
  • सीढ़ियों के साथ अन्य 6 प्रवेश द्वार होंगे।
  • हॉल में एक साथ 3000 भक्त दर्शन कर सकेंगे।
  • विश्व शांति के लिए हरिनाम जप मंडप और यज्ञ शाला भी होगी।
  • हरि नाम मंडपम 108 हरिनाम स्कूलों से सुसज्जित होगा।

श्रील प्रभुपाद ने स्वप्न देखा, राजस्थान में वृंदावन जैसे ठाकुर जी का भव्य मंदिर भी बनाया गया

श्रील प्रभुपाद जयपुर में एक बड़ा कृष्ण बलराम मंदिर और सांस्कृतिक केंद्र स्थापित करना चाहते थे। श्रील प्रभुपाद ने 13 जुलाई 1975 को जयपुर के एक प्रमुख व्यक्ति महावीर प्रसाद जयपुरिया जी को एक पत्र लिखा और उनसे जयपुर में वृंदावन जैसा एक भव्य मंदिर बनाने का अनुरोध किया।

ये भी पढ़े:- रेलवे (Railways) ने जारी किया अलर्ट, अगर नहीं मानी तो 6 महीने की जेल होगी, भारी जुर्माना लगाया जाएगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments