इलेक्ट्रॉनिक मीडिया क्या है? | What Is Electronic Media

Electronic Media
Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया क्या है? | What Is Electronic Media

मीडिया प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (Electronic Media) के माध्यम से प्रकाशन, संपादन, लेखन या प्रसारण के कार्य को आगे बढ़ाने की कला है।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के संदर्भ में विभिन्न विद्वानों की राय

  • इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से होने वाला जनसंचार इलेक्ट्रॉनिक मीडिया है। (शिक्षाविद्: डॉ. प्रेमचंद पतंजलि)
  • इलेक्ट्रॉनिक मीडिया वह माध्यम है जो ऑडियो और विजुअल मोड के माध्यम से तत्काल जानकारी देता है। (रेडियो निर्माता डॉ. हरिसिंह पाल)
  • विशेष रूप से, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ऐसी शिक्षा को संदर्भित करता है जिसके माध्यम से एक व्यक्ति नई तकनीक के माध्यम से देश और विदेश की खबरों के अलावा अन्य जानकारी प्राप्त करता है। (वरिष्ठ पत्रकार मोहनदास नैमिशराय)

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जनसंचार का मुख्य माध्यम है। इससे हजारों मील दूर की गतिविधियों की लाइव जानकारी पल भर में उपलब्ध हो जाती है।

अशांत मन पत्रकारिता की जननी है।

रेडियो, टेलीविजन, सिनेमा, इंटरनेट और मल्टीमीडिया इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (Electronic Media) के घटक हैं। नई पत्रकारिता में समाचारों का प्रसार करना ही एकमात्र उद्देश्य नहीं है, बल्कि इसके उद्देश्य मनोरंजन, राय-विश्लेषण, समीक्षा, साक्षात्कार, घटना-विश्लेषण, विज्ञापन और कुछ हद तक समाज को प्रभावित करने में भी निहित हैं। मीडिया समाज का आईना होने के साथ-साथ जागरूकता लाने का भी माध्यम है।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का प्रसारण सिद्धांत

ध्वनि – ध्वनि ही एकमात्र ऐसा उपकरण है जो दृश्य चित्र बनाने में मदद करता है। घोड़ों की आवाज, युद्ध के मैदान का वर्णन, जानवरों और पक्षियों की चहचहाहट, बारिश की बूंदें, दरवाजे के खुलने की आवाज, चीजों की जोर से पीटने की आवाज, लाठी-डंडों की आवाज, चरम चाप की आवाज, बस और ट्रेन के आने की घोषणा, रेलवे मंच दृश्य, आदि का आनंद केवल रेडियो पर ध्वनि द्वारा लिया जा सकता है।

चित्रलेखन – ध्वनियों और चित्रों का एक साथ प्रसारण टेलीविजन की वास्तविक प्रक्रिया है। इसके प्रसारण में ध्वनि के साथ-साथ चित्रों के कलात्मक उपयोग पर विशेष ध्यान दिया जाता है।
संगीत – संगीत मनोरंजन का एक ऐसा साधन है जिससे मनुष्य ही नहीं बल्कि सांप और हिरण जैसे जानवर भी मोहित हो जाते हैं। संगीत से ही नाटकीयता का उदय होता है। रुचि बढ़ती है।

यह भी पढ़े:- WhatsApp पर फर्जी ख़बरों को इन 5 तरीकों से पता लगायें, जानें पूरी जानकारी

शूटिंग के समय कैमरा-निर्माता को शूटिंग सीक्वेंस का सीक्वेंस तय करना होता है। दूरदर्शन और फिल्म लेखन यानी शॉट, सीन, सीक्वेंस में थ्री (एस) का भरपूर इस्तेमाल होता है। वही लेखक दूरदर्शन और सिनेमा में सफल हो सकता है। जिन्हें अभिनय, गायन, फिल्मांकन और संपादन का पूरा ज्ञान है।

भाषा:- रेडियो की भाषा आम आदमी से जुड़ी हुई भाषा है, जो झोपड़ी से लेकर महल तक सुनी जाती है। जबकि टेलीविजन की भाषा एक खास वर्ग के लिए है। रेडियो पर आम बोलचाल की भाषा का प्रयोग किया जाता है। इस भाषा में क्षेत्रीय शब्दों का बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। जो अपनी परंपरा, संस्कृति और धर्म से जुड़े हुए हैं। वैश्वीकरण टेलीविजन की भाषा में है। विदेशी संस्कृति से संबंधित शब्दों का प्रयोग अधिक होता है। आजादी के 55 साल बाद भी छोटे शहरों में टेलीविजन की आवाज नहीं पहुंची है। रेडियो वहाँ पर है। वाक्य हमेशा छोटे होने चाहिए। साहित्यिक शब्द श्रोता की रुचि को नष्ट कर देते हैं।

संक्षिप्तता – इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एक समयबद्ध प्रसारण है, इसलिए बहुत कुछ कहना इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की विशेषता है।

रचनात्मक और मीडिया

कविताएँ, कहानियाँ, नाटक, रिपोर्ट, साक्षात्कार, विज्ञापन, अनुवाद, भाष्य, विशेषताएँ, यात्रा वृतांत, पुस्तक समीक्षा आदि साहित्य के रचनात्मक पहलू हैं। जब इनका संबंध रेडियो और टेलीविजन से जुड़ा होता है तो ये इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की श्रेणी में आते हैं।

पारंपरिक जनसंचार माध्यमों के माध्यम से प्राचीन काल से रचनात्मक शक्ति व्यक्त की जाती रही है, लेकिन आधुनिक जनसंचार माध्यमों ने निश्चित रूप से मनुष्य की रचनात्मक शक्ति में चार चाँद लगा दिए हैं।

कठपुतली, नौटंकी, तमाशा, ढोलक आदि माध्यमों से सृष्टि की अभिव्यक्ति होती रही और ये माध्यम अपनी पैठ बनाते रहे। फिर छपाई की कला आई। प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के रूप में मनुष्य की रचनात्मक शक्ति देखी गई। दोनों का अपना घर है। शब्द संरचना अलग है। भाषा अलग है। प्रस्तुत करने का तरीका बिल्कुल अलग है।
एक कहानी एक कहानी है। इसे सुनने की ललक शुरू से ही मनुष्य में रही है। घटना की मौलिकता को पारंपरिक कहानी का मुख्य गुण माना गया है।

यह भी पढ़े:- Aadhaar में नाम, पता और जन्मतिथि गलत हो गई है तो घर पर ही ठीक करें, बिना किसी टेंशन के हो जाएगा काम 

आगे क्या हुआ

कहानी के मुख्य तत्व कथानक, पात्र, देश, संवाद, भाषा शैली, उद्देश्य हैं। मीडिया की गोद में होने का मतलब है कि कहानी सर्वव्यापी होनी चाहिए। यानी बच्चे से लेकर बूढ़े तक इसका लुत्फ उठा सकते हैं। जब टेलीविजन के लिए कहानी लिखी जाती है, तो दृश्यों पर विशेष ध्यान दिया जाता है।

कहानी के दृश्यों को फिल्माने के लिए विभिन्न स्थानों, कोणों की योजना बनाने में एक विशेष प्रकार की साहित्यिक तकनीक का उपयोग किया जाता है, जिसे आज हम ‘पटकथा’ के रूप में जानते हैं। इस तकनीक में कहानी को संक्षिप्त रूप में लिखा जाता है। अनुवाद का अंत टा, ती है, ते है लेकिन होता है।

कहानी के मुख्य बिंदुओं का उल्लेख करते हुए अगले चरण का संकेत दिया गया है। कहानी के क्रमिक विकास को दर्शाया गया है। फिर दृश्य को दृश्यों में विभाजित किया जाता है। दृश्य-दर-दृश्य रूप में लिखी गई साहित्य की तकनीक को लिपि कहा जाता है। पटकथा के अंतिम संस्करण में कहानी के साथ-साथ कैमरा, ध्वनि, अभिनय आदि भी पूरी तरह से निर्देशित हैं।

पटकथा की भाषा के अलावा मीडिया से जुड़ी तकनीक का भी काफी ज्ञान होना जरूरी है। हर तरह के सीन को फिल्माने के लिए पहले ‘मास्टर शॉट’ लेना पड़ता है। इसके बाद सब्जेक्ट से जुड़ा शॉट लिया जाता है। मास्टर शॉट के बाद मिड शॉट और फिर दो शॉट के बाद क्लोजअप शॉट होता है।

यह भी पढ़े:- बड़ी खबर! 50 रुपये से कम के UPI ट्रांजेक्शन अब नहीं कर पाएंगे, जल्द ही बदलने जा रहे नियम

रिपोर्ताज सिर्फ एक रिपोर्ट नहीं है, बल्कि लेखक के लिए दिल, भावना और दो-दृष्टि वाले, संवेदनशील व्यक्तित्व का होना नितांत आवश्यक है। जो व्यक्ति इन बातों में लीन नहीं है, उसे केवल रिपोर्टर ही कहा जा सकता है। घटना का मार्मिक वर्णन रिपोर्ताज है।

  • एक अच्छा रिपोर्टर वह व्यक्ति हो सकता है जिसमें नाटकीयता, रुचि, उत्सुकता आदि के गुण हों।
  • शहरों, पहाड़ों, झीलों, सम्मेलनों आदि विषयों पर अच्छी रिपोर्ट लिखी जाती है।
  • प्रिंट मीडिया से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अक्सर विषय विशेषज्ञों, लेखकों, कलाकारों, राजनेताओं, समाज सुधारकों आदि के साक्षात्कार बहुतायत में लिखे जाते हैं।

इस विधा के माध्यम से दो व्यक्तियों की मानसिकता को पढ़ा, सुना और देखा जा सकता है। एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से बात करके सत्य के स्तर तक पहुँच जाता है।

15 अगस्त, 26 जनवरी, राष्ट्रीय नेता का अंतिम संस्कार जुलूस, जब हम रेडियो और टेलीविजन पर खेल की आंखों और आंखों को सुनते हैं, तो इसे कमेंट्री कहा जाता है।

कमेंटेटर को घटना के हर विवरण का वर्णन करना होता है। खेल कमेंट्री उत्तेजक और रोमांचक है जबकि अंतिम संस्कार का जुलूस भावनाओं से भरा होता है।

चाहे वह रेडियो के लिए हो या टेलीविजन के लिए, कमेंटेटर का लहजा घटना के लिए उपयुक्त होना चाहिए।
सामग्री को पहले अच्छी तरह से पढ़ा जाना चाहिए।

इस विधा में उच्चारण पहला गुण है। साथ ही टेक्निकल नॉलेज भी होनी चाहिए।

यह भी पढ़े:- अगर आप बेवजह ई-मेल से हैं परेशान तो Gmail पर ऐसे करें आईडी ब्लॉक, जानिए पूरी प्रक्रिया

समाचार लेख

रेडियो समाचार बुलेटिन और समाचार दर्शन रेडियो समाचार के दो रूप हैं। बुलेटिन में देशी-विदेशी खबरों को रखा जाता है। घरेलू और विदेशी समाचार का अर्थ है कि जब समाचार पूरे देश से संबंधित होता है, तो उसे राष्ट्रीय स्तर का समाचार कहा जाता है, लेकिन जहां समाचार का स्वर राष्ट्रीय स्तर पर नहीं बल्कि राज्य स्तर पर होता है, तो उसका प्रसारण किया जाता है। रेडियो पर प्रसारित होने वाले समाचारों को हम बुलेटिन कहते हैं। जबकि समाचार दर्शन का अर्थ उस समाचार से है जिसमें खेल प्रतियोगिता, दुर्घटना स्थल, बाढ़ दर्शन, साक्षात्कार, व्याख्यान, रोचक घटनाओं का वर्णन आता है।

बोलने से पहले समाचार को छोटे और सरल वाक्यों में कागज पर लिखा जाता है। इस लिखित रूप को रेडियो-लिपि कहा जाता है। सुनने वाले को हमेशा यह महसूस करना चाहिए कि न्यूज रीडर जोर से बोल रहा है।

रेडियो समाचार की भाषा सरल होनी चाहिए। साहित्यिक भाषा कभी भी कारक नहीं होनी चाहिए। यह मानकर लिखा जाना चाहिए कि मुझे एक अनपढ़ व्यक्ति को समाचार सुनाना है। समाचारों में दैनिक भाषा का प्रयोग किया जाना चाहिए।

वाक्य में उतने शब्द होने चाहिए जितने एक सांस में बोले जा सकते हैं। क्या, क्यों, कब, कहाँ, कौन और कैसे आदि छह शब्द रेडियो समाचार के मुख्य घटक हैं, इसलिए इन छह तत्वों को ध्यान में रखते हुए समाचार तैयार करना चाहिए।
रेडियो समाचार लेखन में तिथि के स्थान पर दिन का प्रयोग किया जाता है।

महीने और साल का नाम देने के बजाय, ‘आज’, रविवार, सोमवार या बस ‘इस सप्ताह’, ‘इस महीने’, अगले महीने, पिछले साल, अगले साल आदि शब्दों का प्रयोग किया जाता है। उपरोक्त शब्दों, अप्रसन्नता, अपर्याप्त संसाधनों आदि का क्रमशः प्रयोग नहीं करना चाहिए।

स्क्रिप्ट लिखते समय, पंक्तियाँ स्पष्ट होनी चाहिए, शब्द अलग-अलग होने चाहिए, कागज के दोनों किनारों पर समान मार्जिन के साथ और पृष्ठ समाप्त होने से पहले वाक्य समाप्त हो जाना चाहिए।

छोटी संख्याओं को हमेशा संख्याओं में और बड़ी संख्याओं को शब्दों में लिखना चाहिए। इसके भी दो तरीके हैं- पहला बारह हजार चार सौ पच्चीस, दूसरा 12 हजार चार सौ पच्चीस (12425)।

यह भी पढ़े:-  यह LIC Policy बच्चे को ‘लखपति’ बनाएगी, इस योजना को जन्म पर ही खरीद लीजिए

हेडलाइंस को हमेशा बोल्ड किया जाता है ताकि समाचार पाठक इसे जोर से पढ़ सकें।

अक्सर रेडियो पर 5,10,15 मिनट का समाचार बुलेटिन होता है। 2 मिनट का समाचार संक्षेप में दिया जाता है जबकि दस और पंद्रह मिनट का समाचार तीन चरणों में विभाजित किया जाता है। पहले चरण में मुख्य समाचार और दूसरे चरण में विस्तार से समाचार और अंतिम चरण में फिर से मुख्य समाचार बोले जाते हैं।
रेडियो पत्रकारिता एक समय सीमा के भीतर चलती है, इसलिए इस पत्रकारिता की विशेषता 20 या 30 शब्दों में समाचार तैयार करना है।

10 मिनट के बुलेटिन में चार से छह और 15 मिनट के बुलेटिन में छह से आठ हेडलाइन होते हैं। 15,000 शब्दों का बुलेटिन है।

टेलीविजन

टेलीविजन के लिए लिखने वाला व्यक्ति दृश्यों और छवियों के बारे में सोचता है। टेलीविजन समाचार के दो पहलू होते हैं। पहले पक्ष में समाचार लेखन के अलावा समाचार रचना, दृश्य रचना और संपादन का कार्य आता है। पढ़ने का काम दूसरी तरफ रखा गया है।

समाचार तैयार करते समय समाचार से संबंधित दृश्यता पर विशेष ध्यान दिया जाता है।
ग्राफ, डायग्राम और नक्शों का संयोजन भी एक तरह से किया जाता है। समय-सीमा का भी ध्यान रखना होगा।

एक टेलीविजन समाचार संपादक का काम बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है। समाचार के लिए दृश्य संलग्न करना। समाचार और दृश्य सामग्री की समय सीमा भी तय करनी होगी। टेलीविजन पर समाचार संवाददाता समाचार वाचक हो भी सकता है और नहीं भी।

चित्रों का संपादन – समाचारों का वाचन क्रम से करना होता है।

टेलीविजन समाचार को रेडियो की तरह तीन चरणों में बांटा गया है। पहले और तीसरे चरण को मुख्य समाचार कहा जाता है। दूसरा चरण विस्तार से खबर है। प्रत्येक बुलेटिन में छह या आठ शीर्षक होते हैं। शीर्षक संक्षिप्त हैं। संपादक समाचार की चार प्रतियां तैयार करता है। फ्लोर मैनेजर, रीडर और प्रोड्यूसर को एक-एक कॉपी दी जाती है। वह चौदहवीं प्रति अपने पास रखता है।

नवीनता, स्पष्टता, संक्षिप्तता और भाषा पर पूरा ध्यान देना चाहिए। अतः टेलीविजन समाचार कार्यक्रमों में चित्रात्मकता, संक्षिप्तता, बोलचाल की भाषा, रुचि के अतिरिक्त समय-सीमा को विशेष गुण माना गया है।

यह भी पढ़े:- WhatsApp पर गलती से भी गलती न करें ये गलतियां, नहीं तो आपको जेल भी जाना पड़ सकता है

समाचार पढ़ना

रेडियो वाचन

रेडियो प्रस्तुति के लिए स्वाभाविकता, आत्मीयता और विविधता को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए। प्रिंट मीडिया हमें 24 घंटे बाद खबर देता है जबकि रेडियो हमें तुरंत खबर देता है। रेडियो के माध्यम से हम हर घंटे देश-विदेश में होने वाली ताजा घटनाओं से अवगत होते हैं, लेकिन संचार के अन्य माध्यमों से यह संभव नहीं है।

रेडियो समाचार के तीन चरण होते हैं – पहले चरण में समाचार विभिन्न स्रोतों से संकलित किए जाते हैं। दूसरे चरण में समाचार का चयन किया जाता है और तीसरे चरण में समाचार लेखन आता है।

समाचार जनहित और राष्ट्रहित में होना चाहिए। समाचार संपादक केवल मान्यता प्राप्त मीडिया से समाचार स्वीकार करता है।

समाचार छोटे वाक्यों और सरल भाषा में लिखे जाते हैं। खबर छोटी और पूरी लिखी जाती है। समाचारों में आंकड़े कम ही दिए जाते हैं। समाचार लिखने के बाद समाचार संपादक एक बार फिर समाचार की समीक्षा करता है। फिर समाचार को ‘पूल’ में रखा जाता है। पूल का अर्थ है जहां से समाचार पाठक को पढ़ने के लिए समाचार दिया जाता है। पूल को तीन भागों में बांटा गया है – पहला भाग देश समाचार रखता है। इस पूल में राजनीतिक खबरें भी रखी जाती हैं। दूसरे भाग में विदेशी समाचारों को रखा गया है। खेल समाचार को तीसरे पूल में रखा गया है। हर बुलेटिन के लिए अलग पूल है। पार्लियामेंट न्यूज के लिए अलग पूल है।

बुलेटिन की सजीवता, सफलता और प्रभावशीलता संपादक के कौशल का प्रमाण है। समाचारों में विराम की व्यवस्था भी होती है। इस अवसर पर समाचार वाचक कहते हैं – ‘आप यह समाचार आकाशवाणी से सुन रहे हैं, या यह समाचार आकाशवाणी से प्रसारित किया जा रहा है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और  टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और  ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Facebook
Twitter
Telegram
WhatsApp
Print

Leave a Comment

Top Stories

PAN Card Users

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह

PAN Card Users सावधान! सरकार ने दी चेतावनी इन लोगों को देना होगा 10,000 का जुर्माना या होगी जेल, जानिए वजह PAN Card Users :

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker

Refresh Page