Home देश कृषि कानूनों पर फिर बोले PM Modi: गुजरात में, कहा- किसानों के...

कृषि कानूनों पर फिर बोले PM Modi: गुजरात में, कहा- किसानों के लिए तैयार 24 घंटे, उनके कंधे से बंदूक चलाने वाले हार जाएंगे

कृषि कानूनों पर फिर बोले PM Modi: गुजरात में, कहा- किसानों के लिए तैयार 24 घंटे, उनके कंधे से बंदूक चलाने वाले हार जाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) मंगलवार को गुजरात के एक दिवसीय दौरे पर पहुंचे। यहां कच्छ में, उन्होंने डिसैलिनेशन प्लांट, देश की सबसे बड़ी सौर परियोजना और एक स्वचालित दूध प्रसंस्करण इकाई की आधारशिला भी रखी। प्रधानमंत्री ने एक बार फिर आंदोलनकारी किसानों को यहां से जाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि किसानों द्वारा बंदूकधारियों को हराया जाएगा।

प्रधान मंत्री के भाषण के बारे में 6 महत्वपूर्ण बातें

किसानों के हित के लिए 24 घंटे तैयार

कृषि सुधारों की मांग वर्षों से की जा रही थी। कई किसान संगठन हमेशा यह मांग करते रहे हैं कि खाद्यान्न को देश में कहीं भी बेचने का विकल्प दिया जाना चाहिए। विपक्ष में बैठे लोग अपनी सरकार के रहते यह कदम नहीं उठा सके। जब हमारी सरकार ने एक ऐतिहासिक कदम उठाया, तो विपक्ष के लोगों ने किसानों को भ्रमित करना शुरू कर दिया।

किसानों की हर समस्या के समाधान के लिए हम 24 घंटे तैयार हैं। कृषि पर खर्च कम करने, किसानों की आय बढ़ाने, कठिनाइयों को कम करने के लिए लगातार काम किया। मुझे देश के हर कोने से किसानों ने आशीर्वाद दिया है। मुझे विश्वास है कि किसानों के आशीर्वाद की ताकत भ्रम फैलाने वालों को हरा देगी, लोग राजनीति करने पर आमादा हैं, और जो किसानों के कंधे पर बंदूक रखते हैं।

ये भी पढ़े :इस महीने फिर से बढ़े LPG सिलेंडर के दाम, जानिए कितने रुपए देने होंगे अब

कच्छ में लोगों के पहुंचने पर सुरक्षा भी बढ़ गई

कच्छ तेजी से आगे बढ़ रहा है। इस सीमा क्षेत्र में तेजी से लोग आ रहे हैं। अब यहां से पलायन रुक गया है। लोग गांवों में वापस आ रहे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा पर इसका बड़ा प्रभाव पड़ता है। कच्छ, जो कभी सुनसान था, अब पर्यटन का केंद्र बन रहा है। कच्छ का सफेद रण, यहां का त्योहार दुनिया को आकर्षित करता है। उत्सव में औसतन 4-5 लाख लोग शामिल होते हैं।

15 दिसंबर का संयोग

जब भूकंप के बाद चुनाव हुए थे। परिणाम 15 दिसंबर था। लोगों ने हमारी पार्टी पर जमकर प्यार बरसाया। इस तिथि के साथ एक और संयोग जुड़ा है। हमारे पूर्वज एक अद्भुत के बारे में सोचते थे। 118 साल पहले (1902) इस दिन अहमदाबाद में एक औद्योगिक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया गया था। उनका विषय भानु थर्मामीटर था, एक उपकरण जो सूर्य की गर्मी से संचालित होता है। आज उन्होंने फिर से सूर्य से चलने वाले सौर ऊर्जा पार्क की आधारशिला रखी है।

ये भी पढ़े:- नए साल से Check Payment का नियम बदल जाएंगे, जानिए क्या बदला है

सौर ऊर्जा से प्रदूषण कम होगा

सीमा के पास पवनचक्की लगाने से भी सुरक्षा बढ़ेगी। यह बिजली के बिल को कम करने, प्रदूषण को कम करने, पर्यावरण को बहुत लाभान्वित करने में भी मदद करेगा। यहां पैदा होने वाली बिजली 50 मिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन को रोक देगी, 90 मिलियन पेड़ों को काटने से रोकेगी।

नर्मदा का पानी पहुंचने पर लोग रो पड़े

एक बार जब नर्मदा के पानी को कच्छ ले जाने की बात चल रही थी, तब लोगों ने इसे असंभव बताया, लेकिन ऐसा हुआ। पानी के संरक्षण के लिए लोग आगे आए। मैं उस दिन को नहीं भूल सकता जिस दिन नर्मदा का पानी यहाँ तक पहुँचा था। हर कच्छी की आँखों से आँसू बह रहे थे। गुजरात में पानी के लिए बनाए गए विशेष ग्रिड से लाखों लोग लाभान्वित हो रहे हैं। यह राष्ट्रीय स्तर पर जल जीवन मिशन का आधार बन गया। एक वर्ष के एक चौथाई के भीतर, 3 करोड़ घरों में पानी के पाइप पहुंचाए गए हैं।

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार ने दी मंजूरी, 1 जनवरी से बदल जाएगा आपका Mobile Number, ये बदलाव होंगे बड़े

इनोवेशन में गुजरात का मुकाबला नहीं

किसानों के लिए एक अलग नेटवर्क बनाया जा रहा है। उनके लिए नई लाइनें बनाई जा रही हैं। गुजरात किसानों के लिए नीतियां बनाने वाला पहला राज्य है। पहले सोलर पावर 16-17 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बेचा जाता था, आज वही बिजली 2-3 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बेची जा रही है। हमारी सौर ऊर्जा क्षमता में 16 गुना वृद्धि हुई है। इस क्षेत्र में 104 देशों का एक अध्ययन सामने आया है। इसमें कहा गया है कि भारत ने सौर ऊर्जा उपयोगकर्ताओं के बीच शीर्ष -3 देशों में जगह बनाई है।

ये तीन परियोजनाएं

मांडवी, कच्छ में बनाया जाने वाला डिसैलिनेशन प्लांट

मांडवी, कच्छ में डिसैलिनेशन प्लांट बनाया जाएगा। इसकी मदद से हर दिन 10 मिलियन (100 MLD) लीटर पानी को पीने के पानी में बदला जा सकता है। यह गुजरात में पानी की कमी को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इससे क्षेत्र के लगभग 8 लाख लोगों को पीने के पानी की आपूर्ति की जा सकती है। यह गुजरात में बनने वाले पांच डिसेलिनेशन प्लांटों में से एक होगा। इसी तरह के प्लांट दहेज, द्वारका, घोघा भावनगर और गिर सोमनाथ में बनाए जा रहे हैं।

121 करोड़ की लागत से बनने वाला मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट

स्वचालित दूध प्रसंस्करण और पैकेजिंग प्लांट कच्छ में बनाया जाएगा। इसे 121 करोड़ रु। रुपये की लागत से तैयार किया जाएगा। इसमें से हर दिन लगभग 2 लाख लीटर दूध लीटर संसाधित किया जा सकता है।

30 गीगावॉट (GW) तक बिजली बनेगी

यह हाइब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा पार्क कच्छ के विघकोट गाँव में बनाया जा रहा है। 72 हजार 600 हेक्टेयर में फैले इस ऊर्जा पार्क से 30 गीगावॉट तक बिजली पैदा की जा सकेगी। पवन और सौर ऊर्जा के भंडारण के लिए एक अलग क्षेत्र होगा।

ये भी पढ़े: चीन को लगेगा करारा झटका! भारत में लगाएगी Samsung Mobile Display यूनिट, करेगी 4825 करोड़ रुपये का निवेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments